Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Mar 2023 · 1 min read

फिक्र (एक सवाल)

रहता है जहन मे एक सवाल कि कल क्या होगा।
हो गई है आज तो सुबह से शाम पर कल क्या होगा।।
लिखती है रोज इक इबारत पलटता रोज एक पन्ना।
लेखनी है जिसकी उसे है पता की कल क्या होगा।।
फिक्र क्या कि मिलती हैं जिन्हे दो जून की रोटियां।
मुश्किल से सुलगा है आज चूल्हा पर कल क्या होगा।।
भरी हैं तिज़ोरियां जिनकी उन्हें क्या पता गरीबी का।
मजूरी लेके आ गया है वो आज तो पर कल क्या होगा।।
उन्हें क्या अहसास की खेलते हैं छतों पर बच्चे जिनके।
टूटी है छप्पर झोपड़ी की गर हुई बरसात तो क्या होगा।।
रोजी रोटी की तलास से लौटा है फिर एक आदमी।
निकलेगा उम्मीद लेकर दिल में पर कल क्या होगा।।
महफूज हैं बेटियां अभी तक तो घरों में अपने।
जायेंगी जब बाहर घर से बेटियां तब क्या होगा।।
फिक्र से क्या हासिल पर लाज़िमी है फिकर करना।
हाथ की लकीरों में कहां लिखा है की कल क्या होगा।।
उमेश मेहरा
गाडरवारा (एम पी)

1 Like · 206 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
प्रतीक्षा में गुजरते प्रत्येक क्षण में मर जाते हैं ना जाने क
प्रतीक्षा में गुजरते प्रत्येक क्षण में मर जाते हैं ना जाने क
पूर्वार्थ
फितरत
फितरत
Dr. Seema Varma
पागल
पागल
Sushil chauhan
"मनुष्य"
Dr. Kishan tandon kranti
होना नहीं अधीर
होना नहीं अधीर
surenderpal vaidya
सहज - असहज
सहज - असहज
Juhi Grover
रमेशराज के 2 मुक्तक
रमेशराज के 2 मुक्तक
कवि रमेशराज
साईकिल दिवस
साईकिल दिवस
Neeraj Agarwal
जलन इंसान को ऐसे खा जाती है
जलन इंसान को ऐसे खा जाती है
shabina. Naaz
,✍️फरेब:आस्तीन के सांप बन गए हो तुम...
,✍️फरेब:आस्तीन के सांप बन गए हो तुम...
पं अंजू पांडेय अश्रु
■ भूमिका (08 नवम्बर की)
■ भूमिका (08 नवम्बर की)
*Author प्रणय प्रभात*
दिल में उम्मीदों का चराग़ लिए
दिल में उम्मीदों का चराग़ लिए
_सुलेखा.
मुक़द्दर में लिखे जख्म कभी भी नही सूखते
मुक़द्दर में लिखे जख्म कभी भी नही सूखते
Dr Manju Saini
'गुमान' हिंदी ग़ज़ल
'गुमान' हिंदी ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
अलविदा नहीं
अलविदा नहीं
Pratibha Pandey
विश्वास का धागा
विश्वास का धागा
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
🥀*✍अज्ञानी की*🥀
🥀*✍अज्ञानी की*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
*सभी ने सत्य यह माना, सभी को एक दिन जाना ((हिंदी गजल/ गीतिका
*सभी ने सत्य यह माना, सभी को एक दिन जाना ((हिंदी गजल/ गीतिका
Ravi Prakash
15🌸बस तू 🌸
15🌸बस तू 🌸
Mahima shukla
प्यार का इम्तेहान
प्यार का इम्तेहान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मैं गीत हूं ग़ज़ल हो तुम न कोई भूल पाएगा।
मैं गीत हूं ग़ज़ल हो तुम न कोई भूल पाएगा।
सत्य कुमार प्रेमी
छोड़ऽ बिहार में शिक्षक बने के सपना।
छोड़ऽ बिहार में शिक्षक बने के सपना।
जय लगन कुमार हैप्पी
* इंसान था रास्तों का मंजिल ने मुसाफिर ही बना डाला...!
* इंसान था रास्तों का मंजिल ने मुसाफिर ही बना डाला...!
Vicky Purohit
ఇదే నా భారత దేశం.
ఇదే నా భారత దేశం.
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
ये कमाल हिन्दोस्ताँ का है
ये कमाल हिन्दोस्ताँ का है
अरशद रसूल बदायूंनी
2971.*पूर्णिका*
2971.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कुछ भी तो इस जहाँ में
कुछ भी तो इस जहाँ में
Dr fauzia Naseem shad
मैथिली पेटपोसुआ के गोंधियागिरी?
मैथिली पेटपोसुआ के गोंधियागिरी?
Dr. Kishan Karigar
मेरी ज़िन्दगी का सबसे बड़ा इनाम हो तुम l
मेरी ज़िन्दगी का सबसे बड़ा इनाम हो तुम l
Ranjeet kumar patre
संवेदना(फूल)
संवेदना(फूल)
Dr. Vaishali Verma
Loading...