Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Feb 2017 · 1 min read

प्रेम

चेतना,
निर्णय,
अधिकार,
एक एक कर सब
समर्पित कर चली हो,
स्त्री तुम प्रेम कर बैठी हो!
सहगामिनी बनने चली थी,
अनुगामिनी रह गई हो,
स्त्री! तुम प्रेम कर बैठी हो!
घर,नौकरी,बिल,मीटिंग्स तक
दायरा विस्तृत कर लिया है
आजादी का ‘आभास’ कराने वाले
पिंजरे का दायरा..!
समाज की चरमराती खूँटी पर
टांग आयी हो
‘इंडिविजुअल एन्टिटी’ को!
टिकाये रखा है तुमने
अपने कंधों पर
सामंती चतुर्वर्ण व्यवस्था का भार,
रीढ़ अपनी झुका बैठी हो
स्त्री! तुम प्रेम कर बैठी हो
विभ्रमों और दुविधा के
मकड़जाल में फंसी
कब पहचानोगी कि
महज श्वास लेना भर
जीना नहीं होता!
सर्वत्र प्रेम लुटाने वाली
कब सिखोगी कि
खुद से प्रेम किये बैगर
असंभव है जीवित रह पाना!
स्त्री!क्या सचमुच तुम प्रेम कर बैठी हो!!

अल्पना नागर

Language: Hindi
4 Likes · 3 Comments · 679 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
छोड़ कर घर बार सब जाएं कहीं।
छोड़ कर घर बार सब जाएं कहीं।
सत्य कुमार प्रेमी
हर प्रेम कहानी का यही अंत होता है,
हर प्रेम कहानी का यही अंत होता है,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
बिगड़ी किश्मत बन गयी मेरी,
बिगड़ी किश्मत बन गयी मेरी,
Satish Srijan
मन तो मन है
मन तो मन है
Pratibha Pandey
2379.पूर्णिका
2379.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
भीगे-भीगे मौसम में.....!!
भीगे-भीगे मौसम में.....!!
Kanchan Khanna
हकीकत पर एक नजर
हकीकत पर एक नजर
पूनम झा 'प्रथमा'
ये जो आँखों का पानी है बड़ा खानदानी है
ये जो आँखों का पानी है बड़ा खानदानी है
कवि दीपक बवेजा
16, खुश रहना चाहिए
16, खुश रहना चाहिए
Dr Shweta sood
लालच
लालच
Vandna thakur
जाति-धर्म
जाति-धर्म
लक्ष्मी सिंह
"हद"
Dr. Kishan tandon kranti
क्या कहना हिन्दी भाषा का
क्या कहना हिन्दी भाषा का
shabina. Naaz
कलाकृति बनाम अश्लीलता।
कलाकृति बनाम अश्लीलता।
Acharya Rama Nand Mandal
जितना मिला है उतने में ही खुश रहो मेरे दोस्त
जितना मिला है उतने में ही खुश रहो मेरे दोस्त
कृष्णकांत गुर्जर
मुफ्त राशन के नाम पर गरीबी छिपा रहे
मुफ्त राशन के नाम पर गरीबी छिपा रहे
VINOD CHAUHAN
// तुम सदा खुश रहो //
// तुम सदा खुश रहो //
Shivkumar barman
जिंदगी को रोशन करने के लिए
जिंदगी को रोशन करने के लिए
Ragini Kumari
लिखना है मुझे वह सब कुछ
लिखना है मुझे वह सब कुछ
पूनम कुमारी (आगाज ए दिल)
जिस प्रकार इस धरती में गुरुत्वाकर्षण समाहित है वैसे ही इंसान
जिस प्रकार इस धरती में गुरुत्वाकर्षण समाहित है वैसे ही इंसान
Rj Anand Prajapati
*गाड़ी तन की चल रही, तब तक सबको प्यार (कुंडलिया)*
*गाड़ी तन की चल रही, तब तक सबको प्यार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
आगे पीछे का नहीं अगल बगल का
आगे पीछे का नहीं अगल बगल का
Paras Nath Jha
आज की नारी
आज की नारी
Shriyansh Gupta
Kya kahun ki kahne ko ab kuchh na raha,
Kya kahun ki kahne ko ab kuchh na raha,
Irfan khan
जिंदगी की राह में हर कोई,
जिंदगी की राह में हर कोई,
Yogendra Chaturwedi
अँधेरे रास्ते पर खड़ा आदमी.......
अँधेरे रास्ते पर खड़ा आदमी.......
सिद्धार्थ गोरखपुरी
#अमृत_पर्व
#अमृत_पर्व
*Author प्रणय प्रभात*
कितना प्यार
कितना प्यार
Swami Ganganiya
कभी जब नैन  मतवारे  किसी से चार होते हैं
कभी जब नैन मतवारे किसी से चार होते हैं
Dr Archana Gupta
Loading...