Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Nov 2023 · 1 min read

प्रेमी चील सरीखे होते हैं ;

प्रेमी चील सरीखे होते हैं ;

जो इस संसार रूपी सबसे ऊँचे वृक्ष की सबसे ऊँची शाखा पर ,
अपना प्रेम नीड़ बुनना चाहते हैं।

वो चाहते हैं प्रेम को सर्वोच्च शिखर पर आधान करना।
~ विमल

84 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बाबासाहेब 'अंबेडकर '
बाबासाहेब 'अंबेडकर '
Buddha Prakash
छोटे गाँव का लड़का था मै और वो बड़े शहर वाली
छोटे गाँव का लड़का था मै और वो बड़े शहर वाली
The_dk_poetry
*
*"मुस्कराहट"*
Shashi kala vyas
उम्र का एक
उम्र का एक
Santosh Shrivastava
*Fruits of Karma*
*Fruits of Karma*
Poonam Matia
अधि वर्ष
अधि वर्ष
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
गांव की बात निराली
गांव की बात निराली
जगदीश लववंशी
वीर जवान --
वीर जवान --
Seema Garg
*णमोकार मंत्र (बाल कविता)*
*णमोकार मंत्र (बाल कविता)*
Ravi Prakash
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
*कुछ तो बात है* ( 23 of 25 )
*कुछ तो बात है* ( 23 of 25 )
Kshma Urmila
"बेचारा किसान"
Dharmjay singh
2333.पूर्णिका
2333.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
कर सकता नहीं ईश्वर भी, माँ की ममता से समता।
कर सकता नहीं ईश्वर भी, माँ की ममता से समता।
डॉ.सीमा अग्रवाल
वैमनस्य का अहसास
वैमनस्य का अहसास
Dr Parveen Thakur
#देसी_ग़ज़ल
#देसी_ग़ज़ल
*Author प्रणय प्रभात*
वो खुशनसीब थे
वो खुशनसीब थे
Dheerja Sharma
"गुलामगिरी"
Dr. Kishan tandon kranti
काला न्याय
काला न्याय
Anil chobisa
आज का चयनित छंद
आज का चयनित छंद"रोला"अर्ध सम मात्रिक
rekha mohan
ब्रांड. . . .
ब्रांड. . . .
sushil sarna
!! युवा मन !!
!! युवा मन !!
Akash Yadav
It was separation
It was separation
VINOD CHAUHAN
श्वान संवाद
श्वान संवाद
Shyam Sundar Subramanian
आदान-प्रदान
आदान-प्रदान
Ashwani Kumar Jaiswal
बसंत का मौसम
बसंत का मौसम
Awadhesh Kumar Singh
चाँद कुछ इस तरह से पास आया…
चाँद कुछ इस तरह से पास आया…
Anand Kumar
प्रेम और आदर
प्रेम और आदर
ओंकार मिश्र
हर एक रास्ते की तकल्लुफ कौन देता है..........
हर एक रास्ते की तकल्लुफ कौन देता है..........
कवि दीपक बवेजा
जिस तरीके से तुम हो बुलंदी पे अपने
जिस तरीके से तुम हो बुलंदी पे अपने
सिद्धार्थ गोरखपुरी
Loading...