Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Oct 2023 · 1 min read

प्रेम

“तु ना मिला तो ख़ुद से जुदा हो जायेंगे,
जो मिला तो जग पे फ़िदा हो जायेंगे,
प्रेम पूजा से भी बड़ी इबादत है रब की,
प्रेम में हुए हम तो, ख़ुदा हो जायेंगे ”
©आत्मबोध

190 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कहो जी होली है 【गीत】
कहो जी होली है 【गीत】
Ravi Prakash
एक और द्रौपदी (अंतःकरण झकझोरती कहानी)
एक और द्रौपदी (अंतःकरण झकझोरती कहानी)
दुष्यन्त 'बाबा'
आपकी मुस्कुराहट बताती है फितरत आपकी।
आपकी मुस्कुराहट बताती है फितरत आपकी।
Rj Anand Prajapati
रोला छंद
रोला छंद
sushil sarna
सब्र की मत छोड़ना पतवार।
सब्र की मत छोड़ना पतवार।
Anil Mishra Prahari
घूर
घूर
Dr MusafiR BaithA
#लघु_कविता
#लघु_कविता
*Author प्रणय प्रभात*
सब पर सब भारी ✍️
सब पर सब भारी ✍️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
"मकड़जाल"
Dr. Kishan tandon kranti
अकेले
अकेले
Dr.Pratibha Prakash
हर किसी के पास एक जैसी ज़िंदगी की घड़ी है, फिर एक तो आराम से
हर किसी के पास एक जैसी ज़िंदगी की घड़ी है, फिर एक तो आराम से
पूर्वार्थ
प्रतीक्षा
प्रतीक्षा
Kanchan Khanna
यही तो जिंदगी का सच है
यही तो जिंदगी का सच है
gurudeenverma198
निहारने आसमां को चले थे, पर पत्थरों से हम जा टकराये।
निहारने आसमां को चले थे, पर पत्थरों से हम जा टकराये।
Manisha Manjari
कुछ लिखा हैं तुम्हारे लिए, तुम सुन पाओगी क्या
कुछ लिखा हैं तुम्हारे लिए, तुम सुन पाओगी क्या
Writer_ermkumar
Every morning, A teacher rises in me
Every morning, A teacher rises in me
Ankita Patel
बेटियां
बेटियां
Mukesh Kumar Sonkar
तेरा - मेरा
तेरा - मेरा
Ramswaroop Dinkar
हर कोई जिन्दगी में अब्बल होने की होड़ में भाग रहा है
हर कोई जिन्दगी में अब्बल होने की होड़ में भाग रहा है
कवि दीपक बवेजा
क्या चाहती हूं मैं जिंदगी से
क्या चाहती हूं मैं जिंदगी से
Harminder Kaur
मुकाम यू ही मिलते जाएंगे,
मुकाम यू ही मिलते जाएंगे,
Buddha Prakash
करीब हो तुम मगर
करीब हो तुम मगर
Surinder blackpen
सफलता के बीज बोने का सर्वोत्तम समय
सफलता के बीज बोने का सर्वोत्तम समय
Paras Nath Jha
तोल मोल के बोलो वचन ,
तोल मोल के बोलो वचन ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
चलती है जिन्दगी
चलती है जिन्दगी
डॉ. शिव लहरी
एकता
एकता
Dr. Pradeep Kumar Sharma
आदिपुरुष फ़िल्म
आदिपुरुष फ़िल्म
Dr Archana Gupta
आज का चयनित छंद
आज का चयनित छंद"रोला"अर्ध सम मात्रिक
rekha mohan
हमने देखा है हिमालय को टूटते
हमने देखा है हिमालय को टूटते
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
जन्मदिन पर लिखे अशआर
जन्मदिन पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
Loading...