Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Dec 2022 · 1 min read

प्रेरणा

प्रेरणा है एक अनुभूति जो अंदर से ही प्रकट होती है,
जिसे प्रेरणा मानते हैं उसके लिए आदर भाव अपने आप ही निर्मित होता है ।

जन्म से लेकर मृत्यू तक हर किसी के दिल में कोई ना कोई बना लेता स्थान,
दिल में,मन में होता है उनका उच्च स्थान ।

पहाड़ से लेकर पेड,पौधे,फुल, पत्तियां देती है प्रेरणा,
घर में ,समाज में,मित्रों मे इन जगहों पर भी कोई कोई बन जाते प्रेरणा ।

किसी से भी प्रेरणा लेना हो तो जीवन उद्धारक हो,
सही प्रेरणा, सही राहें ,सही दिशाओं में जीवन समर्पित हो ।

134 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*हिंदी मेरे देश की जुबान है*
*हिंदी मेरे देश की जुबान है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
ख़ुदा ने बख़्शी हैं वो ख़ूबियाँ के
ख़ुदा ने बख़्शी हैं वो ख़ूबियाँ के
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
अब छोड़ दिया है हमने तो
अब छोड़ दिया है हमने तो
gurudeenverma198
बहें हैं स्वप्न आँखों से अनेकों
बहें हैं स्वप्न आँखों से अनेकों
सिद्धार्थ गोरखपुरी
*देना इतना आसान नहीं है*
*देना इतना आसान नहीं है*
Seema Verma
दिल हमारा तुम्हारा धड़कने लगा।
दिल हमारा तुम्हारा धड़कने लगा।
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
छुट्टी का इतवार( बाल कविता )
छुट्टी का इतवार( बाल कविता )
Ravi Prakash
प्रेम की पाती
प्रेम की पाती
Awadhesh Singh
रिटर्न गिफ्ट
रिटर्न गिफ्ट
विनोद सिल्ला
संतुलन
संतुलन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
वो सांझ
वो सांझ
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
तू  फितरत ए  शैतां से कुछ जुदा तो नहीं है
तू फितरत ए शैतां से कुछ जुदा तो नहीं है
Dr Tabassum Jahan
एक इश्क में डूबी हुई लड़की कभी भी अपने आशिक दीवाने लड़के को
एक इश्क में डूबी हुई लड़की कभी भी अपने आशिक दीवाने लड़के को
Rj Anand Prajapati
कैसी ये पीर है
कैसी ये पीर है
Dr fauzia Naseem shad
????????
????????
शेखर सिंह
ईश्वर
ईश्वर
Shyam Sundar Subramanian
शीर्षक:-सुख तो बस हरजाई है।
शीर्षक:-सुख तो बस हरजाई है।
Pratibha Pandey
जीवन अप्रत्याशित
जीवन अप्रत्याशित
पूर्वार्थ
तेरे गम का सफर
तेरे गम का सफर
Rajeev Dutta
"चाणक्य"
*Author प्रणय प्रभात*
"मकड़जाल"
Dr. Kishan tandon kranti
2688.*पूर्णिका*
2688.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
रातें ज्यादा काली हो तो समझें चटक उजाला होगा।
रातें ज्यादा काली हो तो समझें चटक उजाला होगा।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
राजू और माँ
राजू और माँ
SHAMA PARVEEN
आज़ादी के दीवाने
आज़ादी के दीवाने
करन ''केसरा''
*** चोर ***
*** चोर ***
Chunnu Lal Gupta
दो जून की रोटी
दो जून की रोटी
Ram Krishan Rastogi
छोड़कर साथ हमसफ़र का,
छोड़कर साथ हमसफ़र का,
Gouri tiwari
बुंदेली दोहा
बुंदेली दोहा
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
* प्यार का जश्न *
* प्यार का जश्न *
surenderpal vaidya
Loading...