Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jan 2023 · 2 min read

“ प्रिय ! तुम पास आओ ”

डॉ लक्ष्मण झा”परिमल”
===================
तुम दूर मुझसे ना जाया करो
तुम बेरुखी को ना दिखाया करो
इतने दिनों से मैं तड़पता रहा
अब और मुझको ना सताया करो
तुम दूर मुझसे ना जाया करो
तुम बेरुखी को ना दिखाया करो
इतने दिनों से मैं तड़पता रहा
अब और मुझको ना सताया करो
तेरी महक मेरी साँसों में है
तेरी छवि मेरी आँखों में है
यादों में तुम ऐसी बसी हो
बातें तो दिल के तारों में है
तेरी महक मेरी साँसों में है
तेरी छवि मेरी आँखों में है
यादों में तुम ऐसी बसी हो
बातें तो दिल के तारों में है
बीते दिनों को ना भुलाया करो
दूर कभी मुझसे ना जाया करो
इतने दिनों से मैं तड़पता रहा
अब और मुझको ना सताया करो
तुम दूर मुझसे ना जाया करो
तुम बेरुखी को ना दिखाया करो
इतने दिनों से मैं तड़पता रहा
अब और मुझको ना सताया करो
तुम्हें क्या पता मैं तड़पता रहा
दिल मिलने को मचलता रहा
जुदाई लव पे अब आने ना दो
बहुत होगया मन संभलता रहा
तुम्हें क्या पता मैं तड़पता रहा
दिल मिलने को मचलता रहा
जुदाई लव पे अब आने ना दो
बहुत होगया मन संभलता रहा
अब नज़रों से नज़रें मिलाया करो
मिलन के कोई गीत गया करो
इतने दिनों से मैं तड़पता रहा
अब और मुझको ना सताया करो
तुम दूर मुझसे ना जाया करो
तुम बेरुखी को ना दिखाया करो
इतने दिनों से मैं तड़पता रहा
अब और मुझको ना सताया करो !!
===========================
डॉ लक्ष्मण झा”परिमल”
साउंड हेल्थ क्लिनिक
डॉक्टर’स लेन
दुमका
झारखण्ड
भारत
10.01.2023

Language: Hindi
1 Like · 154 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
♥️♥️ Dr. Arun Kumar shastri
♥️♥️ Dr. Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ग़ज़ल/नज़्म - ये प्यार-व्यार का तो बस एक बहाना है
ग़ज़ल/नज़्म - ये प्यार-व्यार का तो बस एक बहाना है
अनिल कुमार
बलिदान
बलिदान
लक्ष्मी सिंह
*आसमान से आग बरसती【बाल कविता/हिंदी गजल/गीतिका 】*
*आसमान से आग बरसती【बाल कविता/हिंदी गजल/गीतिका 】*
Ravi Prakash
2993.*पूर्णिका*
2993.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जाओ तेइस अब है, आना चौबिस को।
जाओ तेइस अब है, आना चौबिस को।
सत्य कुमार प्रेमी
Canine Friends
Canine Friends
Dhriti Mishra
एक जिद मन में पाल रखी है,कि अपना नाम बनाना है
एक जिद मन में पाल रखी है,कि अपना नाम बनाना है
पूर्वार्थ
प्रिय
प्रिय
The_dk_poetry
करी लाडू
करी लाडू
Ranjeet kumar patre
कानून?
कानून?
nagarsumit326
नाथ मुझे अपनाइए,तुम ही प्राण आधार
नाथ मुझे अपनाइए,तुम ही प्राण आधार
कृष्णकांत गुर्जर
अब किसी की याद पर है नुक़्ता चीनी
अब किसी की याद पर है नुक़्ता चीनी
Sarfaraz Ahmed Aasee
मतला
मतला
Anis Shah
गम्भीर हवाओं का रुख है
गम्भीर हवाओं का रुख है
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कहीं चीखें मौहब्बत की सुनाई देंगी तुमको ।
कहीं चीखें मौहब्बत की सुनाई देंगी तुमको ।
Phool gufran
राम बनना कठिन है
राम बनना कठिन है
Satish Srijan
Hello
Hello
Yash mehra
आज़माइश
आज़माइश
Dr. Seema Varma
मुझे ना पसंद है*
मुझे ना पसंद है*
Madhu Shah
बुढ्ढे का सावन
बुढ्ढे का सावन
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
नील गगन
नील गगन
नवीन जोशी 'नवल'
कुछ परछाईयाँ चेहरों से, ज़्यादा डरावनी होती हैं।
कुछ परछाईयाँ चेहरों से, ज़्यादा डरावनी होती हैं।
Manisha Manjari
आत्मविश्वास से लबरेज व्यक्ति के लिए आकाश की ऊंचाई नापना भी उ
आत्मविश्वास से लबरेज व्यक्ति के लिए आकाश की ऊंचाई नापना भी उ
Paras Nath Jha
रम्भा की ‘मी टू’
रम्भा की ‘मी टू’
Dr. Pradeep Kumar Sharma
लोग ऐसे दिखावा करते हैं
लोग ऐसे दिखावा करते हैं
ruby kumari
हर एक मंजिल का अपना कहर निकला
हर एक मंजिल का अपना कहर निकला
कवि दीपक बवेजा
हिस्से की धूप
हिस्से की धूप
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
अन्धी दौड़
अन्धी दौड़
Shivkumar Bilagrami
एहसास
एहसास
Dr fauzia Naseem shad
Loading...