Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Mar 2024 · 1 min read

प्रायश्चित

क्यूँ भूला है अपनी राह पथिक ?

मरीचिका के भ्रम में भटका हुआ ,
लालसा – वासना छद्म में अटका हुआ ,

तर्क को कुतर्क से नष्ट करता हुआ ,
कर्म को अधर्म से भ्रष्ट करता हुआ ,

सच्चरित्र को लांछित करता हुआ ,
शोषित को न्याय वंचित करता हुआ ,

चिंतनविहीन मनस में सुप्त होता हुआ ,
आत्मस्तुति एवं अहं में लिप्त होता हुआ ,

यथार्थ छोड़, कल्पित वारिद में
विचरण करता हुआ,
वाणी से विचारधारा को
संक्रमित करता हुआ ,

कुचक्र के मायाजाल में फंसता हुआ ,
पाप के दलदल में धंसता हुआ ,

समय रहते संज्ञान ले !
प्रायश्चित कर ! सत्य का कटुपान ले !

वरना ये पथ तुझे अधोगति ओर ले जाएगा ,
पाप के भंवर में डूबा तू कभी न उबर पाएगा।

2 Likes · 62 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Shyam Sundar Subramanian
View all
You may also like:
धनानि भूमौ पशवश्च गोष्ठे भार्या गृहद्वारि जनः श्मशाने। देहश्
धनानि भूमौ पशवश्च गोष्ठे भार्या गृहद्वारि जनः श्मशाने। देहश्
Satyaveer vaishnav
झुग्गियाँ
झुग्गियाँ
नाथ सोनांचली
न जाने कौन रह गया भीगने से शहर में,
न जाने कौन रह गया भीगने से शहर में,
शेखर सिंह
Mai deewana ho hi gya
Mai deewana ho hi gya
Swami Ganganiya
"व्‍यालं बालमृणालतन्‍तुभिरसौ रोद्धुं समज्‍जृम्‍भते ।
Mukul Koushik
“दोस्त हो तो दोस्त बनो”
“दोस्त हो तो दोस्त बनो”
DrLakshman Jha Parimal
साधक
साधक
सतीश तिवारी 'सरस'
योग हमारी सभ्यता, है उपलब्धि महान
योग हमारी सभ्यता, है उपलब्धि महान
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ऐसी विकट परिस्थिति,
ऐसी विकट परिस्थिति,
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
चल फिर इक बार मिलें हम तुम पहली बार की तरह।
चल फिर इक बार मिलें हम तुम पहली बार की तरह।
Neelam Sharma
शुभ दिन सब मंगल रहे प्रभु का हो वरदान।
शुभ दिन सब मंगल रहे प्रभु का हो वरदान।
सत्य कुमार प्रेमी
वासना है तुम्हारी नजर ही में तो मैं क्या क्या ढकूं,
वासना है तुम्हारी नजर ही में तो मैं क्या क्या ढकूं,
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
मै श्मशान घाट की अग्नि हूँ ,
मै श्मशान घाट की अग्नि हूँ ,
Pooja Singh
उल्फ़त का  आगाज़ हैं, आँखों के अल्फाज़ ।
उल्फ़त का आगाज़ हैं, आँखों के अल्फाज़ ।
sushil sarna
घूँघट के पार
घूँघट के पार
लक्ष्मी सिंह
इन रावणों को कौन मारेगा?
इन रावणों को कौन मारेगा?
कवि रमेशराज
"परिपक्वता"
Dr Meenu Poonia
ले हौसले बुलंद कर्म को पूरा कर,
ले हौसले बुलंद कर्म को पूरा कर,
Anamika Tiwari 'annpurna '
"प्यार में तेरे "
Pushpraj Anant
अनुभव एक ताबीज है
अनुभव एक ताबीज है
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
प्यारी ननद - कहानी
प्यारी ननद - कहानी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
#सुप्रभात
#सुप्रभात
*Author प्रणय प्रभात*
****🙏🏻आह्वान🙏🏻****
****🙏🏻आह्वान🙏🏻****
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
फितरत
फितरत
Dr.Khedu Bharti
आदमी क्या है - रेत पर लिखे कुछ शब्द ,
आदमी क्या है - रेत पर लिखे कुछ शब्द ,
Anil Mishra Prahari
*विश्व योग दिवस : 21 जून (मुक्तक)*
*विश्व योग दिवस : 21 जून (मुक्तक)*
Ravi Prakash
दिल के कोने में
दिल के कोने में
Surinder blackpen
कहो जय भीम
कहो जय भीम
Jayvind Singh Ngariya Ji Datia MP 475661
मेरा जीने का तरीका
मेरा जीने का तरीका
पूर्वार्थ
कुदरत मुझको रंग दे
कुदरत मुझको रंग दे
Gurdeep Saggu
Loading...