Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Mar 2023 · 1 min read

फ़ितरत

ठोकरें खा कर राहों में एक ज़न्नत, मैंने भी बनाई थी,
सुकून का आलम था जहां, हाँ बस थोड़ी तन्हाई थी।
मुद्दतों तक जलाया था खुद को, तभी तो बारिश आयी थी,
स्वाबलंबन और आत्मविश्वास से, भरी मेरी परछाई थी।
अपने बिखरे टुकड़ों को जोड़, प्रकाशपुंज की दीप्ती मैंने भी बनायीं थी,
और खुद को तराश कर, किस्मत अपनी फिर सजाई थी।
तू फ़िक्र का आडंबर ले आया, जिससे आँख मेरी भर आयी थी,
साजिशें मिथ्या प्रेम की करके, मेरे प्रकाश में सेंध लगाई थी।
कदम भटके मेरे क्यूँकि, मुझे घर की याद सतायी थी,
सर्वस्व समर्पित कर भी, मैं तेरी आशाओं पर, खड़ी उतर ना पायी थी।
जो फ़रेब दिखा तेरा, तब रूह मेरी घबराई थी,
तिरस्कार और धोखे की लड़ी जो तूने लगायी थी।
स्तब्ध रह गया अस्तित्व मेरा और, तेरे चरित्र को मैं ना समझ पायी थी,
बिखरी तो मैं पहले भी थी, पर अब खुद को समेटने की हिम्मत भी गवाँई थी।
तेरे स्वार्थ की पराकाष्ठा, मेरी संवेदनाओं से टकराई थी,
जब आघातों की सीमा टूटी, तो देखा ये प्रेम नहीं, बेबफ़ाई थी।
तेरी फ़ितरत तो ऐसी हीं थी, तुझे क्यों शर्म ना आयी थी,
उस विश्वास को तोड़ा तूने, जो सदियों बाद, मैं किसी पर कर पायी थी।

1 Like · 183 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Manisha Manjari
View all
You may also like:
“क्योंकि हरेक पति की एक कहानी है ,
“क्योंकि हरेक पति की एक कहानी है ,
Neeraj kumar Soni
"जीवन की परिभाषा"
Dr. Kishan tandon kranti
प्रेम तुझे जा मुक्त किया
प्रेम तुझे जा मुक्त किया
Neelam Sharma
जिसने अस्मत बेचकर किस्मत बनाई हो,
जिसने अस्मत बेचकर किस्मत बनाई हो,
Sanjay ' शून्य'
दोस्ती के नाम
दोस्ती के नाम
Dr. Rajeev Jain
लकवा
लकवा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मंत्र  :  दधाना करपधाभ्याम,
मंत्र : दधाना करपधाभ्याम,
Harminder Kaur
गर्मी की मार
गर्मी की मार
Dr.Pratibha Prakash
**
**"कोई गिला नहीं "
Dr Mukesh 'Aseemit'
बददुआ देना मेरा काम नहीं है,
बददुआ देना मेरा काम नहीं है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
Khata kar tu laakh magar.......
Khata kar tu laakh magar.......
HEBA
परवरिश
परवरिश
Shashi Mahajan
जो दिखाते हैं हम वो जताते नहीं
जो दिखाते हैं हम वो जताते नहीं
Shweta Soni
हुस्न और खूबसूरती से भरे हुए बाजार मिलेंगे
हुस्न और खूबसूरती से भरे हुए बाजार मिलेंगे
शेखर सिंह
Success rule
Success rule
Naresh Kumar Jangir
शीर्षक : बरसात के दिनों में (हिन्दी)
शीर्षक : बरसात के दिनों में (हिन्दी)
Neeraj Agarwal
Jay prakash dewangan
Jay prakash dewangan
Jay Dewangan
पुरानी पेंशन
पुरानी पेंशन
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
#है_व्यथित_मन_जानने_को.........!!
#है_व्यथित_मन_जानने_को.........!!
संजीव शुक्ल 'सचिन'
मैं सरिता अभिलाषी
मैं सरिता अभिलाषी
Pratibha Pandey
उस दर पे कदम मत रखना
उस दर पे कदम मत रखना
gurudeenverma198
सुलझा हुआ सा समझते हैं मुझको लोग...
सुलझा हुआ सा समझते हैं मुझको लोग...
पूर्वार्थ
ऐसे यूं ना देख
ऐसे यूं ना देख
Shashank Mishra
ना तुमसे बिछड़ने का गम है......
ना तुमसे बिछड़ने का गम है......
Ashish shukla
*रियासत रामपुर और राजा रामसिंह : कुछ प्रश्न*
*रियासत रामपुर और राजा रामसिंह : कुछ प्रश्न*
Ravi Prakash
मैं साहिल पर पड़ा रहा
मैं साहिल पर पड़ा रहा
Sahil Ahmad
माँ का प्यार
माँ का प्यार
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
■ प्रणय का गीत-
■ प्रणय का गीत-
*प्रणय प्रभात*
तुम मेरी प्रिय भाषा हो
तुम मेरी प्रिय भाषा हो
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
है कुछ पर कुछ बताया जा रहा है।।
है कुछ पर कुछ बताया जा रहा है।।
सत्य कुमार प्रेमी
Loading...