Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Mar 2017 · 1 min read

प्रिंसिपल की घरवाली……

एक लड़की थी अनजानी सी दुनिया उसपे मरती थी,
उठकर पहले खाना खाती बाद में पूजा करती थी,
अनजानी सी सड़कों पर वो घुमा-फिरा करती थी,
लाइट आने पे टीवी देखे जाने पे वो पढ़ती थी,
उसका मुखड़ा देखकर हर कोई उसपे मरता था,
मैं सात सौ नंबर पर था जो उससे प्यार करता था,
उसको बिना देखे मुझे नींद भी न आती थी,
मेरे कान फट जाते जब वो गाना गाती थी,
उसकी आँखों को देखकर ऐश्वर्या राय भी शर्मा जाएँ,
चाल तो उसकी ऐसी थी की श्री देवी घबरा जाएँ,
और रंग कैसे बयां करूँ क्योंकि वो थोड़ी काली थी,
आगे बोलना उचित नही वो हमारे प्रिंसिपल साहब की घरवाली थी।

Language: Hindi
793 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*सीता जी : छह दोहे*
*सीता जी : छह दोहे*
Ravi Prakash
जाने दिया
जाने दिया
Kunal Prashant
#गुलमोहरकेफूल
#गुलमोहरकेफूल
कार्तिक नितिन शर्मा
अस्तित्व
अस्तित्व
Shyam Sundar Subramanian
The Moon and Me!!
The Moon and Me!!
Rachana
मौहब्बत की नदियां बहा कर रहेंगे ।
मौहब्बत की नदियां बहा कर रहेंगे ।
Phool gufran
एक भ्रम जाल है
एक भ्रम जाल है
Atul "Krishn"
Keep yourself secret
Keep yourself secret
Sakshi Tripathi
दया के सागरः लोककवि रामचरन गुप्त +रमेशराज
दया के सागरः लोककवि रामचरन गुप्त +रमेशराज
कवि रमेशराज
दोस्ती
दोस्ती
Adha Deshwal
शाम
शाम
N manglam
दोहे
दोहे
अशोक कुमार ढोरिया
वापस आना वीर
वापस आना वीर
लक्ष्मी सिंह
A Dream In The Oceanfront
A Dream In The Oceanfront
Natasha Stephen
"बदल रही है औरत"
Dr. Kishan tandon kranti
माँ महागौरी है नमन
माँ महागौरी है नमन
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
17- राष्ट्रध्वज हो सबसे ऊँचा
17- राष्ट्रध्वज हो सबसे ऊँचा
Ajay Kumar Vimal
हमे भी इश्क हुआ
हमे भी इश्क हुआ
The_dk_poetry
"चुनाव के दौरान नेता गरीबों के घर खाने ही क्यों जाते हैं, गर
गुमनाम 'बाबा'
■ हास्यप्रदV सच
■ हास्यप्रदV सच
*प्रणय प्रभात*
वास्तविकता से परिचित करा दी गई है
वास्तविकता से परिचित करा दी गई है
Keshav kishor Kumar
किसी विशेष व्यक्ति के पिछलगगु बनने से अच्छा है आप खुद विशेष
किसी विशेष व्यक्ति के पिछलगगु बनने से अच्छा है आप खुद विशेष
Vivek Ahuja
गम के दिनों में साथ कोई भी खड़ा न था।
गम के दिनों में साथ कोई भी खड़ा न था।
सत्य कुमार प्रेमी
कालू भैया पेल रहे हैं, वाट्स एप पर ज्ञान
कालू भैया पेल रहे हैं, वाट्स एप पर ज्ञान
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ये चिल्ले जाड़े के दिन / MUSAFIR BAITHA
ये चिल्ले जाड़े के दिन / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
छोटी सी प्रेम कहानी
छोटी सी प्रेम कहानी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
*अहंकार*
*अहंकार*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
BUTTERFLIES
BUTTERFLIES
Dhriti Mishra
अंतस के उद्वेग हैं ,
अंतस के उद्वेग हैं ,
sushil sarna
भरे हृदय में पीर
भरे हृदय में पीर
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
Loading...