Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Jun 2023 · 2 min read

फर्क तो पड़ता है

फर्क तो पड़ता है

दौड़ते-भागते शर्मा जी जैसे ही ऑफिस पहुँचे डायरेक्टर के मुहलगे चपरासी ने उन्हें बताया- “सर ने आपको आते ही मिलने के लिए कहा है.”
डरते-डरते जैसे ही वे कैबिन में घुसे, साहब एकदम से बरस पड़े- “इससे पहले कि अाप एक नई कहानी सुनाएँ, मैं अपको स्पष्ट कह देता हूँ कि अाप आज आराम करिए. छुट्टी का एप्लीकेशन दीजिए और जितनी समाजसेवा करनी है कीजिए. तंग आ चुका हूँ मैं आपकी परोपकार कथा सुन-सुनकर. क्या फ़र्क पड़ता है आपकी समाजसेवा से. यदि नौकरी करनी है तो ढंग से कीजिए.”
शर्माजी साहब के आदेशानुसार छुट्टी का एप्लीकेशन देकर ऑफिस से बाहर आकर सोचने लगे- “अभी से घर जाकर क्या कर लूँगा. क्यों न हॉस्पीटल जाकर उस बच्चे की हालचाल पता कर लूँ, जिसे किसी दुर्घटना के कारण सड़क में पड़े हालत में देखकर अस्पताल पहुँचाने के चक्कर में ऑफिस देर से पहुँचा और साहब की डाँट खाई. शायद अब तक उसे होश भी आ गया हो.”
जैसे ही वे अस्पताल पहुँचे, डॉक्टर ने उन्हें बताया कि बच्चे को होश आ गया है और उसके मम्मी-पापा भी आ चुके हैं.
“आइए, आपको मिलवाता हूँ उनसे…. इनसे मिलिए, शर्मा जी, जिन्होंने आज सुबह आपके बच्चे को यहाँ एडमिट कराया है. यदि समय पर ये बच्चे को नहीं लाते तो कुछ भी हो सकता था.”
“सर आप… ये आपका बेटा…”
सामने डायरेक्टर साहब थे, हाथ जोड़कर खड़े. काटो तो खून नहीं. बोले- “शर्माजी, हो सके तो मुझे माफ कर दीजिएगा. मैंने आपको गलत समझा पर अब मैं जान चुका हूँ कि फ़र्क तो बहुत पड़ता है आपकी समाजसेवा से.”
डॉ. प्रदीप कुमार शर्मा
रायपुर, छत्तीसगढ़

Language: Hindi
130 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
प्रेम एक निर्मल,
प्रेम एक निर्मल,
हिमांशु Kulshrestha
है कौन वो राजकुमार!
है कौन वो राजकुमार!
Shilpi Singh
*
*"मजदूर"*
Shashi kala vyas
हवाएँ
हवाएँ
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
बूथ लेवल अधिकारी(बीएलओ)
बूथ लेवल अधिकारी(बीएलओ)
gurudeenverma198
ईगो का विचार ही नहीं
ईगो का विचार ही नहीं
शेखर सिंह
गुरु ही वर्ण गुरु ही संवाद ?🙏🙏
गुरु ही वर्ण गुरु ही संवाद ?🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
Things to learn .
Things to learn .
Nishant prakhar
सन्तानों  ने  दर्द   के , लगा   दिए    पैबंद ।
सन्तानों ने दर्द के , लगा दिए पैबंद ।
sushil sarna
बना चाँद का उड़न खटोला
बना चाँद का उड़न खटोला
Vedha Singh
यही जीवन है
यही जीवन है
Otteri Selvakumar
वर्ण पिरामिड
वर्ण पिरामिड
Neelam Sharma
पत्र
पत्र
लक्ष्मी सिंह
तुम नहीं बदले___
तुम नहीं बदले___
Rajesh vyas
~~तीन~~
~~तीन~~
Dr. Vaishali Verma
आएंगे तो मोदी ही
आएंगे तो मोदी ही
Sanjay ' शून्य'
“गुरु और शिष्य”
“गुरु और शिष्य”
DrLakshman Jha Parimal
साईकिल दिवस
साईकिल दिवस
Neeraj Agarwal
किया पोषित जिन्होंने, प्रेम का वरदान देकर,
किया पोषित जिन्होंने, प्रेम का वरदान देकर,
Ravi Yadav
जिधर भी देखो , हर तरफ़ झमेले ही झमेले है,
जिधर भी देखो , हर तरफ़ झमेले ही झमेले है,
_सुलेखा.
. *प्रगीत*
. *प्रगीत*
Dr.Khedu Bharti
मुनाफे में भी घाटा क्यों करें हम।
मुनाफे में भी घाटा क्यों करें हम।
सत्य कुमार प्रेमी
#मुक्तक
#मुक्तक
*Author प्रणय प्रभात*
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
इम्तिहान
इम्तिहान
AJAY AMITABH SUMAN
"पड़ाव"
Dr. Kishan tandon kranti
सिन्धु घाटी की लिपि : क्यों अंग्रेज़ और कम्युनिस्ट इतिहासकार
सिन्धु घाटी की लिपि : क्यों अंग्रेज़ और कम्युनिस्ट इतिहासकार
बिमल तिवारी “आत्मबोध”
जो उमेश हैं, जो महेश हैं, वे ही हैं भोले शंकर
जो उमेश हैं, जो महेश हैं, वे ही हैं भोले शंकर
महेश चन्द्र त्रिपाठी
मौसम कैसा आ गया, चहुँ दिश छाई धूल ।
मौसम कैसा आ गया, चहुँ दिश छाई धूल ।
Arvind trivedi
गुरुर ज्यादा करोगे
गुरुर ज्यादा करोगे
Harminder Kaur
Loading...