Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Jun 2023 · 1 min read

प्रेम पर शब्दाडंबर लेखकों का / MUSAFIR BAITHA

अमृता प्रीतम कहीं लिखती हैं, “स्त्री तो ख़ुद डूब जाने को तैयार रहती है, समदंर अगर उसकी पसंद का हो!”

अमृता प्रीतम का यह कथन ग़लत है! सबसे पहले यह कि स्त्रियों को डूबने का पात्र समझना और किसी को, विपरीत को डुबा सकने में सक्षम समंदर जैसा विशाल अटाव का सामान, इस रूपक में ही विसंगति है।

दूसरी बात। अगर इस तुलनात्मकता को सही माने तो भी हद से हद स्वानुभव हो सकता है जबकि उन्होंने इस बात को सर्वजनीन कथन या सत्य सा बना कर प्रस्तुत किया है।

तीसरी बात। दूसरी तरफ से भी तो यह भी सत्य तो हो सकता है कि समंदर उस स्त्री का ही अपने में डूबना स्वीकार करता होगा जो उसकी पसंद की हो!

चौथी बात। प्यार में डूबना और समंदर में डूबना एक ही नहीं है।

समंदर में डूब कर हम जिंदगी से हाथ धो बैठते हैं जबकि प्यार में डूबकर हम नई जिंदगी पाते हैं।

Language: Hindi
Tag: लेख
215 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr MusafiR BaithA
View all
You may also like:
प्रणय 6
प्रणय 6
Ankita Patel
■
■ "शिक्षा" और "दीक्षा" का अंतर भी समझ लो महाप्रभुओं!!
*Author प्रणय प्रभात*
Dating Affirmations:
Dating Affirmations:
पूर्वार्थ
I want to collaborate with my  lost pen,
I want to collaborate with my lost pen,
Sakshi Tripathi
रमेश कुमार जैन ,उनकी पत्रिका रजत और विशाल आयोजन
रमेश कुमार जैन ,उनकी पत्रिका रजत और विशाल आयोजन
Ravi Prakash
आईना
आईना
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
कहने को आज है एक मई,
कहने को आज है एक मई,
Satish Srijan
जुड़वा भाई ( शिक्षाप्रद कहानी )
जुड़वा भाई ( शिक्षाप्रद कहानी )
AMRESH KUMAR VERMA
मोहब्बत है अगर तुमको जिंदगी से
मोहब्बत है अगर तुमको जिंदगी से
gurudeenverma198
गूंजेगा नारा जय भीम का
गूंजेगा नारा जय भीम का
Shekhar Chandra Mitra
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
चोर
चोर
Shyam Sundar Subramanian
जरूरत के हिसाब से सारे मानक बदल गए
जरूरत के हिसाब से सारे मानक बदल गए
सिद्धार्थ गोरखपुरी
शांति युद्ध
शांति युद्ध
Dr.Priya Soni Khare
जय अयोध्या धाम की
जय अयोध्या धाम की
Arvind trivedi
कल तक जो थे हमारे, अब हो गए विचारे।
कल तक जो थे हमारे, अब हो गए विचारे।
सत्य कुमार प्रेमी
वक्त का सिलसिला बना परिंदा
वक्त का सिलसिला बना परिंदा
Ravi Shukla
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
कौन कहता है कि नदी सागर में
कौन कहता है कि नदी सागर में
Anil Mishra Prahari
Dard-e-Madhushala
Dard-e-Madhushala
Tushar Jagawat
मेरी मजबूरी को बेवफाई का नाम न दे,
मेरी मजबूरी को बेवफाई का नाम न दे,
Priya princess panwar
इम्तहान ना ले मेरी मोहब्बत का,
इम्तहान ना ले मेरी मोहब्बत का,
Radha jha
साक्षात्कार एक स्वास्थ्य मंत्री से [ व्यंग्य ]
साक्षात्कार एक स्वास्थ्य मंत्री से [ व्यंग्य ]
कवि रमेशराज
रिश्तों को निभा
रिश्तों को निभा
Dr fauzia Naseem shad
हर पाँच बरस के बाद
हर पाँच बरस के बाद
Johnny Ahmed 'क़ैस'
2972.*पूर्णिका*
2972.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
💐प्रेम कौतुक-497💐
💐प्रेम कौतुक-497💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*मतदान*
*मतदान*
Shashi kala vyas
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
"कबड्डी"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...