Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 May 2023 · 1 min read

फागुन में…..

फागुन में सखी, फागुन में।
गोरी के मुख भए लाल, फागुन में।।

चढ़त फागुन मोरे मन बौराए
हियरा में आसरा के दीप जलाए
पुरन होई मन के मलाल, फागुन में।
फागुन में सखी, फागुन में।।

धरत पांव मोरा पायल खनके
पिया मिलन से दिल मोरा धड़के
होई मुखड़ा मोर गुलाल, फागुन में।
फागुन में सखी, फागुन में।।

कोयल विरह के गीत सुनाए
पलाश कुसुम से वसुधा सुहाए
मन भाव हुए मधुकाल, फागुन में।
फागुन में सखी, फागुन में।।

चाहत के रंग से शब्द बनाए
स्नेह पगे टेसु से सेज सजाए
प्रीत से करुँगी निहाल, फागुन में।
फागुन में सखी, फागुन में।।

अंग – अंग बहु रंग रचाईब
खेलि – खेल में रैन जगाईब
मैं गाउंगी मेघ मल्हार, फागुन में।
फागुन में सखी, फागुन में।।

होली में पिया के रंग लगाईब
तन के साथ मन के भींगाईब
पुरा होई हिया के आस, फागुन में।
फागुन में सखी, फागुन में।।
********

Language: Hindi
1 Like · 302 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Awadhesh Kumar Singh
View all
You may also like:
फ़ितरत नहीं बदलनी थी ।
फ़ितरत नहीं बदलनी थी ।
Buddha Prakash
ना जाने सुबह है या शाम,
ना जाने सुबह है या शाम,
Madhavi Srivastava
खुद ही परेशान हूँ मैं, अपने हाल-ऐ-मज़बूरी से
खुद ही परेशान हूँ मैं, अपने हाल-ऐ-मज़बूरी से
डी. के. निवातिया
गौर किया जब तक
गौर किया जब तक
Koमल कुmari
वसंत की बहार।
वसंत की बहार।
Anil Mishra Prahari
अपने किरदार से चमकता है इंसान,
अपने किरदार से चमकता है इंसान,
शेखर सिंह
अनसुलझे किस्से
अनसुलझे किस्से
Mahender Singh
संघर्षशीलता की दरकार है।
संघर्षशीलता की दरकार है।
Manisha Manjari
ऐंचकताने    ऐंचकताने
ऐंचकताने ऐंचकताने
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
#सामयिक_विमर्श
#सामयिक_विमर्श
*प्रणय प्रभात*
"जुदा ही ना होते"
Ajit Kumar "Karn"
"वक्त कहीं थम सा गया है"
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
क्रिसमस से नये साल तक धूम
क्रिसमस से नये साल तक धूम
Neeraj Agarwal
कभी कभी ज़िंदगी में लिया गया छोटा निर्णय भी बाद के दिनों में
कभी कभी ज़िंदगी में लिया गया छोटा निर्णय भी बाद के दिनों में
Paras Nath Jha
प्रकृति कि  प्रक्रिया
प्रकृति कि प्रक्रिया
Rituraj shivem verma
बहुत बार
बहुत बार
Shweta Soni
कहानी- 'भूरा'
कहानी- 'भूरा'
Pratibhasharma
फुलवा बन आंगन में महको,
फुलवा बन आंगन में महको,
Vindhya Prakash Mishra
चांद बिना
चांद बिना
Surinder blackpen
छलते हैं क्यों आजकल,
छलते हैं क्यों आजकल,
sushil sarna
हौसला
हौसला
डॉ. शिव लहरी
दिल पर साजे बस हिन्दी भाषा
दिल पर साजे बस हिन्दी भाषा
Sandeep Pande
मुट्ठी में आकाश ले, चल सूरज की ओर।
मुट्ठी में आकाश ले, चल सूरज की ओर।
Suryakant Dwivedi
ओ लहर बहती रहो …
ओ लहर बहती रहो …
Rekha Drolia
चक्षु सजल दृगंब से अंतः स्थल के घाव से
चक्षु सजल दृगंब से अंतः स्थल के घाव से
Er.Navaneet R Shandily
"पहला-पहला प्यार"
Dr. Kishan tandon kranti
*Treasure the Nature*
*Treasure the Nature*
Poonam Matia
दिल का दर्द
दिल का दर्द
Dipak Kumar "Girja"
खुद से उम्मीद लगाओगे तो खुद को निखार पाओगे
खुद से उम्मीद लगाओगे तो खुद को निखार पाओगे
ruby kumari
कट्टर ईमानदार हूं
कट्टर ईमानदार हूं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Loading...