Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 May 2024 · 1 min read

प्राण दंडक छंद

दंडक –किसी भी छंद में जब 26 मात्राओं से अधिक का छंद लिखा जाता है तो वह दंडक कहलाता है l

122 122 122 122 122 122 121 11
बनेगें उदाहरण

सदा चीर नोचा न सोचा हमेंशा सभी
कर्म सारे बनेगें उदाहरण l
कभी रात सोई कभी रात जागी
न देखा समस्या निराकरण l
अजाने सदा ही मिली राह ऐसी
थके पाँव बैठें समीकरण l
हमारी तुम्हारी हुई बात ऐसी
नहीं देख पाए वशीकरण ll

गढ़ी थी कहानी तुम्हीं ने बड़ी सी
बनी थी हमारे लिए मरण l
बनाया तमाशा बड़ा आपने तो
मची थी तबाही नहीं भरण l
सिखाया तुम्हीं ने हमें पाठ ऐसा
नहीं भूल पाए निजीकरण l
तुम्हारे लिए वार देंगे खुदी को
नहीं पा सकोगे निराकरण ll

सुशीला जोशी, विद्योत्तमा

Language: Hindi
44 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दिल में बसाना नहीं चाहता
दिल में बसाना नहीं चाहता
Ramji Tiwari
लोकतंत्र का महापर्व
लोकतंत्र का महापर्व
नवीन जोशी 'नवल'
जादुई गज़लों का असर पड़ा है तेरी हसीं निगाहों पर,
जादुई गज़लों का असर पड़ा है तेरी हसीं निगाहों पर,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
बाल कविता: चूहे की शादी
बाल कविता: चूहे की शादी
Rajesh Kumar Arjun
खुशी पाने की जद्दोजहद
खुशी पाने की जद्दोजहद
डॉ० रोहित कौशिक
जीवन को जीतती हैं
जीवन को जीतती हैं
Dr fauzia Naseem shad
"फ़िर से तुम्हारी याद आई"
Lohit Tamta
लिखा नहीं था नसीब में, अपना मिलन
लिखा नहीं था नसीब में, अपना मिलन
gurudeenverma198
"विरले ही लोग"
Dr. Kishan tandon kranti
जंगल ही ना रहे तो फिर सोचो हम क्या हो जाएंगे
जंगल ही ना रहे तो फिर सोचो हम क्या हो जाएंगे
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
मित्र होना चाहिए
मित्र होना चाहिए
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
My Guardian Angel!
My Guardian Angel!
R. H. SRIDEVI
" छोटा सिक्का"
Dr Meenu Poonia
छोटी- छोटी प्रस्तुतियों को भी लोग पढ़ते नहीं हैं, फिर फेसबूक
छोटी- छोटी प्रस्तुतियों को भी लोग पढ़ते नहीं हैं, फिर फेसबूक
DrLakshman Jha Parimal
ख़ियाबां मेरा सारा तुमने
ख़ियाबां मेरा सारा तुमने
Atul "Krishn"
कृतज्ञता
कृतज्ञता
Dr. Pradeep Kumar Sharma
2863.*पूर्णिका*
2863.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
चुनावी घोषणा पत्र
चुनावी घोषणा पत्र
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हर सांझ तुम्हारे आने की आहट सुना करता था
हर सांझ तुम्हारे आने की आहट सुना करता था
इंजी. संजय श्रीवास्तव
।।
।।
*प्रणय प्रभात*
चंचल मन***चंचल मन***
चंचल मन***चंचल मन***
Dinesh Kumar Gangwar
अगर.... किसीसे ..... असीम प्रेम करो तो इतना कर लेना की तुम्ह
अगर.... किसीसे ..... असीम प्रेम करो तो इतना कर लेना की तुम्ह
पूर्वार्थ
मां की याद
मां की याद
Neeraj Agarwal
दिवाली त्योहार का महत्व
दिवाली त्योहार का महत्व
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
गर्म चाय
गर्म चाय
Kanchan Khanna
सत्यम शिवम सुंदरम🙏
सत्यम शिवम सुंदरम🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
संस्कार में झुक जाऊं
संस्कार में झुक जाऊं
Ranjeet kumar patre
अपमान
अपमान
Dr Parveen Thakur
भीष्म देव के मनोभाव शरशैय्या पर
भीष्म देव के मनोभाव शरशैय्या पर
Pooja Singh
*बहन और भाई के रिश्ते, का अभिनंदन राखी है (मुक्तक)*
*बहन और भाई के रिश्ते, का अभिनंदन राखी है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
Loading...