Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Mar 2023 · 1 min read

फांसी के तख्ते से

मंसूर की ललकार है
मेरी शायरी!
कबीर की फटकार है
मेरी शायरी!
इसे सुनना ही पड़ेगा
आख़िर तुम्हें
हर्फ़-ए-सर-ए-दार है
मेरी शायरी!
(सूली पर से दिया गया वक्तव्य)
#कवि #शायर #हल्लाबोल
#विद्रोही #इंकलाब #बगावत
#क्रांतिकारी #कविता #चिंगारी
#राजनीति #सियासत #poetry
#RomanticRebel #अनलहक

Language: Hindi
577 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
🌸 मन संभल जाएगा 🌸
🌸 मन संभल जाएगा 🌸
पूर्वार्थ
#KOTA
#KOTA
*प्रणय प्रभात*
कभी ना अपने लिए जीया मैं…..
कभी ना अपने लिए जीया मैं…..
AVINASH (Avi...) MEHRA
एक ऐसा मीत हो
एक ऐसा मीत हो
लक्ष्मी सिंह
"Battling Inner Demons"
Manisha Manjari
*दान: छह दोहे*
*दान: छह दोहे*
Ravi Prakash
कौन पढ़ता है मेरी लम्बी -लम्बी लेखों को ?..कितनों ने तो अपनी
कौन पढ़ता है मेरी लम्बी -लम्बी लेखों को ?..कितनों ने तो अपनी
DrLakshman Jha Parimal
जेसे दूसरों को खुशी बांटने से खुशी मिलती है
जेसे दूसरों को खुशी बांटने से खुशी मिलती है
shabina. Naaz
रामलला ! अभिनंदन है
रामलला ! अभिनंदन है
Ghanshyam Poddar
तुम्हारी याद आती है मुझे दिन रात आती है
तुम्हारी याद आती है मुझे दिन रात आती है
Johnny Ahmed 'क़ैस'
मनहरण घनाक्षरी
मनहरण घनाक्षरी
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
खिलेंगे फूल राहों में
खिलेंगे फूल राहों में
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
समस्या का समाधान
समस्या का समाधान
Paras Nath Jha
आ बैठ मेरे पास मन
आ बैठ मेरे पास मन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बच्चों की ख्वाहिशों का गला घोंट के कहा,,
बच्चों की ख्वाहिशों का गला घोंट के कहा,,
Shweta Soni
रणचंडी बन जाओ तुम
रणचंडी बन जाओ तुम
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
जय जय नंदलाल की ..जय जय लड्डू गोपाल की
जय जय नंदलाल की ..जय जय लड्डू गोपाल की"
Harminder Kaur
"फितरत"
Dr. Kishan tandon kranti
सत्ता परिवर्तन
सत्ता परिवर्तन
Shekhar Chandra Mitra
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
!! सुविचार !!
!! सुविचार !!
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
कविता
कविता
Rambali Mishra
बददुआ देना मेरा काम नहीं है,
बददुआ देना मेरा काम नहीं है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
मुक्तक-विन्यास में एक तेवरी
मुक्तक-विन्यास में एक तेवरी
कवि रमेशराज
झुकता हूं.......
झुकता हूं.......
A🇨🇭maanush
2321.पूर्णिका
2321.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
मैं कभी तुमको
मैं कभी तुमको
Dr fauzia Naseem shad
*ना जाने कब अब उनसे कुर्बत होगी*
*ना जाने कब अब उनसे कुर्बत होगी*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
सहन करो या दफन करो
सहन करो या दफन करो
goutam shaw
दूर दूर तक
दूर दूर तक
हिमांशु Kulshrestha
Loading...