Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Jul 2023 · 1 min read

*प्रेमचंद (पॉंच दोहे)*

प्रेमचंद (पॉंच दोहे)
_______________________
(1)
‘बूढ़ी काकी’ हो गया, युग-युग का ज्यों दंश
बूढ़ों को ठगते दिखे, उनके अपने वंश
(2)
‘ईदगाह’ में दिख रही, बचपन की तस्वीर
चिमटा लेकर आ गया, बच्चा घर की पीर
(3)
‘नमक-दरोगा’ की कथा, दुर्लभ सच्चे लोग
कहॉं खत्म रिश्वत हुई, जारी अब भी रोग
(4)
उलट कहानी सब गई, हारा साहूकार
अरबों खाकर बैंक के, चंपत अश्व-सवार
(5)
सहज-सरल शब्दावली, धारदार संवाद
मन को छू लेती कथा, प्रेमचंद की याद
————————————
रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा
रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

Language: Hindi
502 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
आखिरी मोहब्बत
आखिरी मोहब्बत
Shivkumar barman
बाल कविता: मोटर कार
बाल कविता: मोटर कार
Rajesh Kumar Arjun
Whenever My Heart finds Solitude
Whenever My Heart finds Solitude
कुमार
*अम्मा जी से भेंट*
*अम्मा जी से भेंट*
Ravi Prakash
रिश्तों के मायने
रिश्तों के मायने
Rajni kapoor
मोहब्बत में मोहब्बत से नजर फेरा,
मोहब्बत में मोहब्बत से नजर फेरा,
goutam shaw
पूछो हर किसी सेआजकल  जिंदगी का सफर
पूछो हर किसी सेआजकल जिंदगी का सफर
पूर्वार्थ
साहस है तो !
साहस है तो !
Ramswaroop Dinkar
24/230. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/230. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सम्मान नहीं मिलता
सम्मान नहीं मिलता
Dr fauzia Naseem shad
प्रेम का दरबार
प्रेम का दरबार
Dr.Priya Soni Khare
धन की खाई कमाई से भर जाएगी। वैचारिक कमी तो शिक्षा भी नहीं भर
धन की खाई कमाई से भर जाएगी। वैचारिक कमी तो शिक्षा भी नहीं भर
Sanjay ' शून्य'
मिष्ठी के लिए सलाद
मिष्ठी के लिए सलाद
Manu Vashistha
आनंद और इच्छा में जो उलझ जाओगे
आनंद और इच्छा में जो उलझ जाओगे
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मोदी जी ; देश के प्रति समर्पित
मोदी जी ; देश के प्रति समर्पित
कवि अनिल कुमार पँचोली
सत्ता अपनी सुविधा अपनी खर्चा सिस्टम सब सरकारी।
सत्ता अपनी सुविधा अपनी खर्चा सिस्टम सब सरकारी।
*Author प्रणय प्रभात*
** चिट्ठी आज न लिखता कोई **
** चिट्ठी आज न लिखता कोई **
surenderpal vaidya
क्या वैसी हो सच में तुम
क्या वैसी हो सच में तुम
gurudeenverma198
.............सही .......
.............सही .......
Naushaba Suriya
आगोश में रह कर भी पराया रहा
आगोश में रह कर भी पराया रहा
हरवंश हृदय
होली (विरह)
होली (विरह)
लक्ष्मी सिंह
कहते हैं कि मृत्यु चुपचाप आती है। बेख़बर। वह चुपके से आती है
कहते हैं कि मृत्यु चुपचाप आती है। बेख़बर। वह चुपके से आती है
Dr Tabassum Jahan
तन्हाई बड़ी बातूनी होती है --
तन्हाई बड़ी बातूनी होती है --
Seema Garg
मैं तो महज शमशान हूँ
मैं तो महज शमशान हूँ
VINOD CHAUHAN
मुद्दतों बाद खुद की बात अपने दिल से की है
मुद्दतों बाद खुद की बात अपने दिल से की है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
बदलते वख़्त के मिज़ाज़
बदलते वख़्त के मिज़ाज़
Atul "Krishn"
काश जन चेतना भरे कुलांचें
काश जन चेतना भरे कुलांचें
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
काफिला
काफिला
Amrita Shukla
"उम्मीदों की जुबानी"
Dr. Kishan tandon kranti
मैं तो अंहकार आँव
मैं तो अंहकार आँव
Lakhan Yadav
Loading...