Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Oct 2022 · 1 min read

तुम्हारी छवि

तुमने कहा
मिटा दो सबकुछ..
मिटने से पहले..
मैंने मिटा दिया
अपने रिश्ते का
हर सबूत
पर मुझे
चिढ़ाती रही..
ऑंखों में धरोहर
की तरह छुपी
तुम्हारी छवि!

रश्मि लहर

Language: Hindi
3 Likes · 2 Comments · 178 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
टूटी ख्वाहिश को थोड़ी रफ्तार दो,
टूटी ख्वाहिश को थोड़ी रफ्तार दो,
Sunil Maheshwari
ओ जानें ज़ाना !
ओ जानें ज़ाना !
The_dk_poetry
3054.*पूर्णिका*
3054.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Gestures Of Love
Gestures Of Love
Vedha Singh
- मेरी मोहब्बत तुम्हारा इंतिहान हो गई -
- मेरी मोहब्बत तुम्हारा इंतिहान हो गई -
bharat gehlot
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
प्यार के
प्यार के
हिमांशु Kulshrestha
"हैसियत"
Dr. Kishan tandon kranti
निःस्वार्थ रूप से पोषित करने वाली हर शक्ति, मांशक्ति स्वरूपा
निःस्वार्थ रूप से पोषित करने वाली हर शक्ति, मांशक्ति स्वरूपा
Sanjay ' शून्य'
** मुक्तक **
** मुक्तक **
surenderpal vaidya
एक गुजारिश तुझसे है
एक गुजारिश तुझसे है
Buddha Prakash
गौभक्त और संकट से गुजरते गाय–बैल / मुसाफ़िर बैठा
गौभक्त और संकट से गुजरते गाय–बैल / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
वैनिटी बैग
वैनिटी बैग
Awadhesh Singh
धर्म की खूंटी
धर्म की खूंटी
मनोज कर्ण
अगीत कविता : मै क्या हूँ??
अगीत कविता : मै क्या हूँ??
Sushila joshi
सबला नारी
सबला नारी
आनन्द मिश्र
जब भर पाया ही नहीं, उनका खाली पेट ।
जब भर पाया ही नहीं, उनका खाली पेट ।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
अपभ्रंश-अवहट्ट से,
अपभ्रंश-अवहट्ट से,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*धन्य-धन्य वे जिनका जीवन सत्संगों में बीता (मुक्तक)*
*धन्य-धन्य वे जिनका जीवन सत्संगों में बीता (मुक्तक)*
Ravi Prakash
"घूंघट नारी की आजादी पर वह पहरा है जिसमे पुरुष खुद को सहज मह
डॉ.एल. सी. जैदिया 'जैदि'
किताब में किसी खुशबू सा मुझे रख लेना
किताब में किसी खुशबू सा मुझे रख लेना
Shweta Soni
'चो' शब्द भी गजब का है, जिसके साथ जुड़ जाता,
'चो' शब्द भी गजब का है, जिसके साथ जुड़ जाता,
SPK Sachin Lodhi
युद्ध नहीं अब शांति चाहिए
युद्ध नहीं अब शांति चाहिए
लक्ष्मी सिंह
42...Mutdaarik musamman saalim
42...Mutdaarik musamman saalim
sushil yadav
Hajipur
Hajipur
Hajipur
सहज रिश्ता
सहज रिश्ता
Dr. Rajeev Jain
अच्छे   बल्लेबाज  हैं,  गेंदबाज   दमदार।
अच्छे बल्लेबाज हैं, गेंदबाज दमदार।
गुमनाम 'बाबा'
गर्म दोपहर की ठंढी शाम हो तुम
गर्म दोपहर की ठंढी शाम हो तुम
Rituraj shivem verma
वो मूर्ति
वो मूर्ति
Kanchan Khanna
■ श्रमजीवी को किस का डर...?
■ श्रमजीवी को किस का डर...?
*प्रणय प्रभात*
Loading...