Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Jul 2016 · 1 min read

प्रियतमा

ख्यालो की बगीया हो
फूलो की क्यारी हो
पूनम की चाँदनी
चकोर की दीवानगी
और सपनो की रवानी हो
पल में जीना पल में मुरझाना
दर्पण के जैसी नादानी हो
दिल के किताब की कोई शायरी
सौंदर्य को उकेरती करती कोई सरिता हो
संग-ए-मरमर से तराशा खुदा ने तेरे बदन को..
परी के जैसी कोमलता है
और बुलबुल के जैसी चंचलता है
पलकों के ख्वाब हो तुम
फूलों के पराग हो तुम ।
… गाती जो गीत कोयल
वो गीत लाजवाब हो तुम ।
चांदनी चिटकती रातों में
और मदहोशी छा जाती है
ऐसी मनोहारी मुरत तुम हो ।
एक दिलरुबा हो दिल में
जो हूरों की परी से कम नहीं हो…।।कांत।। सुरेश शर्मा

Language: Hindi
1072 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
धनानि भूमौ पशवश्च गोष्ठे भार्या गृहद्वारि जनः श्मशाने। देहश्
धनानि भूमौ पशवश्च गोष्ठे भार्या गृहद्वारि जनः श्मशाने। देहश्
Satyaveer vaishnav
हार का पहना हार
हार का पहना हार
Sandeep Pande
स्वयंभू
स्वयंभू
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
कुछ उत्तम विचार.............
कुछ उत्तम विचार.............
विमला महरिया मौज
गनर यज्ञ (हास्य-व्यंग्य)
गनर यज्ञ (हास्य-व्यंग्य)
दुष्यन्त 'बाबा'
"कदर"
Dr. Kishan tandon kranti
मेरी हस्ती का अभी तुम्हे अंदाज़ा नही है
मेरी हस्ती का अभी तुम्हे अंदाज़ा नही है
'अशांत' शेखर
इश्क पहली दफा
इश्क पहली दफा
साहित्य गौरव
निहारने आसमां को चले थे, पर पत्थरों से हम जा टकराये।
निहारने आसमां को चले थे, पर पत्थरों से हम जा टकराये।
Manisha Manjari
"सोच अपनी अपनी"
Dr Meenu Poonia
मानसिकता का प्रभाव
मानसिकता का प्रभाव
Anil chobisa
कौन?
कौन?
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
मुख  से  निकली पहली भाषा हिन्दी है।
मुख से निकली पहली भाषा हिन्दी है।
सत्य कुमार प्रेमी
आचार संहिता
आचार संहिता
Seema gupta,Alwar
जब ज़रूरत के
जब ज़रूरत के
Dr fauzia Naseem shad
कुंडलिया - रंग
कुंडलिया - रंग
sushil sarna
आइना अपने दिल का साफ़ किया
आइना अपने दिल का साफ़ किया
Anis Shah
निर्णायक स्थिति में
निर्णायक स्थिति में
*Author प्रणय प्रभात*
कोरोना - इफेक्ट
कोरोना - इफेक्ट
Kanchan Khanna
#जिन्दगी ने मुझको जीना सिखा दिया#
#जिन्दगी ने मुझको जीना सिखा दिया#
rubichetanshukla 781
मंजिल यू‌ँ ही नहीं मिल जाती,
मंजिल यू‌ँ ही नहीं मिल जाती,
Yogendra Chaturwedi
रिश्तों का एक उचित मूल्य💙👭👏👪
रिश्तों का एक उचित मूल्य💙👭👏👪
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
अज़ीज़ टुकड़ों और किश्तों में नज़र आते हैं
अज़ीज़ टुकड़ों और किश्तों में नज़र आते हैं
Atul "Krishn"
कीमत
कीमत
Paras Nath Jha
आसमानों को छूने की जद में निकले
आसमानों को छूने की जद में निकले
कवि दीपक बवेजा
करवाचौथ
करवाचौथ
Neeraj Agarwal
हाल ऐसा की खुद पे तरस आता है
हाल ऐसा की खुद पे तरस आता है
Kumar lalit
(21)
(21) "ऐ सहरा के कैक्टस ! *
Kishore Nigam
झूठी हमदर्दियां
झूठी हमदर्दियां
Surinder blackpen
*डॉ. सुचेत गोइंदी जी : कुछ यादें*
*डॉ. सुचेत गोइंदी जी : कुछ यादें*
Ravi Prakash
Loading...