Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jan 2024 · 1 min read

फ़ितरत को ज़माने की, ये क्या हो गया है

फ़ितरत को ज़माने की, ये क्या हो गया है
भाई अपने भाई से, जुदा हो गया है |

रिश्तों की मर्यादा ने , सीमाएं लांघ दी हैं
इंसानियत का जज़्बा , लहुलुहान हो गया है |

आधुनिकता की अंधी दौड़ में , इंसान गुम हो गया है
सुविधाओं के बवंडर में , मानव कहीं लोप हो गया है |

जीवन अजीब सी दौड़ का , पर्याय हो गया है
धर्म पर राजनीति का , कब्ज़ा हो गया है |

राष्ट्र के प्रति समर्पण , दिखावा हो गया है
राष्ट्र के सपूतों का निरादर , आम हो गया है |

नेताओं की कुटिल चालों से घायल , आमजन हो गया है
झूठ का बोलबाला , सत्य कहीं वीराने में खो गया है |

आँखों में शर्म का , अभाव हो गया है
संस्कार स्वयं के अस्तित्व पर , रो रहा है |

फ़ितरत को ज़माने की, ये क्या हो गया है
भाई अपने भाई से, जुदा हो गया है |

1 Like · 66 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
View all
You may also like:
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
सभी मित्रों को दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं।
सभी मित्रों को दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं।
surenderpal vaidya
सितमज़रीफ़ी
सितमज़रीफ़ी
Atul "Krishn"
अर्ज किया है
अर्ज किया है
पूर्वार्थ
*।।ॐ।।*
*।।ॐ।।*
Satyaveer vaishnav
हुनरमंद लोग तिरस्कृत क्यों
हुनरमंद लोग तिरस्कृत क्यों
Mahender Singh
"लहर"
Dr. Kishan tandon kranti
तुम्हारी खुशी में मेरी दुनिया बसती है
तुम्हारी खुशी में मेरी दुनिया बसती है
Awneesh kumar
कश्मीरी पण्डितों की रक्षा में कुर्बान हुए गुरु तेगबहादुर
कश्मीरी पण्डितों की रक्षा में कुर्बान हुए गुरु तेगबहादुर
कवि रमेशराज
मनुष्य भी जब ग्रहों का फेर समझ कर
मनुष्य भी जब ग्रहों का फेर समझ कर
Paras Nath Jha
3216.*पूर्णिका*
3216.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Ajj purani sadak se mulakat hui,
Ajj purani sadak se mulakat hui,
Sakshi Tripathi
अनुराग
अनुराग
Sanjay ' शून्य'
किताब
किताब
Neeraj Agarwal
पर्यावरण
पर्यावरण
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
कोई बात नहीं, अभी भी है बुरे
कोई बात नहीं, अभी भी है बुरे
gurudeenverma198
ये जो नफरतों का बीज बो रहे हो
ये जो नफरतों का बीज बो रहे हो
Gouri tiwari
यूं ही हमारी दोस्ती का सिलसिला रहे।
यूं ही हमारी दोस्ती का सिलसिला रहे।
सत्य कुमार प्रेमी
ज़िंदगी में बेहतर
ज़िंदगी में बेहतर
Dr fauzia Naseem shad
बदनाम शराब
बदनाम शराब
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*होली*
*होली*
Dr. Priya Gupta
संसार के सब रसों में
संसार के सब रसों में
*Author प्रणय प्रभात*
स्त्री श्रृंगार
स्त्री श्रृंगार
विजय कुमार अग्रवाल
मजदूर हैं हम मजबूर नहीं
मजदूर हैं हम मजबूर नहीं
नेताम आर सी
*रोते बूढ़े कर रहे, यौवन के दिन याद ( कुंडलिया )*
*रोते बूढ़े कर रहे, यौवन के दिन याद ( कुंडलिया )*
Ravi Prakash
दोहे-*
दोहे-*
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
सत्य
सत्य
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
अफ़सोस का बीज
अफ़सोस का बीज
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
कितना सुकून और कितनी राहत, देता माँ का आँचल।
कितना सुकून और कितनी राहत, देता माँ का आँचल।
डॉ.सीमा अग्रवाल
Loading...