Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jan 2024 · 1 min read

प्रेम लौटता है धीमे से

प्रेम लौटता है धीमे से , जीवन के अंगना।
खनकती है पायल‌ ,बज उठता है कंगना।

मन मयूर सा नाचे ,बजने लगते हैं ढोल
प्रियतम ग़र आकर ,बोल दे मीठे बोल।

मारे लाज के झुक जाये ,ये कजरारे नैन
बिन पिया के सब सूना,आये न मोहे चैन।

कितना खूबसूरत होता है, रिश्ता प्यार का
मज़ा ही कुछ और है उस पर इंतज़ार का

सुरिंदर कौर

2 Likes · 71 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Surinder blackpen
View all
You may also like:
बड़े होते बच्चे
बड़े होते बच्चे
Manu Vashistha
कुछ लोग गुलाब की तरह होते हैं।
कुछ लोग गुलाब की तरह होते हैं।
Srishty Bansal
मां तुम्हें सरहद की वो बाते बताने आ गया हूं।।
मां तुम्हें सरहद की वो बाते बताने आ गया हूं।।
Ravi Yadav
परो को खोल उड़ने को कहा था तुमसे
परो को खोल उड़ने को कहा था तुमसे
ruby kumari
नया
नया
Neeraj Agarwal
आख़री तकिया कलाम
आख़री तकिया कलाम
Rohit yadav
कौन कहता ये यहां नहीं है ?🙏
कौन कहता ये यहां नहीं है ?🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
#लघुकथा
#लघुकथा
*Author प्रणय प्रभात*
बहन की रक्षा करना हमारा कर्तव्य ही नहीं बल्कि धर्म भी है, पर
बहन की रक्षा करना हमारा कर्तव्य ही नहीं बल्कि धर्म भी है, पर
जय लगन कुमार हैप्पी
6. शहर पुराना
6. शहर पुराना
Rajeev Dutta
जून की दोपहर (कविता)
जून की दोपहर (कविता)
Kanchan Khanna
मैं तो महज इंसान हूँ
मैं तो महज इंसान हूँ
VINOD CHAUHAN
मैं साहिल पर पड़ा रहा
मैं साहिल पर पड़ा रहा
Sahil Ahmad
मजदूर की बरसात
मजदूर की बरसात
goutam shaw
💐प्रेम कौतुक-158💐
💐प्रेम कौतुक-158💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
तन्हा क्रिकेट ग्राउंड में....
तन्हा क्रिकेट ग्राउंड में....
पूर्वार्थ
सीखने की, ललक है, अगर आपमें,
सीखने की, ललक है, अगर आपमें,
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
दोहे... चापलूस
दोहे... चापलूस
लक्ष्मीकान्त शर्मा 'रुद्र'
"सत्य अमर है"
Ekta chitrangini
नारी टीवी में दिखी, हर्षित गधा अपार (हास्य कुंडलिया)
नारी टीवी में दिखी, हर्षित गधा अपार (हास्य कुंडलिया)
Ravi Prakash
होकर उल्लू पर सवार
होकर उल्लू पर सवार
Pratibha Pandey
प्रेम में डूब जाने वाले,
प्रेम में डूब जाने वाले,
Buddha Prakash
माशूक की दुआ
माशूक की दुआ
Shekhar Chandra Mitra
सपने सारे टूट चुके हैं ।
सपने सारे टूट चुके हैं ।
Arvind trivedi
कोई इतना नहीं बलवान
कोई इतना नहीं बलवान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
" रिन्द (शराबी) "
Dr. Kishan tandon kranti
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सुनो . . जाना
सुनो . . जाना
shabina. Naaz
2797. *पूर्णिका*
2797. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
She was the Mother - an ode to Mother Teresa
She was the Mother - an ode to Mother Teresa
Dhriti Mishra
Loading...