Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Nov 2016 · 1 min read

[[ प्रेम की अब कहानी सुनाने चली ]]

प्रेम की अब कहानी सुनाने चली ,!
प्रेम होता अमर ये बताने चली ,!!

रूठ कर श्याम कब से हैं बैठे यहाँ ,!
राधिका कृष्ण को अब मनाने चली ,!!

Nitin sharma

Language: Hindi
232 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आओ और सराहा जाये
आओ और सराहा जाये
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
#लघुकथा / आख़िरकार...
#लघुकथा / आख़िरकार...
*Author प्रणय प्रभात*
जब कभी तुम्हारा बेटा ज़बा हों, तो उसे बताना ज़रूर
जब कभी तुम्हारा बेटा ज़बा हों, तो उसे बताना ज़रूर
The_dk_poetry
प्रकृति ने अंँधेरी रात में चांँद की आगोश में अपने मन की सुंद
प्रकृति ने अंँधेरी रात में चांँद की आगोश में अपने मन की सुंद
Neerja Sharma
पापियों के हाथ
पापियों के हाथ
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
प्रेरणा और पराक्रम
प्रेरणा और पराक्रम
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
पाश्चात्यता की होड़
पाश्चात्यता की होड़
Mukesh Kumar Sonkar
अलमस्त रश्मियां
अलमस्त रश्मियां
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
प्रेम का पुजारी हूं, प्रेम गीत ही गाता हूं
प्रेम का पुजारी हूं, प्रेम गीत ही गाता हूं
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
सियासत में
सियासत में
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
Bato ki garma garmi me
Bato ki garma garmi me
Sakshi Tripathi
जिस तरीके से तुम हो बुलंदी पे अपने
जिस तरीके से तुम हो बुलंदी पे अपने
सिद्धार्थ गोरखपुरी
लहज़ा गुलाब सा है, बातें क़माल हैं
लहज़ा गुलाब सा है, बातें क़माल हैं
Dr. Rashmi Jha
*धाम अयोध्या का करूॅं, सदा हृदय से ध्यान (नौ दोहे)*
*धाम अयोध्या का करूॅं, सदा हृदय से ध्यान (नौ दोहे)*
Ravi Prakash
#एकताको_अंकगणित
#एकताको_अंकगणित
NEWS AROUND (SAPTARI,PHAKIRA, NEPAL)
होता है तेरी सोच का चेहरा भी आईना
होता है तेरी सोच का चेहरा भी आईना
Dr fauzia Naseem shad
Though of the day 😇
Though of the day 😇
ASHISH KUMAR SINGH
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*सूनी माँग* पार्ट-1
*सूनी माँग* पार्ट-1
Radhakishan R. Mundhra
2466.पूर्णिका
2466.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
क्या यह महज संयोग था या कुछ और.... (2)
क्या यह महज संयोग था या कुछ और.... (2)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
टूटा हूँ इतना कि जुड़ने का मन नही करता,
टूटा हूँ इतना कि जुड़ने का मन नही करता,
Vishal babu (vishu)
खुद का वजूद मिटाना पड़ता है
खुद का वजूद मिटाना पड़ता है
कवि दीपक बवेजा
⚘️महाशिवरात्रि मेरे लेख🌿
⚘️महाशिवरात्रि मेरे लेख🌿
Ms.Ankit Halke jha
💐प्रेम कौतुक-239💐
💐प्रेम कौतुक-239💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
!! जानें कितने !!
!! जानें कितने !!
Chunnu Lal Gupta
ध्यान में इक संत डूबा मुस्कुराए
ध्यान में इक संत डूबा मुस्कुराए
Shivkumar Bilagrami
मां से ही तो सीखा है।
मां से ही तो सीखा है।
SATPAL CHAUHAN
भगतसिंह: एक जीनियस
भगतसिंह: एक जीनियस
Shekhar Chandra Mitra
दिलबर दिलबर
दिलबर दिलबर
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Loading...