Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Feb 2024 · 1 min read

प्रेम

टूट कर भी जुड़े प्रीत की डोर है
लाख चाहें न मुड़ती किसी ओर है
प्रेम मरता नहीं कर जुदा दे भले
सांस अंतिम भी करती न कमजोर है

@सुस्मिता सिंह ‘काव्यमय’

Language: Hindi
55 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
संबंध क्या
संबंध क्या
Shweta Soni
दोहा छन्द
दोहा छन्द
नाथ सोनांचली
जीवन में जब संस्कारों का हो जाता है अंत
जीवन में जब संस्कारों का हो जाता है अंत
प्रेमदास वसु सुरेखा
गांव की बात निराली
गांव की बात निराली
जगदीश लववंशी
पर्यावरण
पर्यावरण
Madhavi Srivastava
गरीबी की उन दिनों में ,
गरीबी की उन दिनों में ,
Yogendra Chaturwedi
कुंडलिया छंद
कुंडलिया छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
दुकान में रहकर सीखा
दुकान में रहकर सीखा
Ms.Ankit Halke jha
ग़र हो इजाजत
ग़र हो इजाजत
हिमांशु Kulshrestha
कैसे प्रियवर मैं कहूँ,
कैसे प्रियवर मैं कहूँ,
sushil sarna
"किसी के लिए"
Dr. Kishan tandon kranti
फितरत
फितरत
लक्ष्मी सिंह
"जिंदगी"
नेताम आर सी
😊आज का ज्ञान😊
😊आज का ज्ञान😊
*Author प्रणय प्रभात*
जिंदगी की सांसे
जिंदगी की सांसे
Harminder Kaur
फौजी जवान
फौजी जवान
Satish Srijan
छू लेगा बुलंदी को तेरा वजूद अगर तुझमे जिंदा है
छू लेगा बुलंदी को तेरा वजूद अगर तुझमे जिंदा है
'अशांत' शेखर
बिहार–झारखंड की चुनिंदा दलित कविताएं (सम्पादक डा मुसाफ़िर बैठा & डा कर्मानन्द आर्य)
बिहार–झारखंड की चुनिंदा दलित कविताएं (सम्पादक डा मुसाफ़िर बैठा & डा कर्मानन्द आर्य)
Dr MusafiR BaithA
*ताना कंटक सा लगता है*
*ताना कंटक सा लगता है*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मित्र बनाने से पहले आप भली भाँति जाँच और परख लें ! आपके विचा
मित्र बनाने से पहले आप भली भाँति जाँच और परख लें ! आपके विचा
DrLakshman Jha Parimal
🍂🍂🍂🍂*अपना गुरुकुल*🍂🍂🍂🍂
🍂🍂🍂🍂*अपना गुरुकुल*🍂🍂🍂🍂
Dr. Vaishali Verma
💐प्रेम कौतुक-309💐
💐प्रेम कौतुक-309💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
इच्छा-मृत्यु (बाल कविता)
इच्छा-मृत्यु (बाल कविता)
Ravi Prakash
सवा सेर
सवा सेर
Dr. Pradeep Kumar Sharma
स्वर्ग से सुंदर मेरा भारत
स्वर्ग से सुंदर मेरा भारत
Mukesh Kumar Sonkar
दोगलापन
दोगलापन
Mamta Singh Devaa
रूठ जा..... ये हक है तेरा
रूठ जा..... ये हक है तेरा
सिद्धार्थ गोरखपुरी
प्यार ना होते हुए भी प्यार हो ही जाता हैं
प्यार ना होते हुए भी प्यार हो ही जाता हैं
Jitendra Chhonkar
इश्क़ के समंदर में
इश्क़ के समंदर में
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
“ज़िंदगी अगर किताब होती”
“ज़िंदगी अगर किताब होती”
पंकज कुमार कर्ण
Loading...