Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 May 2023 · 1 min read

प्रिय

चाल है तेरी हिरनी जैसी, उफ ये लम्बे बाल प्रिय
आँखे है तेरी नागिन जैसी, लगा ये उनपे काला काज प्रिय
होट है तेरे गुलाब जैसे, गुलाबजामुन से है गाल प्रिय
कमर है तेरी मोर जैसी , दिखने में हो तुम चाँद प्रिय
तिरछी तिरछी इन नज़रो से , चलाओ न हमपे वान प्रिय
के तू मंद मंद मुस्कान से, न लो हमरी जान प्रिय
के ,तू आसमान से आई है , तू है अप्सराओं के समान प्रिय
के, तू है विमल इलायची सी , तो मैं हू थूका पान प्रिय
के, तू है बारिश का मौसम सी , तो मैं हू सूखा अकाल प्रिय
बस 1 बारी हमरे पर बरस जाओ , करो न यू अभिमान प्रिय
के हमको तुमरे प्रेम रस का, करने दो रसपान प्रिय
के लिखने में कुछ हो गई हो गलती , तो देना हमको क्षमादान प्रिय

Language: Hindi
2 Likes · 80 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हिंदी हमारी शान है
हिंदी हमारी शान है
डॉ.एल. सी. जैदिया 'जैदि'
मित्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
मित्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Dr Archana Gupta
उम्मीद रखते हैं
उम्मीद रखते हैं
Dhriti Mishra
श्री राम के आदर्श
श्री राम के आदर्श
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मेरा संघर्ष
मेरा संघर्ष
Anamika Singh
ख़ामोश सी नज़र में
ख़ामोश सी नज़र में
Dr fauzia Naseem shad
फितरत अमिट जन एक गहना🌷🌷
फितरत अमिट जन एक गहना🌷🌷
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
ऐसे लहज़े में जब लिखते हो प्रीत को,
ऐसे लहज़े में जब लिखते हो प्रीत को,
Amit Pathak
"पतवार बन"
Dr. Kishan tandon kranti
दिल्ली का मर्सिया
दिल्ली का मर्सिया
Shekhar Chandra Mitra
शख्सियत - राजनीति में विरले ही मिलते हैं
शख्सियत - राजनीति में विरले ही मिलते हैं "रमेश चन्द्र कौशिक" जैसी शख्सियत वाले लोग
Deepak Kumar Tyagi
"आज का विचार"
Radhakishan R. Mundhra
धन्य सूर्य मेवाड़ भूमि के
धन्य सूर्य मेवाड़ भूमि के
surenderpal vaidya
यूं जो उसको तकते हो।
यूं जो उसको तकते हो।
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
ऐनक
ऐनक
Buddha Prakash
■ देश भर के जनाक्रोश को शब्द देने का प्रयास।
■ देश भर के जनाक्रोश को शब्द देने का प्रयास।
*Author प्रणय प्रभात*
मोबाइल
मोबाइल
लक्ष्मी सिंह
💐प्रेम कौतुक-488💐
💐प्रेम कौतुक-488💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मां शारदे
मां शारदे
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
बीत रहे दिन-रात ( कुंडलिया )*
बीत रहे दिन-रात ( कुंडलिया )*
Ravi Prakash
सादगी - डी के निवातिया
सादगी - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
ख़्वाब
ख़्वाब
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
पता नहीं
पता नहीं
shabina. Naaz
मजबूर ! मजदूर
मजबूर ! मजदूर
शेख़ जाफ़र खान
अथर्व को जन्म दिन की शुभकामनाएं
अथर्व को जन्म दिन की शुभकामनाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सागर बोला, सुन ज़रा
सागर बोला, सुन ज़रा
सूर्यकांत द्विवेदी
न दोस्ती है किसी से न आशनाई है
न दोस्ती है किसी से न आशनाई है
Shivkumar Bilagrami
जानें क्यूं।
जानें क्यूं।
Taj Mohammad
रौशनी अकूत अंदर,
रौशनी अकूत अंदर,
Satish Srijan
ক্ষেত্রীয়তা ,জাতিবাদ
ক্ষেত্রীয়তা ,জাতিবাদ
DrLakshman Jha Parimal
Loading...