Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 May 2024 · 1 min read

फल और मेवे

गर्म हवा के थपेड़े हों या फिर शीत-लहर की ठिठुरन।
हर ऋतु में प्रभावित होता है, हम सबका तन व मन।
फल और मेवे पास रहे तो, सुहावना लगे हर मौसम।
संतुलित आहार रहे तो, न बिगड़े जीवन की सरगम।

पौष्टिकता से भरे पड़े हैं, लाभदायक अनार के दाने।
हम तो ढूॅंढ़ ही लेते हैं, इस फल को खाने के बहाने।
मुख-द्वार से आमाशय तक, छाई आम की मिठास।
आम्र व दूध अमृत हैं, यह सीख रखना अपने पास।

सेब का रस पीते हुए, अधिकांश रोग मिट जाते हैं।
फिर तो स्वयं रोगी भी, निरोग का यश पा जाते हैं।
जीभ में हलचल करे, अलबेले अनानास का स्वाद।
काले नमक के होने से, सुलझे अपच जैसा विवाद।

गुच्छे में भी गुण न खोना, यही है अंगूर की खूबी।
इसलिए इसका दाना-दाना, दे हमें ताकत अजूबी।
सारे जग को ज़ाहिर है, अमरूद के फल के लाभ।
यह पाचन-तंत्र में करे, गज़ब के फ़ायदे बेहिसाब।

स्वस्थ उदर व निखरी त्वचा हेतु, सेवन करना बेर।
रक्तचाप भी सुधरेगा, रोग-प्रतिरोध में न होगी देर।
ऊर्जा से भरपूर हैं, संतरा-मौसंबी जैसे खट्टे फल।
इनके भोजन में होने से, होता हर आहार सकल।

फलों के समान लाभकारी हैं, समस्त कच्चे फल।
भोजन में इनका समागम, कभी होता न विफल।
जो फल व सूखे मेवे खाएं, रहेंगे बलिष्ठ व चपल।
जीवन के हर क्षेत्र में, वे सभी रहेंगे सदा सफल।

2 Likes · 26 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
View all
You may also like:
*वो मेरी जान, मुझे बहुत याद आती है(जेल से)*
*वो मेरी जान, मुझे बहुत याद आती है(जेल से)*
Dushyant Kumar
दैनिक जीवन में सब का तू, कर सम्मान
दैनिक जीवन में सब का तू, कर सम्मान
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जीवित रहने से भी बड़ा कार्य है मरने के बाद भी अपने कर्मो से
जीवित रहने से भी बड़ा कार्य है मरने के बाद भी अपने कर्मो से
Rj Anand Prajapati
नींबू की चाह
नींबू की चाह
Ram Krishan Rastogi
भरी रंग से जिंदगी, कह होली त्योहार।
भरी रंग से जिंदगी, कह होली त्योहार।
Suryakant Dwivedi
मईया के आने कि आहट
मईया के आने कि आहट
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
23/34.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/34.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
लखनऊ शहर
लखनऊ शहर
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
शराफत नहीं अच्छी
शराफत नहीं अच्छी
VINOD CHAUHAN
जय मां शारदे
जय मां शारदे
Anil chobisa
हार हमने नहीं मानी है
हार हमने नहीं मानी है
संजय कुमार संजू
पुनर्जन्म का सत्याधार
पुनर्जन्म का सत्याधार
Shyam Sundar Subramanian
The reflection of love
The reflection of love
Bidyadhar Mantry
समय की धारा रोके ना रुकती,
समय की धारा रोके ना रुकती,
Neerja Sharma
“दुमका दर्पण” (संस्मरण -प्राइमेरी स्कूल-1958)
“दुमका दर्पण” (संस्मरण -प्राइमेरी स्कूल-1958)
DrLakshman Jha Parimal
इलेक्शन ड्यूटी का हौव्वा
इलेक्शन ड्यूटी का हौव्वा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मेरी हास्य कविताएं अरविंद भारद्वाज
मेरी हास्य कविताएं अरविंद भारद्वाज
अरविंद भारद्वाज
?????
?????
शेखर सिंह
🙏 *गुरु चरणों की धूल*🙏
🙏 *गुरु चरणों की धूल*🙏
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
पारा बढ़ता जा रहा, गर्मी गुस्सेनाक (कुंडलिया )
पारा बढ़ता जा रहा, गर्मी गुस्सेनाक (कुंडलिया )
Ravi Prakash
भोर समय में
भोर समय में
surenderpal vaidya
सफलता
सफलता
Paras Nath Jha
रामचरितमानस
रामचरितमानस
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
न बीत गई ना बात गई
न बीत गई ना बात गई
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
उगाएँ प्रेम की फसलें, बढ़ाएँ खूब फुलवारी।
उगाएँ प्रेम की फसलें, बढ़ाएँ खूब फुलवारी।
डॉ.सीमा अग्रवाल
यादों में
यादों में
Shweta Soni
तमगा
तमगा
Bodhisatva kastooriya
बेटियां ?
बेटियां ?
Dr.Pratibha Prakash
सत्यता और शुचिता पूर्वक अपने कर्तव्यों तथा दायित्वों का निर्
सत्यता और शुचिता पूर्वक अपने कर्तव्यों तथा दायित्वों का निर्
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
जिस दिन कविता से लोगों के,
जिस दिन कविता से लोगों के,
जगदीश शर्मा सहज
Loading...