Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 May 2023 · 1 min read

प्रिय-प्रतीक्षा

अप्सरा सी सजती, संवरती हूँ,
आइना देखा करती हूँ ।
सीमा के तुम प्रहरी प्रियतम,
राह निहारा करती हूँ ।
अप्सरा सी … ……!!

माथे का झूमर, कानों का झुमका,
हाथों की मेंहदी कहती है।
ह्रदय-पटल पर सदा‌ ही प्रियतम,
छवि तुम्हारी रहती है।
झुकी-झुकी पलकों संग तेरे,
सपने देखा करती हूँ ।
अप्सरा सी… ….!!

देश की सीमा के तुम प्रहरी,
मुझको इसका मान सदा।
मन-चंचल विचलित कर देता
रोग विरह का बड़ा बुरा।
समझाती मन को मैं “कंचन”
तेरी प्रतीक्षा करती हूँ ।
अप्सरा सी …. ……!!

— रचनाकार : कंचन खन्ना,
मुरादाबाद, (उ०प्र०, भारत) ।
सर्वाधिकार सुरक्षित (रचनाकार)।
दिनांक – १०.०४.२०१८.

Language: Hindi
Tag: गीत
1 Like · 314 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Kanchan Khanna
View all
You may also like:
मै शहर में गाँव खोजता रह गया   ।
मै शहर में गाँव खोजता रह गया ।
CA Amit Kumar
"किस किस को वोट दूं।"
Dushyant Kumar
उसको फिर उसका
उसको फिर उसका
Dr fauzia Naseem shad
नेताजी सुभाषचंद्र बोस
नेताजी सुभाषचंद्र बोस
ऋचा पाठक पंत
पाश्चात्य विद्वानों के कविता पर मत
पाश्चात्य विद्वानों के कविता पर मत
कवि रमेशराज
वो बचपन का गुजरा जमाना भी क्या जमाना था,
वो बचपन का गुजरा जमाना भी क्या जमाना था,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
रामपुर में काका हाथरसी नाइट
रामपुर में काका हाथरसी नाइट
Ravi Prakash
कोहिनूराँचल
कोहिनूराँचल
डिजेन्द्र कुर्रे
बैगन के तरकारी
बैगन के तरकारी
Ranjeet Kumar
पर्दाफाश
पर्दाफाश
Shekhar Chandra Mitra
*निरोध (पंचचामर छंद)*
*निरोध (पंचचामर छंद)*
Rituraj shivem verma
In the middle of the sunflower farm
In the middle of the sunflower farm
Sidhartha Mishra
जेसे दूसरों को खुशी बांटने से खुशी मिलती है
जेसे दूसरों को खुशी बांटने से खुशी मिलती है
shabina. Naaz
क्या हमारी नियति हमारी नीयत तय करती हैं?
क्या हमारी नियति हमारी नीयत तय करती हैं?
Soniya Goswami
कौशल
कौशल
Dinesh Kumar Gangwar
*
*"मजदूर की दो जून रोटी"*
Shashi kala vyas
इक दूजे पर सब कुछ वारा हम भी पागल तुम भी पागल।
इक दूजे पर सब कुछ वारा हम भी पागल तुम भी पागल।
सत्य कुमार प्रेमी
किसकी कश्ती किसका किनारा
किसकी कश्ती किसका किनारा
डॉ० रोहित कौशिक
Good morning 🌅🌄
Good morning 🌅🌄
Sanjay ' शून्य'
जब तुम हारने लग जाना,तो ध्यान करना कि,
जब तुम हारने लग जाना,तो ध्यान करना कि,
पूर्वार्थ
एक दिन की बात बड़ी
एक दिन की बात बड़ी
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
बलिदानी सिपाही
बलिदानी सिपाही
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
जय माता दी ।
जय माता दी ।
Anil Mishra Prahari
खामोश अवशेष ....
खामोश अवशेष ....
sushil sarna
■ आज का शेर
■ आज का शेर
*Author प्रणय प्रभात*
(22) एक आंसू , एक हँसी !
(22) एक आंसू , एक हँसी !
Kishore Nigam
ना चाहते हुए भी रोज,वहाँ जाना पड़ता है,
ना चाहते हुए भी रोज,वहाँ जाना पड़ता है,
Suraj kushwaha
बेटा बेटी का विचार
बेटा बेटी का विचार
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
"सफलता का राज"
Dr. Kishan tandon kranti
खाने को पैसे नहीं,
खाने को पैसे नहीं,
Kanchan Khanna
Loading...