Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Mar 2023 · 1 min read

प्रेम और सद्भाव के रंग सारी दुनिया पर डालिए

प्रेम और सद्भाव के रंग सारी दुनिया पर डालिए

प्रेम और सद्भाव के रंग, सारी दुनिया पर डालिए
प्यार और मोहब्बत से, सराबोर कर डालिए
जीवन के गीतों को, प्यार से दोहराईए
संपूर्ण जीवन को रंगोत्सव बनाईए
भय रोग मृत्यु शोक, कलुष नसाईए
हिंसा द्वेष अभिमान, होली में जलाइए
प्रेम उल्लास उमंग, अंतस में जगाईए
संवेदनशीलता के संग, जागृति के रंग लाईए
कितने घरों में, अनरह की होली है
अपनों को खोया है, उनकी पहली होली है
रंग के छींटे डाल उन्हें, जीवन मधुबन में लौटाईए
दुख दर्द बांट उन्हें, सीने से लगाइए
कितने घरों में अभी, सांसें थमी हुईं
जीवन के गीत गाकर, ढाढस बधाईए
रंग भरा है, त्यौहार दिल से मनाइए

सभी के दुख दर्द हो का समन हो, जीवन प्रेम उमंग और उत्साह से सराबोर हो जाए।।
शुभकामनाओं सहित ।
सुरेश चतुर्वेदी

1 Like · 263 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुरेश कुमार चतुर्वेदी
View all
You may also like:
"हास्य व्यंग्य"
Radhakishan R. Mundhra
यदि  हम विवेक , धैर्य और साहस का साथ न छोडे़ं तो किसी भी विप
यदि हम विवेक , धैर्य और साहस का साथ न छोडे़ं तो किसी भी विप
Raju Gajbhiye
माँ
माँ
इंजी. संजय श्रीवास्तव
मुक्तक
मुक्तक
sushil sarna
" काले सफेद की कहानी "
Dr Meenu Poonia
मन वैरागी हो गया
मन वैरागी हो गया
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
अपनों की जीत
अपनों की जीत
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
सौ बरस की जिंदगी.....
सौ बरस की जिंदगी.....
Harminder Kaur
रिश्ते
रिश्ते
Mangilal 713
एक होस्टल कैंटीन में रोज़-रोज़
एक होस्टल कैंटीन में रोज़-रोज़
Rituraj shivem verma
Dating Affirmations:
Dating Affirmations:
पूर्वार्थ
जीव-जगत आधार...
जीव-जगत आधार...
डॉ.सीमा अग्रवाल
अनुशासित रहे, खुद पर नियंत्रण रखें ।
अनुशासित रहे, खुद पर नियंत्रण रखें ।
Shubham Pandey (S P)
दर्पण जब भी देखती खो जाती हूँ मैं।
दर्पण जब भी देखती खो जाती हूँ मैं।
लक्ष्मी सिंह
*आंतरिक ऊर्जा*
*आंतरिक ऊर्जा*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मैं तो महज इतिहास हूँ
मैं तो महज इतिहास हूँ
VINOD CHAUHAN
🙏 *गुरु चरणों की धूल*🙏
🙏 *गुरु चरणों की धूल*🙏
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
मैं अपने अधरों को मौन करूं
मैं अपने अधरों को मौन करूं
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
किसान और जवान
किसान और जवान
Sandeep Kumar
"उपकार"
Dr. Kishan tandon kranti
आंखें मेरी तो नम हो गई है
आंखें मेरी तो नम हो गई है
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
20)”“गणतंत्र दिवस”
20)”“गणतंत्र दिवस”
Sapna Arora
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
जिसने हर दर्द में मुस्कुराना सीख लिया उस ने जिंदगी को जीना स
जिसने हर दर्द में मुस्कुराना सीख लिया उस ने जिंदगी को जीना स
Swati
काश तुम मिले ना होते तो ये हाल हमारा ना होता
काश तुम मिले ना होते तो ये हाल हमारा ना होता
Kumar lalit
*लोकमैथिली_हाइकु*
*लोकमैथिली_हाइकु*
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
शुभ प्रभात मित्रो !
शुभ प्रभात मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
गजल सगीर
गजल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
दो जून की रोटी
दो जून की रोटी
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
*जन्मभूमि में प्राण-प्रतिष्ठित, प्रभु की जय-जयकार है (गीत)*
*जन्मभूमि में प्राण-प्रतिष्ठित, प्रभु की जय-जयकार है (गीत)*
Ravi Prakash
Loading...