Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Feb 2024 · 1 min read

*प्रेम का सिखला रहा, मधु पाठ आज वसंत है(गीत)*

प्रेम का सिखला रहा, मधु पाठ आज वसंत है(गीत)
_________________________
प्रेम का सिखला रहा, मधु पाठ आज वसंत है
1)
जो मिले उसको हृदय से, अब लगाना सीखना
नेत्र में आत्मीयता भर, मित्रवत ही दीखना
आज अपनापन भरी, मन की उड़ान अनंत है
2)
जो मिली हमको सदी है, उस सदी को हम जिऍं
गंध फूलों की चुरा कर, पुष्प रस को फिर पिऍं
मुस्कुराती हर दिशा, विस्तृत अनूप दिगंत है
3)
कह रहा है मन प्रफुल्लित, आज गाना चाहिए
जो रहे रूठे अभी तक, वह मनाना चाहिए
पीत वस्त्रों को पहन, यह लग रहा मन संत है
———————————–
रचयिता: रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा रामपुर, उत्तर प्रदेश मोबाइल 9997615451

146 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
बदलने लगते है लोगो के हाव भाव जब।
बदलने लगते है लोगो के हाव भाव जब।
Rj Anand Prajapati
विरोध-रस की काव्य-कृति ‘वक्त के तेवर’ +रमेशराज
विरोध-रस की काव्य-कृति ‘वक्त के तेवर’ +रमेशराज
कवि रमेशराज
शीर्षक – फूलों के सतरंगी आंचल तले,
शीर्षक – फूलों के सतरंगी आंचल तले,
Sonam Puneet Dubey
दोस्ती तेरी मेरी
दोस्ती तेरी मेरी
Surya Barman
हम अपनी आवारगी से डरते हैं
हम अपनी आवारगी से डरते हैं
Surinder blackpen
आजमाइश
आजमाइश
Suraj Mehra
कुछ कहूं ना कहूं तुम भी सोचा करो,
कुछ कहूं ना कहूं तुम भी सोचा करो,
Sanjay ' शून्य'
"एक नज़र"
Dr. Kishan tandon kranti
■ आलेख
■ आलेख
*Author प्रणय प्रभात*
आओ वृक्ष लगाओ जी..
आओ वृक्ष लगाओ जी..
Seema Garg
संगठन
संगठन
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
मन की दुनिया अजब निराली
मन की दुनिया अजब निराली
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
2539.पूर्णिका
2539.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
आँचल की छाँह🙏
आँचल की छाँह🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
सपने तेरे है तो संघर्ष करना होगा
सपने तेरे है तो संघर्ष करना होगा
पूर्वार्थ
*हुस्न से विदाई*
*हुस्न से विदाई*
Dushyant Kumar
जीवन में सही सलाहकार का होना बहुत जरूरी है
जीवन में सही सलाहकार का होना बहुत जरूरी है
Rekha khichi
रिश्ते का अहसास
रिश्ते का अहसास
Paras Nath Jha
बता दिया करो मुझसे मेरी गलतिया!
बता दिया करो मुझसे मेरी गलतिया!
शेखर सिंह
बुंदेली (दमदार दुमदार ) दोहे
बुंदेली (दमदार दुमदार ) दोहे
Subhash Singhai
मां बाप
मां बाप
Mukesh Kumar Sonkar
चिला रोटी
चिला रोटी
Lakhan Yadav
अन्तर्मन
अन्तर्मन
Dr. Upasana Pandey
*
*"मर्यादा पुरूषोत्तम श्री राम"*
Shashi kala vyas
वसंत पंचमी
वसंत पंचमी
Dr. Vaishali Verma
*अमर शहीद राजा राम सिंह: जिनकी स्मृति में रामपुर रियासत का न
*अमर शहीद राजा राम सिंह: जिनकी स्मृति में रामपुर रियासत का न
Ravi Prakash
गुनो सार जीवन का...
गुनो सार जीवन का...
डॉ.सीमा अग्रवाल
ज़िंदगी मौत पर
ज़िंदगी मौत पर
Dr fauzia Naseem shad
अच्छी लगती धर्मगंदी/धर्मगंधी पंक्ति : ’
अच्छी लगती धर्मगंदी/धर्मगंधी पंक्ति : ’
Dr MusafiR BaithA
Dr Arun Kumar Shastri
Dr Arun Kumar Shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Loading...