Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Jan 2024 · 1 min read

प्राण प्रतिष्ठा

मन भेद विभिन्नताओं को दर्शाता है,
मन विचारों का उद् भव स्त्रोत है,
बुद्धि ज्ञान का संग्रह स्थल है,
विचार मंथन सचेतन अवस्था है,
अवचेतन मन वह संग्रहालय है,
जिसमें बेहोशी वास करती है,
“रेनिव्यूशन आवश्यक है,
वरन् अवचेतन मन सीधे क्रियान्वयन में उतर आता है,
जिसे बेहोशी / निंद्रा / तंद्रा
अंध-श्रद्धा
अंध-आस्था
अंध-विश्वास बसते है .।।
अब विशेष ये है
मालिक कौन है
उसकी पहचान है नहीं,
मनमानी वाले तत्व
अपने अपने यथा निर्दिष्ट स्थान पर स्थित नहीं है
तो अव्यवस्था फैल जायेगी,

अत: रियूनियन
अध्ययन
अध्यापन
ज्ञान
फिर अवलोकन
तब जाकर अव्यवस्था समाप्त हो सकती है.

जितना शरीर से दूर आस्था बनाई जायेगी,
व्यक्ति उतना खुद से दूर चले जायेगा,
मनुष्य द्वारा निर्धारित विषय
इंद्रियों के विषय बन जाते हैं,
मन मस्तिष्क को खण्ड खण्ड होने सै बचाने के लिए,,
आपको अपने गुरू की साधना करनी है,
इसी क्रिया को साधना कहते,
वह हुआ साधक,
ऐसे में कोई संबोधक स्वर्ण-मृग आपकी सीता का हरण नहीं कर सकता,
Re-unite your-self

Language: Hindi
269 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Mahender Singh
View all
You may also like:
बेड़ियाँ
बेड़ियाँ
Shaily
रमजान में....
रमजान में....
Satish Srijan
पर्दा हटते ही रोशनी में आ जाए कोई
पर्दा हटते ही रोशनी में आ जाए कोई
कवि दीपक बवेजा
दोहा-
दोहा-
दुष्यन्त बाबा
चिड़िया (कुंडलिया)*
चिड़िया (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
#जीवन_का_सार...
#जीवन_का_सार...
*Author प्रणय प्रभात*
उसकी जुबाँ की तरकश में है झूठ हजार
उसकी जुबाँ की तरकश में है झूठ हजार
'अशांत' शेखर
शिक्षा का महत्व
शिक्षा का महत्व
Dinesh Kumar Gangwar
मानसिकता का प्रभाव
मानसिकता का प्रभाव
Anil chobisa
हारता वो है जो शिकायत
हारता वो है जो शिकायत
नेताम आर सी
आज की प्रस्तुति: भाग 5
आज की प्रस्तुति: भाग 5
Rajeev Dutta
माथे की बिंदिया
माथे की बिंदिया
Pankaj Bindas
कड़वा बोलने वालो से सहद नहीं बिकता
कड़वा बोलने वालो से सहद नहीं बिकता
Ranjeet kumar patre
चिड़िया
चिड़िया
Kanchan Khanna
इंसान बनने के लिए
इंसान बनने के लिए
Mamta Singh Devaa
वो हमसे पराये हो गये
वो हमसे पराये हो गये
Dr. Man Mohan Krishna
मौहब्बत जो चुपके से दिलों पर राज़ करती है ।
मौहब्बत जो चुपके से दिलों पर राज़ करती है ।
Phool gufran
जय भोलेनाथ ।
जय भोलेनाथ ।
Anil Mishra Prahari
दुर्लभ हुईं सात्विक विचारों की श्रृंखला
दुर्लभ हुईं सात्विक विचारों की श्रृंखला
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
🌹🌹हर्ट हैकर, हर्ट हैकर,हर्ट हैकर🌹🌹
🌹🌹हर्ट हैकर, हर्ट हैकर,हर्ट हैकर🌹🌹
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जितना आपके पास उपस्थित हैं
जितना आपके पास उपस्थित हैं
Aarti sirsat
चेहरे के पीछे चेहरा और उस चेहरे पर भी नकाब है।
चेहरे के पीछे चेहरा और उस चेहरे पर भी नकाब है।
सिद्धार्थ गोरखपुरी
रमेशराज की विरोधरस की मुक्तछंद कविताएँ—2.
रमेशराज की विरोधरस की मुक्तछंद कविताएँ—2.
कवि रमेशराज
धीरे धीरे बदल रहा
धीरे धीरे बदल रहा
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
तंग अंग  देख कर मन मलंग हो गया
तंग अंग देख कर मन मलंग हो गया
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
"गाय"
Dr. Kishan tandon kranti
ऐ भगतसिंह तुम जिंदा हो हर एक के लहु में
ऐ भगतसिंह तुम जिंदा हो हर एक के लहु में
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
यथार्थ
यथार्थ
Shyam Sundar Subramanian
होगा बढ़िया व्यापार
होगा बढ़िया व्यापार
Buddha Prakash
2721.*पूर्णिका*
2721.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Loading...