Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Mar 2017 · 2 min read

प्रेम की कहानी

मेरे प्रेम की कहानी मेरा दिल सुना रहा है,
कभी खुल के हँस रहा है कभी छुप के रो रहा हैं
ये प्यार में तुम्हारे पतझड़ सा हो गया है
ये सूखता हुआ एक,पत्ते सा टूटता हैं
मेरे प्यार की कहानी मेरा दिल सुना रहा है
कभी रो रहा है ज़ालिम कभी मुझपे हँस रहा हैं
तुम्हें गुलाब कह रहा है,खुद झाड़ हो गया हैं
तेरे बिना ओ मेरे साथी,दिल दर्द हो गया हैं
पतझड़ में कोई झड़ते पत्ते सा झड़ गया है
मेरे प्रेम की कहानी मेरा दिल सुना रहा है
तुम तेहरती हो हरपल,जिसमे नहा रही हो
वो कोई नही है दरिया,आँखे है मेरी साथी
तुम बिन तड़प रही है,तुम बिन ये बह रही हैं
मेरे प्यार की कहानी मेरा दिल सुना रहा है
मेरा तेरे दिल से साथी है जनम जनम का
रिश्ता
कान्हा का जैसे राधा से है कोई रिश्ता
वैसे ही मेरे साथी तुमसे मेरा है रिश्ता
मेरे प्रेम की कहानी मेरा दिल सुना रहा हैं
तुम्हे दीपक बता के साथी,बात्ती सा जल रहा हैं
तुम्हें चाँद जैसा कह कर,चाँदनी बिखेरता है
मेरे प्यार की महक सुन,जज्बात तुम बनी हो
गीतों में जो समाये अहसास तुम हुई हो
मेरे प्यार की कहानी मेरा दिल सुना रहा हैं
मैं राख हो रहा हूँ वो खाक बन गई
तेरे बिन गुजरे पल में मैं पीर हो गया हूँ
महलो में जैसे बिता बिन तेरे मेरे साथी
उर्मिला के बीते पल जैसा हो गया हूँ
मेरे प्रेम की कहानी मेरा दिल सुना रहा है
सर पर न हाथ कोई,गम में न साथ कोई
मेरा दिल गरीब तनहा आंशू बहा रहा हैं
गुमनाम सा ये होकर बेचैन हो रहा है
तेरे गम उठा रहा हैं, खुद को जला रहा है
मेरे प्रेम की कहानी मेरा दिल सुना रहा हैं
मैं यूँ ही न रो पड़ा हूँ यूँ ही न हँस रहा हूँ
बेचैन हो के साथी यूँ ही न गा रहा हूँ
तेरी याद के सहारे थोड़ा सम्भल रहा हूँ
मैं थोड़ा हँस रहा हूँ,मैं थोड़ा मचल रहा हूँ
बस ये लगा है मुझको वो मुझे मना रही हैं
मेरे प्रेम की कहानी मेरा दिल सुना रहा है
सारे जहाँ की मस्ती थोड़ी सी लग रही
है
उन सात आसमा की बुलंदी भी आज है कम
जो आश बंध गई है वो मुझे बुला रही है
मेरे प्रेम की कहानी मेरा दिल सुना रहा है
मेरे दिल न जाने क्यों अब बेखबर सा हो रहा है
मिलने को तड़पता है, उनको बुला रहा हैं
कोई ख्याब मुझे साथी रातो को जगा रहा है
मुझे आज शाम से वो याद आ रहा हैं
ऋषभ तोमर (राधे)

1 Like · 612 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
खुद को सम्हाल ,भैया खुद को सम्हाल
खुद को सम्हाल ,भैया खुद को सम्हाल
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कुछ लोग गुलाब की तरह होते हैं।
कुछ लोग गुलाब की तरह होते हैं।
Srishty Bansal
कांटें हों कैक्टस  के
कांटें हों कैक्टस के
Atul "Krishn"
सावन का महीना
सावन का महीना
विजय कुमार अग्रवाल
तन्हा हूं,मुझे तन्हा रहने दो
तन्हा हूं,मुझे तन्हा रहने दो
Ram Krishan Rastogi
चुपचाप यूँ ही न सुनती रहो,
चुपचाप यूँ ही न सुनती रहो,
Dr. Man Mohan Krishna
पयोनिधि नेह में घोली, मधुर सुर साज है हिंदी।
पयोनिधि नेह में घोली, मधुर सुर साज है हिंदी।
Neelam Sharma
छंद मुक्त कविता : जी करता है
छंद मुक्त कविता : जी करता है
Sushila joshi
ग़ज़ल - रहते हो
ग़ज़ल - रहते हो
Mahendra Narayan
हाशिए के लोग
हाशिए के लोग
Shekhar Chandra Mitra
खुल जाये यदि भेद तो,
खुल जाये यदि भेद तो,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
एक युवक की हत्या से फ़्रांस क्रांति में उलझ गया ,
एक युवक की हत्या से फ़्रांस क्रांति में उलझ गया ,
DrLakshman Jha Parimal
कविता- घर घर आएंगे राम
कविता- घर घर आएंगे राम
Anand Sharma
ओ मेरी सोलमेट जन्मों से - संदीप ठाकुर
ओ मेरी सोलमेट जन्मों से - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
हरि हृदय को हरा करें,
हरि हृदय को हरा करें,
sushil sarna
"समष्टि"
Dr. Kishan tandon kranti
मेरी नन्ही परी।
मेरी नन्ही परी।
लक्ष्मी सिंह
लगाकर मुखौटा चेहरा खुद का छुपाए बैठे हैं
लगाकर मुखौटा चेहरा खुद का छुपाए बैठे हैं
Gouri tiwari
2541.पूर्णिका
2541.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
एक दिवाली ऐसी भी।
एक दिवाली ऐसी भी।
Manisha Manjari
"टी शर्ट"
Dr Meenu Poonia
कितना आसान होता है किसी रिश्ते को बनाना
कितना आसान होता है किसी रिश्ते को बनाना
पूर्वार्थ
इंसानियत
इंसानियत
Neeraj Agarwal
खिंचता है मन क्यों
खिंचता है मन क्यों
Shalini Mishra Tiwari
#मौसनी_मसखरी
#मौसनी_मसखरी
*Author प्रणय प्रभात*
बैठी रहो कुछ देर और
बैठी रहो कुछ देर और
gurudeenverma198
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
बूढ़ा बापू
बूढ़ा बापू
Madhu Shah
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मेरी आँखों में देखो
मेरी आँखों में देखो
हिमांशु Kulshrestha
Loading...