Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Sep 2022 · 1 min read

प्रेम की पींग बढ़ाओ जरा धीरे धीरे

प्रेम की पींग बढ़ाओ जरा धीरे धीरे।
इसका रंग चढ़ाओ जरा धीरे धीरे।।

रूठ जाऊं अगर तुमसे जिंदगी में।
आकर मुझे मनाओ जरा धीरे धीरे।।

पढ़ाती रहती हो दिन रात तुम मुझको।
अब मुझे पढ़ाओ तुम जरा धीरे धीरे।।

मनाया है तुमने जिंदगी भर मुझको।
बुढ़ापा आ गया है,मनाओ जरा धीरे धीरे।।

मिट गया सब कुछ रहा न कुछ अब बाकी।
मेहरबानी करो कुछ,मिटाओ जरा धीरे धीरे।।

आ चुकी है बाढ़ रस्तोगी की प्रेम गंगा में।
प्रेम की नाव अब चलाओ अब धीरे धीरे।।

आर के रस्तोगी गुरुग्राम

2 Likes · 2 Comments · 310 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ram Krishan Rastogi
View all
You may also like:
संकल्प
संकल्प
Bodhisatva kastooriya
उस पद की चाहत ही क्या,
उस पद की चाहत ही क्या,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
क्यूँ करते हो तुम हम से हिसाब किताब......
क्यूँ करते हो तुम हम से हिसाब किताब......
shabina. Naaz
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
गुजर गई कैसे यह जिंदगी, हुआ नहीं कुछ अहसास हमको
गुजर गई कैसे यह जिंदगी, हुआ नहीं कुछ अहसास हमको
gurudeenverma198
*कुछ पुरातन और थोड़ा, आधुनिक गठजोड़ है (हिंदी गजल)*
*कुछ पुरातन और थोड़ा, आधुनिक गठजोड़ है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
भारत के लाल को भारत रत्न
भारत के लाल को भारत रत्न
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
चुप रहो
चुप रहो
Sûrëkhâ
पीर
पीर
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
जीवन साथी
जीवन साथी
Aman Sinha
प्यार के
प्यार के
हिमांशु Kulshrestha
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
विविध विषय आधारित कुंडलियां
विविध विषय आधारित कुंडलियां
नाथ सोनांचली
2881.*पूर्णिका*
2881.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
रास्ता तुमने दिखाया...
रास्ता तुमने दिखाया...
डॉ.सीमा अग्रवाल
हिन्दी दोहा बिषय- तारे
हिन्दी दोहा बिषय- तारे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
कर्त्तव्य
कर्त्तव्य
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
बनें जुगनू अँधेरों में सफ़र आसान हो जाए
बनें जुगनू अँधेरों में सफ़र आसान हो जाए
आर.एस. 'प्रीतम'
डारा-मिरी
डारा-मिरी
Dr. Kishan tandon kranti
कुत्ते
कुत्ते
Dr MusafiR BaithA
ग़ज़ल/नज़्म - उसके सारे जज़्बात मद्देनजर रखे
ग़ज़ल/नज़्म - उसके सारे जज़्बात मद्देनजर रखे
अनिल कुमार
धरा हमारी स्वच्छ हो, सबका हो उत्कर्ष।
धरा हमारी स्वच्छ हो, सबका हो उत्कर्ष।
surenderpal vaidya
जीवन  के  हर  चरण  में,
जीवन के हर चरण में,
Sueta Dutt Chaudhary Fiji
फिर से तन्हा ek gazal by Vinit Singh Shayar
फिर से तन्हा ek gazal by Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
जानबूझकर कभी जहर खाया नहीं जाता
जानबूझकर कभी जहर खाया नहीं जाता
सौरभ पाण्डेय
#मानो_या_न_मानो
#मानो_या_न_मानो
*प्रणय प्रभात*
कोई नही है अंजान
कोई नही है अंजान
Basant Bhagawan Roy
टूटेगा एतबार
टूटेगा एतबार
Dr fauzia Naseem shad
उनको मंजिल कहाँ नसीब
उनको मंजिल कहाँ नसीब
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
किलकारी गूंजे जब बच्चे हॅंसते है।
किलकारी गूंजे जब बच्चे हॅंसते है।
सत्य कुमार प्रेमी
Loading...