Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Jul 2023 · 5 min read

फितरत…………….एक आदत

सच तो इंसान की फितरत बदलती रहती हैं बस हम सभी जीवन‌ के सच में हम सभी एक दूसरे के लिए जीवन में कुछ न कुछ सोचते रहती हैं और फितरत ही इंसान की ऐसी होती है कि वह समय के अनुसार बदलजाती है बस यही फितरत आदत या चालबाजी या चालाकी यही हम सब मानव के संस्कारों के अनुसार आती है और फितरत एक परिवारिक संस्कार भी होता है बहुत से बड़े बुजुर्गों ने कहा था हम सभी को याद हो तो कि परिवार और संस्कार बहुत जरूरी होती हैं इसीलिए हम सभी हमारे बड़े बुजुर्ग बहुत जल्दी किसी की चालाकी फितरत जान जाते थे। आज एक कहानी फितरत ऐसे ही एक आधुनिक समाज के साथ जुड़ी है
कविता एक बहुत अच्छे परिवार की समझदार लड़की है और वह स्नातक कक्षा में पढ़ाई कर रही है और और लड़की हो या लड़का सबकी अपनी अपनी आदत फितरत होती है कविता की भी एक आदत या फितरत है जो मन में निश्चय कर ले वह कर कर छोड़ती है आधुनिक समाज की कविता अच्छे डीलडोल और रंग रूप की सुंदर 20 वर्षीय नवयुवती है। और कविता का जुनून अपनी पढ़ाई की बात विधिक की पढ़ाई में करने की है और उसे आधुनिक समाज के संस्कारों से कोई लगाव नहीं है वही उसी की स्कूल कॉलेज में एक नवीन नाम का लड़का पढ़ता है वह स्कूल से पहले और स्कूल की बात एक प्रेस की दुकान चलाता है और सभी लोगों के कपड़े प्रेस करके उनके घर पर जाता है क्योंकि नवीन एक अनाथ और बेसहारा लड़का है कविता की मुलाकात नवीन से होती है और नवीन और कविता एक अच्छे दोस्त बन जाते हैं नवीन कविता के परिवार के कपड़ों को भी प्रेस करके उसके घर लेकर आता है नवीन को कविता की मां बहुत पसंद करती है और वह कहती है बेटा तुम अपना काम क्यों नहीं बदल देते नवीन कहता है की और वह मा जी काम बदलने के लिए पैसा चाहिए मेरे पास नहीं है।
एक दिन कविता घर पर अकेली होती है और नवीन प्रेस के कपड़े देने घर आता है बस कविता नवीन से पूछ बैठी है नवीन तुम्हारा जीवन में क्या उद्देश्य है नवीन कहता है ना मेरे माता-पिता ना मेरा कोई सहारा ऐसे व्यक्ति का जीवन में क्या उद्देश हो सकता है आप ही बताएं क्या मुझसे कोई रिश्ता बनाएगा नहीं क्योंकि मैं एक अनाथ और बेसहारा छोटे से काम का करने वाला हूं अब आप ही बताइए। कविता की फितरत या तो आदत वह नवीन से कह देती है कि तुम मुझसे शादी करोगे नवीन इस बात को सुनकर कविता को देखता रहता है और कहता है आप निर्णय सोच समझ कर ले तब कविता कहती है मैंने निर्णय सोच समझ कर ही लिया है और इतनी में बाजार से कविता की मां घर आ जाती है और दोनों की बातों को वह सुन लेती है। कविता की मां कविता की फितरत को जानती है कि वह कैसी सोच रखती है तब मां नवीन से कहती है बैठो बेटा और कविता को कमरे में ले जाती है कविता से कहती है तुम नवीन के साथ यह कौन सा खेल खेल रही हो कविता कहती है मां आज के संस्कारों को मैं नहीं समझती और ना ही मैं किसी एक के साथ जीवन बीता सकती हूं तब कविता की मां कविता से कहती है तभी तो मैं नवीन तेरे बारे में कुछ नहीं बता रही हूं सोच उस नवीन का भविष्य बिगाड़ कर क्या मिलेगा तुझे तब कविता कहती है मां मेरी तो फितरत आदत ऐसी है क्योंकि जीवन में मुझे भी तो इस समाज ने नहीं बख्शा मेरे साथ जो घटना बचपन में हुई थी वह मुझे आज भी याद है कविता की मां कहती है बेटा वह घटना थी उसका नवीन से क्या मतलब है कविता कहती है यह पुरुष जाति ऐसी है पुरुष की फितरत कब बदल जाए नहीं कहा जा सकता तब कविता की मां कविता से कहती है बेटी तुम भी तो यही कर रही हो तब कविता क्या थी तो मैं इसमें बुराई क्या है जो मेरे साथ भी था मैं भी तो देखूं दूसरों के साथ बिकता है तो कैसे लगता है तक अभी तक मां कहती है तुम्हारी मर्जी और चाय लेकर नवीन के पास चली जाती है और नवीन चाय पी कर चलने लगता है तब इनकी मां कहती है बेटा कविता की बात कब और करना ठीक है मामा जी आप भी कह रही हैं तो मुझे कोई एतराज नहीं है और कविता नवीन से आर्य समाज विधि से विवाह कर लेती है और किसी को इस बात की भनक नहीं लगने देती है। और जब वह नवीन की बच्चे की मां बन जाती है तब नवीन से तलाक ले लेती है नवीन इस बात को समझ नहीं पाता है और वह बहुत विनती करता है यह गलत है यह गलत है हमारा परिवार बन गया है अब तुम क्या कर रही हो कविता मुझसे क्या गलती हुई है तब कहती है कविता मुझे पुरुष समाज से बचपन में आज तक ऐसे ही धोखे मिले हैं अब मैं भी देखना चाहती हूं कि एक पुरुष भी धोखा खाकर कैसा महसूस करता है तब नवीन कहता है तुम दूसरों का दोष मेरे साथ क्यों निकाल रही हो तब कविता कहती है पुरुष की फितरत ही कुछ ऐसी होती है तो हम महिलाएं भी पुरुष की फितरत की तरह क्यों ना बने ऐसा सुनकर नवीन अवाक रह जाता है और वह कविता से पुनः विनती करता है यह गलत है सभी पुरुष और सभी नारी एक जैसी नहीं होती किसी के साथ कुछ घटना हो जाती है तो उस घटना का सजा सभी के साथ ऐसा तो नहीं करना चाहिए। कविता नहीं मानती है और तलाक के पेपर साइन करके नवीन क्यों दे देती है और कह देती है तुम अभी इसी वक्त मेरे घर से निकल जाओ नवीन मन मन मैं कहता है बाहरी नारी तेरी फितरत पता नहीं कब क्या करने की ठान लेती है। और नवीन बुझे टूटे मन से कविता के घर के घर से आंखों में आंसू लेता हुआ निकलता है और मन ही मन नारी की फितरत के बारे में सोचता हुआ वही अपनी प्रेस की दुकान पर पहुंच जाता है

फितरत कहानी का किसी की जीवन से कोई लेना देना नहीं है यह कल्पना मात्र लेखक की सोच है परंतु किसी के जीवन और संस्कार से कहानी अगर मेल खाती है तो यह इत्तेफाक है और पाठक गण कहानी को कहानी की तरह मनोरंजन के रूप में पढ़ें और अपनी राय दें धन्यवाद

2 Likes · 338 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तेरी तस्वीर को लफ़्ज़ों से संवारा मैंने ।
तेरी तस्वीर को लफ़्ज़ों से संवारा मैंने ।
Phool gufran
गीत प्यार के ही गाता रहूं ।
गीत प्यार के ही गाता रहूं ।
Rajesh vyas
कुछ बिखरे ख्यालों का मजमा
कुछ बिखरे ख्यालों का मजमा
Dr. Harvinder Singh Bakshi
"हाशिया"
Dr. Kishan tandon kranti
मैं निकल गया तेरी महफिल से
मैं निकल गया तेरी महफिल से
VINOD CHAUHAN
*रिश्ते*
*रिश्ते*
Dushyant Kumar
सिर्फ तुम
सिर्फ तुम
Arti Bhadauria
नव प्रस्तारित छंद -- हरेम्ब
नव प्रस्तारित छंद -- हरेम्ब
Sushila joshi
23/05.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
23/05.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
मुझको बे'चैनियाँ जगा बैठी
मुझको बे'चैनियाँ जगा बैठी
Dr fauzia Naseem shad
*Love filters down the soul*
*Love filters down the soul*
Poonam Matia
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
अपने जमीर का कभी हम सौदा नही करेगे
अपने जमीर का कभी हम सौदा नही करेगे
shabina. Naaz
यादों की शमा जलती है,
यादों की शमा जलती है,
Pushpraj Anant
■ इनका इलाज ऊपर वाले के पास हो तो हो। नीचे तो है नहीं।।
■ इनका इलाज ऊपर वाले के पास हो तो हो। नीचे तो है नहीं।।
*प्रणय प्रभात*
"किसान"
Slok maurya "umang"
!! जलता हुआ चिराग़ हूँ !!
!! जलता हुआ चिराग़ हूँ !!
Chunnu Lal Gupta
पापा
पापा
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
*नव-संसद की बढ़ा रहा है, शोभा शुभ सेंगोल (गीत)*
*नव-संसद की बढ़ा रहा है, शोभा शुभ सेंगोल (गीत)*
Ravi Prakash
कैसे कांटे हो तुम
कैसे कांटे हो तुम
Basant Bhagawan Roy
बिटिया की जन्मकथा / मुसाफ़िर बैठा
बिटिया की जन्मकथा / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
Charlie Chaplin truly said:
Charlie Chaplin truly said:
Vansh Agarwal
*भारतीय क्रिकेटरों का जोश*
*भारतीय क्रिकेटरों का जोश*
Harminder Kaur
हिरनी जैसी जब चले ,
हिरनी जैसी जब चले ,
sushil sarna
स्त्री
स्त्री
Shweta Soni
World Dance Day
World Dance Day
Tushar Jagawat
लव यू इंडिया
लव यू इंडिया
Kanchan Khanna
गुरु सर्व ज्ञानो का खजाना
गुरु सर्व ज्ञानो का खजाना
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
सुस्ता लीजिये थोड़ा
सुस्ता लीजिये थोड़ा
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
मुक्तक
मुक्तक
प्रीतम श्रावस्तवी
Loading...