Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Jul 2023 · 1 min read

फर्क नही पड़ता है

फर्क नही पड़ता है
हम किसको कैसे लगते हैं
हमें बस इतना पता है
हम खुद को अच्छे लगते हैं।।

1 Like · 195 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बनी दुलहन अवध नगरी, सियावर राम आए हैं।
बनी दुलहन अवध नगरी, सियावर राम आए हैं।
डॉ.सीमा अग्रवाल
पिछले पन्ने 10
पिछले पन्ने 10
Paras Nath Jha
जल प्रदूषण पर कविता
जल प्रदूषण पर कविता
कवि अनिल कुमार पँचोली
"हमदर्द आँखों सा"
Dr. Kishan tandon kranti
2621.पूर्णिका
2621.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
" तिलिस्मी जादूगर "
Dr Meenu Poonia
मैं चाँद पर गया
मैं चाँद पर गया
Satish Srijan
सरस्वती वंदना
सरस्वती वंदना
MEENU
भरी आँखे हमारी दर्द सारे कह रही हैं।
भरी आँखे हमारी दर्द सारे कह रही हैं।
शिल्पी सिंह बघेल
ईश्वर से साक्षात्कार कराता है संगीत
ईश्वर से साक्षात्कार कराता है संगीत
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
अचानक जब कभी मुझको हाँ तेरी याद आती है
अचानक जब कभी मुझको हाँ तेरी याद आती है
Johnny Ahmed 'क़ैस'
सुकून ए दिल का वह मंज़र नहीं होने देते। जिसकी ख्वाहिश है, मयस्सर नहीं होने देते।।
सुकून ए दिल का वह मंज़र नहीं होने देते। जिसकी ख्वाहिश है, मयस्सर नहीं होने देते।।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
■ हम हों गए कामयाब चाँद पर...
■ हम हों गए कामयाब चाँद पर...
*Author प्रणय प्रभात*
🥀 *अज्ञानी की✍*🥀
🥀 *अज्ञानी की✍*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Jitendra Kumar Noor
Love whole heartedly
Love whole heartedly
Dhriti Mishra
मनुष्यता कोमा में
मनुष्यता कोमा में
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जीवन की धूल ..
जीवन की धूल ..
Shubham Pandey (S P)
बम से दुश्मन मार गिराए( बाल कविता )
बम से दुश्मन मार गिराए( बाल कविता )
Ravi Prakash
औरत का जीवन
औरत का जीवन
Dheerja Sharma
अगर शमशीर हमने म्यान में रक्खी नहीं होती
अगर शमशीर हमने म्यान में रक्खी नहीं होती
Anis Shah
स्नेह की मृदु भावनाओं को जगाकर।
स्नेह की मृदु भावनाओं को जगाकर।
surenderpal vaidya
शीर्षक - खामोशी
शीर्षक - खामोशी
Neeraj Agarwal
पता ही नहीं चलता यार
पता ही नहीं चलता यार
पूर्वार्थ
जिंदगी,
जिंदगी,
हिमांशु Kulshrestha
बस फेर है नज़र का हर कली की एक अपनी ही बेकली है
बस फेर है नज़र का हर कली की एक अपनी ही बेकली है
Atul "Krishn"
ये कैसी शायरी आँखों से आपने कर दी।
ये कैसी शायरी आँखों से आपने कर दी।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
मैं
मैं
Vivek saswat Shukla
कभी न दिखावे का तुम दान करना
कभी न दिखावे का तुम दान करना
Dr fauzia Naseem shad
चाह ले....
चाह ले....
सिद्धार्थ गोरखपुरी
Loading...