Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Aug 2016 · 1 min read

प्रीत में तुम सखी —-

प्रीत में तुम सखे स्वस्तिक हो गए
ये जहाँ गौण तुम प्राथमिक हो गए.

साथ जो तुम चले हाथ में हाथ ले,
रास्ते नेह के सात्विक हो गए.

था मुखर मौन ही जब कोई बात की,
तार सम्वाद के हार्दिक हो गए.

देह से हो परे श्वांस में हो पवन
रूह में मिल गए आत्मिक हो गए.
——–सुदेश कुमार मेहर

268 Views
You may also like:
$ग़ज़ल
आर.एस. 'प्रीतम'
वो आवाज
Mahendra Rai
🌺🍀सुखं इच्छाकर्तारं कदापि शान्ति: न मिलति🍀🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
✍️जिगरबाज दिल जुड़ा है
'अशांत' शेखर
इलाहाबाद आयें हैं , इलाहाबाद आये हैं.....अज़ल
लवकुश यादव "अज़ल"
'स्मृतियों की ओट से'
Rashmi Sanjay
हमारे जीवन में "पिता" का साया
इंजी. लोकेश शर्मा (लेखक)
तितलियाँ
RAJA KUMAR 'CHOURASIA'
राह कोई ऐसी
Seema 'Tu hai na'
¡~¡ कोयल, बुलबुल और पपीहा ¡~¡
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
२४३. "आह! ये आहट"
MSW Sunil SainiCENA
हो तुम किसी मंदिर की पूजा सी
Rj Anand Prajapati
*यह रोने की बात नहीं है,मरना नियम पुराना (गीत)*
Ravi Prakash
ये दिल धड़कता नही अब तुम्हारे बिना
Ram Krishan Rastogi
मेरी हस्ती
Anamika Singh
! ! बेटी की विदाई ! !
Surya Barman
दुःस्वप्न
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
समय भी कुछ तो कहता है
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
जज़्बा
Shyam Sundar Subramanian
करें नहीं ऐसे लालच हम
gurudeenverma198
कभी बेबसी को समझो
Dr fauzia Naseem shad
ढाई आखर प्रेम का
श्री रमण 'श्रीपद्'
बोलती तस्वीर
राकेश कुमार राठौर
बाढ़ और इंसान।
Buddha Prakash
सोन चिरैया
Shekhar Chandra Mitra
Father is the real Hero.
Taj Mohammad
ग्रहण
ओनिका सेतिया 'अनु '
"चित्रांश"
पंकज कुमार कर्ण
सदियों बाद
Dr.Priya Soni Khare
" समर्पित पति ”
Dr Meenu Poonia
Loading...