Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Mar 2023 · 1 min read

प्रेम

प्रेम को समझे तो यही सब कुछ है!
न समझ पाए तो फिर कहाँ कुछ है!!

हंसी, ख़ुशी, त्याग, इंतजार और न जाने क्या क्या!
प्रेम करके करना होता ज़िंदगी मे बहुत कुछ है!!

प्रेम का भी अपना अलग असर होता है!
ये दिल सुनता कुछ और समझता कुछ है!!

हो जाये एक बार प्रेम किसी से !
फिर इंसान के बस में नही कुछ है!!

सबके बस की बात नही ये समझ पाना!
प्रेम हो जाये तो होने लगता कुछ कुछ है!!

प्रेम की भी “अद्वितीय” फ़ितरत होती है यारों!
ज़िंदगी होती है कुछ और लगती कुछ है!!

स्वरचित/मौलिक ✍️
डॉ. शैलेन्द्र कुमार गुप्ता
“अद्वितीय”
7828506874
छत्तीसगढ़

Language: Hindi
239 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मचलते  है  जब   दिल  फ़िज़ा भी रंगीन लगती है,
मचलते है जब दिल फ़िज़ा भी रंगीन लगती है,
डी. के. निवातिया
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
विवशता
विवशता
आशा शैली
Tum har  wakt hua krte the kbhi,
Tum har wakt hua krte the kbhi,
Sakshi Tripathi
दिल शीशे सा
दिल शीशे सा
Neeraj Agarwal
श्री राम आ गए...!
श्री राम आ गए...!
भवेश
दुनिया में कहीं नहीं है मेरे जैसा वतन
दुनिया में कहीं नहीं है मेरे जैसा वतन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
3364.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3364.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
शादी की अंगूठी
शादी की अंगूठी
Sidhartha Mishra
माँ भारती के वरदपुत्र: नरेन्द्र मोदी
माँ भारती के वरदपुत्र: नरेन्द्र मोदी
Dr. Upasana Pandey
जन्नत
जन्नत
जय लगन कुमार हैप्पी
इक शे'र
इक शे'र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
भारत और इंडिया तुलनात्मक सृजन
भारत और इंडिया तुलनात्मक सृजन
लक्ष्मी सिंह
*रोने का प्रतिदिन करो, जीवन में अभ्यास【कुंडलिया】*
*रोने का प्रतिदिन करो, जीवन में अभ्यास【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
बिना कोई परिश्रम के, न किस्मत रंग लाती है।
बिना कोई परिश्रम के, न किस्मत रंग लाती है।
सत्य कुमार प्रेमी
दोहा-विद्यालय
दोहा-विद्यालय
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
"रियायत के रंग"
Dr. Kishan tandon kranti
मजबूरी नहीं जरूरी
मजबूरी नहीं जरूरी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
अर्थ  उपार्जन के लिए,
अर्थ उपार्जन के लिए,
sushil sarna
सृजन
सृजन
Bodhisatva kastooriya
गिफ्ट में क्या दू सोचा उनको,
गिफ्ट में क्या दू सोचा उनको,
Yogendra Chaturwedi
ज़िंदगी तेरे मिज़ाज से
ज़िंदगी तेरे मिज़ाज से
Dr fauzia Naseem shad
मेरा नौकरी से निलंबन?
मेरा नौकरी से निलंबन?
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
dr arun kumar shastri
dr arun kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
है प्यार तो जता दो
है प्यार तो जता दो
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
क्या चाहती हूं मैं जिंदगी से
क्या चाहती हूं मैं जिंदगी से
Harminder Kaur
#गद्य_छाप_पद्य
#गद्य_छाप_पद्य
*Author प्रणय प्रभात*
रंजीत कुमार शुक्ल
रंजीत कुमार शुक्ल
Ranjeet kumar Shukla
"प्यासा"के गजल
Vijay kumar Pandey
मौज के दोराहे छोड़ गए,
मौज के दोराहे छोड़ गए,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
Loading...