Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Feb 2023 · 1 min read

प्ले स्कूल हमारा (बाल कविता )

प्ले स्कूल हमारा (बाल कविता )
——————————————
एक बार आकर तो देखो
प्ले स्कूल हमारा ,
रोज चलाते इसमें गाड़ी
लगता कितना प्यारा।।

रंग- बिरंगी दीवारें हैं
रहती साफ- सफाई,
खेल- खेल में जाने कब
हो जाती रोज पढ़ाई ।।

कमरे में शीशे से झॉंको
बंदर हाथी घोड़ा,
प्लास्टिक की कुर्सी लगती है
एक खिलौना थोड़ा।।
—————————————–
रचयिता: रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

208 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
मां की याद
मां की याद
Neeraj Agarwal
कलयुगी दोहावली
कलयुगी दोहावली
Prakash Chandra
विश्व हिन्दी दिवस पर कुछ दोहे :.....
विश्व हिन्दी दिवस पर कुछ दोहे :.....
sushil sarna
बाल बिखरे से,आखें धंस रहीं चेहरा मुरझाया सा हों गया !
बाल बिखरे से,आखें धंस रहीं चेहरा मुरझाया सा हों गया !
The_dk_poetry
दिया एक जलाए
दिया एक जलाए
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मैं हू बेटा तेरा तूही माँ है मेरी
मैं हू बेटा तेरा तूही माँ है मेरी
Basant Bhagawan Roy
कल तक जो थे हमारे, अब हो गए विचारे।
कल तक जो थे हमारे, अब हो गए विचारे।
सत्य कुमार प्रेमी
हर कदम प्यासा रहा...,
हर कदम प्यासा रहा...,
Priya princess panwar
नेता जी
नेता जी
Sanjay ' शून्य'
ॐ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
2932.*पूर्णिका*
2932.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
उसको भी प्यार की ज़रूरत है
उसको भी प्यार की ज़रूरत है
Aadarsh Dubey
एक औरत रेशमी लिबास और गहनों में इतनी सुंदर नहीं दिखती जितनी
एक औरत रेशमी लिबास और गहनों में इतनी सुंदर नहीं दिखती जितनी
Annu Gurjar
रोशन है अगर जिंदगी सब पास होते हैं
रोशन है अगर जिंदगी सब पास होते हैं
VINOD CHAUHAN
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
ठण्डी राख़ - दीपक नीलपदम्
ठण्डी राख़ - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
Jay prakash dewangan
Jay prakash dewangan
Jay Dewangan
जरूरी बहुत
जरूरी बहुत
surenderpal vaidya
पाश्चात्यता की होड़
पाश्चात्यता की होड़
Mukesh Kumar Sonkar
#व्यंग्य
#व्यंग्य
*Author प्रणय प्रभात*
"दो हजार के नोट की व्यथा"
Radhakishan R. Mundhra
बिछड़ कर तू भी जिंदा है
बिछड़ कर तू भी जिंदा है
डॉ. दीपक मेवाती
मार्तंड वर्मा का इतिहास
मार्तंड वर्मा का इतिहास
Ajay Shekhavat
"सच और झूठ"
Dr. Kishan tandon kranti
We Mature With
We Mature With
पूर्वार्थ
खुशियों की आँसू वाली सौगात
खुशियों की आँसू वाली सौगात
DR ARUN KUMAR SHASTRI
वृंदावन की कुंज गलियां 💐
वृंदावन की कुंज गलियां 💐
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
आपने खो दिया अगर खुद को
आपने खो दिया अगर खुद को
Dr fauzia Naseem shad
जरूरी नहीं जिसका चेहरा खूबसूरत हो
जरूरी नहीं जिसका चेहरा खूबसूरत हो
Ranjeet kumar patre
दिन और रात-दो चरित्र
दिन और रात-दो चरित्र
Suryakant Dwivedi
Loading...