Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 May 2024 · 1 min read

,✍️फरेब:आस्तीन के सांप बन गए हो तुम…

आस्तीन के सांप बन गए हो तुम…
#देती होंगी मुर्गियां बांग शहर तुम्हारे … ज़मीर ना जगे तो जिंदा लाश हो तुम…

#लेती होंगी खुशीयां बालाएं तुम्हारे …किसी की हर दुःख वजह हो तुम…
#मिलती रहेंगी कई सखीयां तुम्हे …किसी की हमदर्द ना बन सको “जाया”…. हो तुम…
#होगी कई खूबियां तुम.में . …. पर .. फरेबी.. में लाजवाब हो तुम…✍️
# उठती रही कई उंगलीयां ..
किसी “मासूम” किरदार पे…… शामिल हो उनमें …..आस्तीन के सांप बन गए हो तुम…
पं अंजू पांडेय “अश्रु”✍️

1 Like · 35 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
एक दिवानी को हुआ, दीवाने  से  प्यार ।
एक दिवानी को हुआ, दीवाने से प्यार ।
sushil sarna
स्वप्न बेचकर  सभी का
स्वप्न बेचकर सभी का
महेश चन्द्र त्रिपाठी
तेरी महबूबा बनना है मुझे
तेरी महबूबा बनना है मुझे
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
आप हमें याद आ गएँ नई ग़ज़ल लेखक विनीत सिंह शायर
आप हमें याद आ गएँ नई ग़ज़ल लेखक विनीत सिंह शायर
Vinit kumar
वक्त के इस भवंडर में
वक्त के इस भवंडर में
Harminder Kaur
I met Myself!
I met Myself!
कविता झा ‘गीत’
तुम ख्वाब हो।
तुम ख्वाब हो।
Taj Mohammad
जल रहे अज्ञान बनकर, कहेें मैं शुभ सीख हूँ
जल रहे अज्ञान बनकर, कहेें मैं शुभ सीख हूँ
Pt. Brajesh Kumar Nayak
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सत्य कभी निरभ्र नभ-सा
सत्य कभी निरभ्र नभ-सा
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
प्रेम कविता ||•
प्रेम कविता ||•
पूर्वार्थ
वो कहती हैं ग़ैर हों तुम अब! हम तुमसे प्यार नहीं करते
वो कहती हैं ग़ैर हों तुम अब! हम तुमसे प्यार नहीं करते
The_dk_poetry
जिंदगी मौज है रवानी है खुद की कहानी है l
जिंदगी मौज है रवानी है खुद की कहानी है l
Ranjeet kumar patre
पतंग
पतंग
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जरूरत के हिसाब से सारे मानक बदल गए
जरूरत के हिसाब से सारे मानक बदल गए
सिद्धार्थ गोरखपुरी
रिश्ते प्यार के
रिश्ते प्यार के
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
*बड़े लोगों का रहता, रिश्वतों से मेल का जीवन (मुक्तक)*
*बड़े लोगों का रहता, रिश्वतों से मेल का जीवन (मुक्तक)*
Ravi Prakash
देखिए रिश्ते जब ज़ब मजबूत होते है
देखिए रिश्ते जब ज़ब मजबूत होते है
शेखर सिंह
जब काँटों में फूल उगा देखा
जब काँटों में फूल उगा देखा
VINOD CHAUHAN
मैं मन की भावनाओं के मुताबिक शब्द चुनती हूँ
मैं मन की भावनाओं के मुताबिक शब्द चुनती हूँ
Dr Archana Gupta
मित्रता मे बुझु ९०% प्रतिशत समानता जखन भेट गेल त बुझि मित्रत
मित्रता मे बुझु ९०% प्रतिशत समानता जखन भेट गेल त बुझि मित्रत
DrLakshman Jha Parimal
It All Starts With A SMILE
It All Starts With A SMILE
Natasha Stephen
🙅भड़ास🙅
🙅भड़ास🙅
*प्रणय प्रभात*
"पवित्रता"
Dr. Kishan tandon kranti
मेरी बेटी बड़ी हो गई,
मेरी बेटी बड़ी हो गई,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
सर्द हवाएं
सर्द हवाएं
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
*
*"शिव आराधना"*
Shashi kala vyas
अच्छा लगता है
अच्छा लगता है
Harish Chandra Pande
सत्य
सत्य
Dinesh Kumar Gangwar
" महखना "
Pushpraj Anant
Loading...