Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Feb 2024 · 1 min read

प्रेम में राग हो तो

प्रेम में राग हो तो
प्रेम नर्क बन जायेगा !
प्रेम में आसक्ति हो
प्रेम पिंजरा बन जाएगा
प्रेम में दोनों ही सम्भावनाएँ हैं !
प्रेम के साथ कामना
और आसक्ति जुड़ जाए
तो जैसे, प्रेम पक्षी के
गले में पत्थर बाँध दिये,
अब वह उड़ न सकेगा
प्रेम के पक्षी को जैसे
स्वर्ण पिंजड़े में बन्द कर दिया
पिंजड़ा कितना ही बहुमूल्य हो,
हीरे-जवाहरात जड़े हों,
तो भी पिंजड़ा पिंजड़ा ही है—
प्रेम को नष्ट कर देगा
प्रेम एक अनुभूति है
प्रेम संगीत के राग सा है
जितना उन्मुक्त,
उतना ही पल्लवित होता है

हिमांशु Kulshrestha

70 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
उदारता
उदारता
RAKESH RAKESH
रमेशराज के त्योहार एवं अवसरविशेष के बालगीत
रमेशराज के त्योहार एवं अवसरविशेष के बालगीत
कवि रमेशराज
.......रूठे अल्फाज...
.......रूठे अल्फाज...
Naushaba Suriya
लोकतंत्र को मजबूत यदि बनाना है
लोकतंत्र को मजबूत यदि बनाना है
gurudeenverma198
पूरा जब वनवास हुआ तब, राम अयोध्या वापस आये
पूरा जब वनवास हुआ तब, राम अयोध्या वापस आये
Dr Archana Gupta
पहला श्लोक ( भगवत गीता )
पहला श्लोक ( भगवत गीता )
Bhupendra Rawat
अंधविश्वास का पोषण
अंधविश्वास का पोषण
Mahender Singh
अमीर-ग़रीब वर्ग दो,
अमीर-ग़रीब वर्ग दो,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
एक अकेला रिश्ता
एक अकेला रिश्ता
विजय कुमार अग्रवाल
समझा दिया
समझा दिया
sushil sarna
बुद्ध पुर्णिमा
बुद्ध पुर्णिमा
Satish Srijan
तेरी जुस्तुजू
तेरी जुस्तुजू
Shyam Sundar Subramanian
दीपावली
दीपावली
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
महादेव को जानना होगा
महादेव को जानना होगा
Anil chobisa
हर मोड़ पर ,
हर मोड़ पर ,
Dhriti Mishra
राम-राज्य
राम-राज्य
Shekhar Chandra Mitra
"महत्वाकांक्षा"
Dr. Kishan tandon kranti
दिल में हमारे
दिल में हमारे
Dr fauzia Naseem shad
एक अबोध बालक
एक अबोध बालक
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"बहनों के संग बीता बचपन"
Ekta chitrangini
ज़िंदगी में गीत खुशियों के ही गाना दोस्तो
ज़िंदगी में गीत खुशियों के ही गाना दोस्तो
Dr. Alpana Suhasini
*प्राण-प्रतिष्ठा सच पूछो तो, हुई राष्ट्र अभिमान की (गीत)*
*प्राण-प्रतिष्ठा सच पूछो तो, हुई राष्ट्र अभिमान की (गीत)*
Ravi Prakash
2624.पूर्णिका
2624.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
सबके हाथ में तराजू है ।
सबके हाथ में तराजू है ।
Ashwini sharma
नजरिया
नजरिया
नेताम आर सी
कुछ मुक्तक...
कुछ मुक्तक...
डॉ.सीमा अग्रवाल
💐प्रेम कौतुक-542💐
💐प्रेम कौतुक-542💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
किसी भी इंसान के
किसी भी इंसान के
*Author प्रणय प्रभात*
माँ की एक कोर में छप्पन का भोग🍓🍌🍎🍏
माँ की एक कोर में छप्पन का भोग🍓🍌🍎🍏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
शासन अपनी दुर्बलताएँ सदा छिपाता।
शासन अपनी दुर्बलताएँ सदा छिपाता।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
Loading...