Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Jul 2022 · 1 min read

प्रेम

सुनो जरा, सुन रहे हो ना,
एक बात कहनी है,
बहुत सिंपल सी बात है,
प्रेम हो गया है।
पूछोगे; क्यों, कब, किससे, कहाँ…?
कुछ पता नहीं; सच में पता नहीं।

कहोगे; प्रेम ही क्यों…?
प्यार क्यों नहीं…? जवाब है,
प्यार पवित्र हुआ करता था,
सस्ता, छिछोरापन आ गया,
बाजारीकरण हो गया प्यार का।

चंद जुमलों में सिमटा प्यार,
रंगीन कागजों में लिपटे गिफ्ट,
मोबाइलस्, चाकलेटस्, शाॅपिंग,
मंहगे रेस्टोरेंटस्, फाॅस्ट-फूड सा,
चंद वादों, मुलाकातों से गुजरता,
ठहर जाता आकर देह-समर्पण पर।

प्रेम; किया नहीं जाता, हो जाता है,
दोतरफा हो ऐसा भी जरुरी नहीं,
कोई वादा, मुलाकात जरुरी नहीं,
निश्चलता, स्नेह, एहसास, विश्वास लिए,
प्रेम सौन्दर्यपूर्ण, अनंत, उन्मुक्त होता है।

सम्पूर्ण प्रकृति में कहीं, कभी, किसी से भी,
निर्जीव-सजीव, जाने-अनजाने, चाहे-अनचाहे से,
किया नहीं जाता, हो जाता है, बस हो जाता है,
और हो गया है मुझे भी…..।

रचनाकार : कंचन खन्ना,
मुरादाबाद, (उ०प्र०, भारत)।
सर्वाधिकार, सुरक्षित (रचनाकार)।
ता० : १७/०१/२०२१.

Language: Hindi
2 Likes · 4 Comments · 633 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Kanchan Khanna
View all
You may also like:
*हर शाम निहारूँ मै*
*हर शाम निहारूँ मै*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
माँ महान है
माँ महान है
Dr. Man Mohan Krishna
तुम नफरत करो
तुम नफरत करो
Harminder Kaur
चाहत के ज़ख्म
चाहत के ज़ख्म
Surinder blackpen
अधि वर्ष
अधि वर्ष
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
अद्य हिन्दी को भला एक याम का ही मानकर क्यों?
अद्य हिन्दी को भला एक याम का ही मानकर क्यों?
संजीव शुक्ल 'सचिन'
*छपना पुस्तक का कठिन, समझो टेढ़ी खीर (कुंडलिया)*
*छपना पुस्तक का कठिन, समझो टेढ़ी खीर (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
■ बड़े काम की बात।।
■ बड़े काम की बात।।
*प्रणय प्रभात*
वायदे के बाद भी
वायदे के बाद भी
Atul "Krishn"
दोस्त और दोस्ती
दोस्त और दोस्ती
Anamika Tiwari 'annpurna '
घर से निकले जो मंज़िल की ओर बढ़ चले हैं,
घर से निकले जो मंज़िल की ओर बढ़ चले हैं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
युग युवा
युग युवा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
ज़माने की बुराई से खुद को बचाना बेहतर
ज़माने की बुराई से खुद को बचाना बेहतर
नूरफातिमा खातून नूरी
"मधुर स्मृतियों में"
Dr. Kishan tandon kranti
सहज - असहज
सहज - असहज
Juhi Grover
इंतजार करते रहे हम उनके  एक दीदार के लिए ।
इंतजार करते रहे हम उनके एक दीदार के लिए ।
Yogendra Chaturwedi
झुकता हूं.......
झुकता हूं.......
A🇨🇭maanush
छह दिसबंर / मुसाफ़िर बैठा
छह दिसबंर / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
स्वयं का न उपहास करो तुम , स्वाभिमान की राह वरो तुम
स्वयं का न उपहास करो तुम , स्वाभिमान की राह वरो तुम
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
सेवा जोहार
सेवा जोहार
नेताम आर सी
सोशल मीडिया
सोशल मीडिया
Raju Gajbhiye
कहते हैं कि मृत्यु चुपचाप आती है। बेख़बर। वह चुपके से आती है
कहते हैं कि मृत्यु चुपचाप आती है। बेख़बर। वह चुपके से आती है
Dr Tabassum Jahan
Pain of separation
Pain of separation
Bidyadhar Mantry
2571.पूर्णिका
2571.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Srishty Bansal
डर होता है
डर होता है
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
चारू कात देख दुनियां कें,सोचि रहल छी ठाड़ भेल !
चारू कात देख दुनियां कें,सोचि रहल छी ठाड़ भेल !
DrLakshman Jha Parimal
चंद्र शीतल आ गया बिखरी गगन में चाँदनी।
चंद्र शीतल आ गया बिखरी गगन में चाँदनी।
लक्ष्मी सिंह
निःस्वार्थ रूप से पोषित करने वाली हर शक्ति, मांशक्ति स्वरूपा
निःस्वार्थ रूप से पोषित करने वाली हर शक्ति, मांशक्ति स्वरूपा
Sanjay ' शून्य'
*
*"घंटी"*
Shashi kala vyas
Loading...