Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Oct 2022 · 1 min read

तुम्हारी छवि

तुमने कहा
मिटा दो सबकुछ..
मिटने से पहले..
मैंने मिटा दिया
अपने रिश्ते का
हर सबूत
पर मुझे
चिढ़ाती रही..
ऑंखों में धरोहर
की तरह छुपी
तुम्हारी छवि!

रश्मि लहर

Language: Hindi
Tag: कविता
1 Like · 32 Views
You may also like:
Shyari
श्याम सिंह बिष्ट
"सुकून"
Lohit Tamta
आज मस्ती से जीने दो
Anamika Singh
✍️कोई नहीं ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
“ हमारा निराला स्पेक्ट्रम ”
Dr Meenu Poonia
प्रेम में त्याग
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
'नील गगन की छाँव'
Godambari Negi
*जीवन का सार (घनाक्षरी)*
Ravi Prakash
आओ तुम
sangeeta beniwal
परिणय
मनोज कर्ण
Daily Writing Challenge : New Beginning
Mukesh Kumar Badgaiyan,
दोस्त
लक्ष्मी सिंह
पहनते है चरण पादुकाएं ।
Buddha Prakash
” हृदय से ना जुड़ सके तो मित्र कैसे रह...
DrLakshman Jha Parimal
सांप्रदायिक राजनीति
Shekhar Chandra Mitra
यहां उनका भी दिल जोड़ दो/yahan unka bhi dil jod...
Shivraj Anand
मां के आंचल
Nitu Sah
मन
शेख़ जाफ़र खान
✳️🌸मेरा इश्क़ उधार है तुम पर🌸✳️
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मेरी रातों की नींद क्यों चुराते हो
Ram Krishan Rastogi
अंतर्घट
Rekha Drolia
शराब सहारा
Anurag pandey
लौट आई जिंदगी बेटी बनकर!
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
✍️"बारिश भी अक्सर भुख छीन लेती है"✍️
'अशांत' शेखर
माँ आई
Kavita Chouhan
दर्द का अंत
AMRESH KUMAR VERMA
जिंदा है।
Taj Mohammad
प्यार जैसा ही प्यारा होता है
Dr fauzia Naseem shad
हाँ, उनका स्थान तो
gurudeenverma198
उम्र गुजर जाने के बाद
Dhirendra Panchal
Loading...