Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Nov 2016 · 1 min read

प्रेम (3)

कितना ज़रूरी है,
किसी कली को
पनपने के लिए,
किसी और कली
का फूल बनना ,
फिर मुरझाना और
फिर डाली से
विलग होकर
भूमि पर गिर,
नष्ट कर देना
अपना समूचा अस्तित्व ?
क्या ? कभी
किसी ने भी
सोचा है,तनिक भी
गहराई से कि-
इस समूची प्रक्रिया में,
कितनी करूणा है ?
कितना प्रेम है. ?
-ईश्वर दयाल गोस्वामी ।
कवि एवं शिक्षक।

Language: Hindi
1 Like · 2 Comments · 1271 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from ईश्वर दयाल गोस्वामी
View all
You may also like:
कितना तन्हा खुद को
कितना तन्हा खुद को
Dr fauzia Naseem shad
*दादी चली गई*
*दादी चली गई*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
हिन्दी दोहा शब्द- फूल
हिन्दी दोहा शब्द- फूल
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
प्रेम उतना ही करो
प्रेम उतना ही करो
पूर्वार्थ
.*यादों के पन्ने.......
.*यादों के पन्ने.......
Naushaba Suriya
सफाई कामगारों के हक और अधिकारों की दास्तां को बयां करती हुई कविता 'आखिर कब तक'
सफाई कामगारों के हक और अधिकारों की दास्तां को बयां करती हुई कविता 'आखिर कब तक'
Dr. Narendra Valmiki
पापा की गुड़िया
पापा की गुड़िया
Dr Parveen Thakur
राखी रे दिन आज मूं , मांगू यही मारा बीरा
राखी रे दिन आज मूं , मांगू यही मारा बीरा
gurudeenverma198
प्रेम की डोर सदैव नैतिकता की डोर से बंधती है और नैतिकता सत्क
प्रेम की डोर सदैव नैतिकता की डोर से बंधती है और नैतिकता सत्क
Sanjay ' शून्य'
*दया करो हे नाथ हमें, मन निरभिमान का वर देना 【भक्ति-गीत】*
*दया करो हे नाथ हमें, मन निरभिमान का वर देना 【भक्ति-गीत】*
Ravi Prakash
जो खास है जीवन में उसे आम ना करो।
जो खास है जीवन में उसे आम ना करो।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
उम्मीद की आँखों से अगर देख रहे हो,
उम्मीद की आँखों से अगर देख रहे हो,
Shweta Soni
सच
सच
Neeraj Agarwal
मेरा गुरूर है पिता
मेरा गुरूर है पिता
VINOD CHAUHAN
💐प्रेम कौतुक-466💐
💐प्रेम कौतुक-466💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
2991.*पूर्णिका*
2991.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जिंदगी की उड़ान
जिंदगी की उड़ान
Kanchan verma
ये जो फेसबुक पर अपनी तस्वीरें डालते हैं।
ये जो फेसबुक पर अपनी तस्वीरें डालते हैं।
Manoj Mahato
रमेशराज के पर्यावरण-सुरक्षा सम्बन्धी बालगीत
रमेशराज के पर्यावरण-सुरक्षा सम्बन्धी बालगीत
कवि रमेशराज
ये सर्द रात
ये सर्द रात
Surinder blackpen
एक चिंगारी ही काफी है शहर को जलाने के लिए
एक चिंगारी ही काफी है शहर को जलाने के लिए
कवि दीपक बवेजा
प्रभु राम मेरे सपने मे आये संग मे सीता माँ को लाये
प्रभु राम मेरे सपने मे आये संग मे सीता माँ को लाये
Satyaveer vaishnav
गर लिखने का सलीका चाहिए।
गर लिखने का सलीका चाहिए।
Dr. ADITYA BHARTI
1🌹सतत - सृजन🌹
1🌹सतत - सृजन🌹
Dr Shweta sood
Iran Revolution
Iran Revolution
Shekhar Chandra Mitra
बाल कहानी- प्यारे चाचा
बाल कहानी- प्यारे चाचा
SHAMA PARVEEN
*नया साल*
*नया साल*
Dushyant Kumar
ग़ज़ल/नज़्म: एक तेरे ख़्वाब में ही तो हमने हजारों ख़्वाब पाले हैं
ग़ज़ल/नज़्म: एक तेरे ख़्वाब में ही तो हमने हजारों ख़्वाब पाले हैं
अनिल कुमार
#दोहा-
#दोहा-
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...