Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Jun 2023 · 1 min read

फागुन

फागुन
******

बीता पूस माघ, अब फाल्गुन आयेगा;
अब बसंती कोयल, नित खूब गाएगा।

हवा में रंग उड़ेंगे, खूब गुलाल बिखरेंगे;
हर तन-मन को ही , ये फागुन भाएगा।

ये मौसम सुहाना, हवा से दवा मिलेगी;
जो प्रातः जागेगा,उसे सूर्यदया मिलेगी।

जले होलिका रूपी बुराई, लगी आग में;
मग्न दिखते हैं सभी,अब फगुआ राग में।

खेत लहलहाए , कुसुमित सरसों पीली;
बाग बगीचों में, खिलते पुष्प रंग-रंगीली।

आम्र वन में भी अब , खूब महके मंजर;
मन में मोर नाचे,प्रकृति का चहके मंजर।

रंगीली मास में रंग लगा, सब बने जोकर;
मिलते हैं सब अपने,निज दुश्मनी खोकर।

कोई नाचे कोई गाए , सब खुशी मनाए;
इसी फगुआ में, महादेव की बरात आए।

बाजार सजे अब, रंग और पिचकारी से;
हुरदंग मचे , रंगबाजो के किलकारी से।

होली है, होली है, फागुन में ये सब गाए;
मिल जुल कर,पूरा देश ही होली मनाए।
______________?______________
स्वरचित सह मौलिक;
……..✍️
©/® पंकज कर्ण
कटिहार(बिहार)।

Language: Hindi
384 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from पंकज कुमार कर्ण
View all
You may also like:
श्रीराम किसको चाहिए..?
श्रीराम किसको चाहिए..?
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
जागो बहन जगा दे देश 🙏
जागो बहन जगा दे देश 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
"जीवन का सबूत"
Dr. Kishan tandon kranti
याद - दीपक नीलपदम्
याद - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
शिक्षा और संस्कार जीवंत जीवन के
शिक्षा और संस्कार जीवंत जीवन के
Neelam Sharma
जिसका इन्तजार हो उसका दीदार हो जाए,
जिसका इन्तजार हो उसका दीदार हो जाए,
डी. के. निवातिया
दर्द
दर्द
Dr. Seema Varma
बसंत
बसंत
Bodhisatva kastooriya
यूँ ही क्यूँ - बस तुम याद आ गयी
यूँ ही क्यूँ - बस तुम याद आ गयी
Atul "Krishn"
कोई नाराज़गी है तो बयाँ कीजिये हुजूर,
कोई नाराज़गी है तो बयाँ कीजिये हुजूर,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
एक गुनगुनी धूप
एक गुनगुनी धूप
Saraswati Bajpai
*Deep Sleep*
*Deep Sleep*
Poonam Matia
व्यावहारिक सत्य
व्यावहारिक सत्य
Shyam Sundar Subramanian
*तन पर करिएगा नहीं, थोड़ा भी अभिमान( नौ दोहे )*
*तन पर करिएगा नहीं, थोड़ा भी अभिमान( नौ दोहे )*
Ravi Prakash
जिंदगी बिलकुल चिड़िया घर जैसी हो गई है।
जिंदगी बिलकुल चिड़िया घर जैसी हो गई है।
शेखर सिंह
2721.*पूर्णिका*
2721.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तेरा हासिल
तेरा हासिल
Dr fauzia Naseem shad
रोम-रोम में राम....
रोम-रोम में राम....
डॉ.सीमा अग्रवाल
(साक्षात्कार) प्रमुख तेवरीकार रमेशराज से प्रसिद्ध ग़ज़लकार मधुर नज़्मी की अनौपचारिक बातचीत
(साक्षात्कार) प्रमुख तेवरीकार रमेशराज से प्रसिद्ध ग़ज़लकार मधुर नज़्मी की अनौपचारिक बातचीत
कवि रमेशराज
सभी धर्म महान
सभी धर्म महान
RAKESH RAKESH
■ आज का संकल्प...
■ आज का संकल्प...
*प्रणय प्रभात*
सत्य की खोज
सत्य की खोज
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
मंदिर की नींव रखी, मुखिया अयोध्या धाम।
मंदिर की नींव रखी, मुखिया अयोध्या धाम।
विजय कुमार नामदेव
क्या क्या बदले
क्या क्या बदले
Rekha Drolia
प्रभु राम अवध वापस आये।
प्रभु राम अवध वापस आये।
Kuldeep mishra (KD)
क्या सोचूं मैं तेरे बारे में
क्या सोचूं मैं तेरे बारे में
gurudeenverma198
ना फूल मेरी क़ब्र पे
ना फूल मेरी क़ब्र पे
Shweta Soni
खुश वही है जिंदगी में जिसे सही जीवन साथी मिला है क्योंकि हर
खुश वही है जिंदगी में जिसे सही जीवन साथी मिला है क्योंकि हर
Ranjeet kumar patre
रजनी कजरारी
रजनी कजरारी
Dr Meenu Poonia
हिम बसंत. . . .
हिम बसंत. . . .
sushil sarna
Loading...