Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Nov 2016 · 1 min read

प्रेम (2)

तुम्हें पाना ही
सब नहीं है ।
जीवन सार्थक
भी नहीं होता
मात्र तुम्हें
पाने भर से ।
बल्कि-बहुत कुछ
त्यागना ,सहना
और खोना पड़ता है,
तुम्हें पाने के बाद
तुम्हारे लिए।
-ईश्वर दयाल गोस्वामी ।
कवि एवं शिक्षक

Language: Hindi
1 Like · 2 Comments · 1260 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from ईश्वर दयाल गोस्वामी
View all
You may also like:
*अभिनंदन के लिए बुलाया, है तो जाना ही होगा (हिंदी गजल/ गीतिक
*अभिनंदन के लिए बुलाया, है तो जाना ही होगा (हिंदी गजल/ गीतिक
Ravi Prakash
श्रृंगारिक दोहे
श्रृंगारिक दोहे
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
राम अवध के
राम अवध के
Sanjay ' शून्य'
ऐश ट्रे   ...
ऐश ट्रे ...
sushil sarna
अपनी गजब कहानी....
अपनी गजब कहानी....
डॉ.सीमा अग्रवाल
■ आंख खोलो अभियान
■ आंख खोलो अभियान
*Author प्रणय प्रभात*
सर्दी
सर्दी
Dhriti Mishra
💐रे मनुष्य💐
💐रे मनुष्य💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
***दिल बहलाने  लाया हूँ***
***दिल बहलाने लाया हूँ***
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
कुछ बातें मन में रहने दो।
कुछ बातें मन में रहने दो।
surenderpal vaidya
" रे, पंछी पिंजड़ा में पछताए "
Chunnu Lal Gupta
23/99.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/99.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
किसान आंदोलन
किसान आंदोलन
मनोज कर्ण
डा. तेज सिंह : हिंदी दलित साहित्यालोचना के एक प्रमुख स्तंभ का स्मरण / MUSAFIR BAITHA
डा. तेज सिंह : हिंदी दलित साहित्यालोचना के एक प्रमुख स्तंभ का स्मरण / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
छुपा सच
छुपा सच
Mahender Singh Manu
वतन की राह में, मिटने की हसरत पाले बैठा हूँ
वतन की राह में, मिटने की हसरत पाले बैठा हूँ
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दो दिन का प्यार था छोरी , दो दिन में ख़त्म हो गया |
दो दिन का प्यार था छोरी , दो दिन में ख़त्म हो गया |
The_dk_poetry
आलेख : सजल क्या हैं
आलेख : सजल क्या हैं
Sushila Joshi
हम जंग में कुछ ऐसा उतरे
हम जंग में कुछ ऐसा उतरे
Ankita Patel
बेटियां
बेटियां
Mukesh Kumar Sonkar
प्रेम और सद्भाव के रंग सारी दुनिया पर डालिए
प्रेम और सद्भाव के रंग सारी दुनिया पर डालिए
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
आया सखी बसंत...!
आया सखी बसंत...!
Neelam Sharma
विचार सरिता
विचार सरिता
Shyam Sundar Subramanian
सँभल रहा हूँ
सँभल रहा हूँ
N.ksahu0007@writer
शिक्षक हमारे देश के
शिक्षक हमारे देश के
Bhaurao Mahant
पूस की रात।
पूस की रात।
Anil Mishra Prahari
वक्त से पहले..
वक्त से पहले..
Harminder Kaur
लार्जर देन लाइफ होने लगे हैं हिंदी फिल्मों के खलनायक -आलेख
लार्जर देन लाइफ होने लगे हैं हिंदी फिल्मों के खलनायक -आलेख
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
सफलता का सोपान
सफलता का सोपान
Sandeep Pande
न गिराओ हवाओं मुझे , औकाद में रहो
न गिराओ हवाओं मुझे , औकाद में रहो
कवि दीपक बवेजा
Loading...