Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Mar 2024 · 1 min read

फांसी का फंदा भी कम ना था,

फांसी का फंदा भी कम ना था,
वो भी डूब सकते थे इश्क में किसी के
पर वतन उनके लिए किसी माशूक के प्यार से कम ना था।

शहीद दिवस पर कोटि कोटि नमन
२३ मार्च १९३१

57 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ऋतुराज
ऋतुराज
Santosh kumar Miri
श्राद्ध
श्राद्ध
Mukesh Kumar Sonkar
शिव रात्रि
शिव रात्रि
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
रोज गमों के प्याले पिलाने लगी ये जिंदगी लगता है अब गहरी नींद
रोज गमों के प्याले पिलाने लगी ये जिंदगी लगता है अब गहरी नींद
कृष्णकांत गुर्जर
पहचान
पहचान
Dr.Priya Soni Khare
****शिव शंकर****
****शिव शंकर****
Kavita Chouhan
हम वीर हैं उस धारा के,
हम वीर हैं उस धारा के,
$úDhÁ MãÚ₹Yá
खुशी के पल
खुशी के पल
RAKESH RAKESH
अब किसी की याद नहीं आती
अब किसी की याद नहीं आती
Harminder Kaur
जम़ी पर कुछ फुहारें अब अमन की चाहिए।
जम़ी पर कुछ फुहारें अब अमन की चाहिए।
सत्य कुमार प्रेमी
इंसान को,
इंसान को,
नेताम आर सी
हम गांव वाले है जनाब...
हम गांव वाले है जनाब...
AMRESH KUMAR VERMA
जीवन
जीवन
लक्ष्मी सिंह
शौक में नहीं उड़ता है वो, उड़ना उसकी फक्र पहचान है,
शौक में नहीं उड़ता है वो, उड़ना उसकी फक्र पहचान है,
manjula chauhan
पितृ स्तुति
पितृ स्तुति
गुमनाम 'बाबा'
टूट जाता कमजोर, लड़ता है हिम्मतवाला
टूट जाता कमजोर, लड़ता है हिम्मतवाला
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
ऐसी थी बेख़्याली
ऐसी थी बेख़्याली
Dr fauzia Naseem shad
*गरमी का मौसम बुरा, खाना तनिक न धूप (कुंडलिया)*
*गरमी का मौसम बुरा, खाना तनिक न धूप (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
दिल का हाल
दिल का हाल
पूर्वार्थ
तेरी इस बेवफाई का कोई अंजाम तो होगा ।
तेरी इस बेवफाई का कोई अंजाम तो होगा ।
Phool gufran
मत कुरेदो, उँगलियाँ जल जायेंगीं
मत कुरेदो, उँगलियाँ जल जायेंगीं
Atul "Krishn"
हर एक चेहरा निहारता
हर एक चेहरा निहारता
goutam shaw
"तेरा साथ है तो"
Dr. Kishan tandon kranti
गुरु स्वयं नहि कियो बनि सकैछ ,
गुरु स्वयं नहि कियो बनि सकैछ ,
DrLakshman Jha Parimal
ग़ज़ल (मिलोगे जब कभी मुझसे...)
ग़ज़ल (मिलोगे जब कभी मुझसे...)
डॉक्टर रागिनी
"सुनो एक सैर पर चलते है"
Lohit Tamta
कुछ बेशकीमती छूट गया हैं तुम्हारा, वो तुम्हें लौटाना चाहता हूँ !
कुछ बेशकीमती छूट गया हैं तुम्हारा, वो तुम्हें लौटाना चाहता हूँ !
The_dk_poetry
मां की प्रतिष्ठा
मां की प्रतिष्ठा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
बात जो दिल में है
बात जो दिल में है
Shivkumar Bilagrami
सत्य = सत ( सच) यह
सत्य = सत ( सच) यह
डॉ० रोहित कौशिक
Loading...