Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Jun 2023 · 1 min read

प्राणदायिनी वृक्ष

वृक्ष हमारा होते संगी-साथी,बसेरा
जिसमें बसते सदा ही प्राण हमारे
अपनी चंद सुविधा हेतु मानव आज
क्यों प्राणदायिनी का कत्ल कर रहा…

जो अपना – पराया, जेष्ठ – कनिष्ठ का
ना करता कभी भेदभाव आजीवन भर
उसके प्रयासों का मुनाफा तो ले लेते हम
फिर भी क्यों ना करते शुक्रगुजार उनका…

जो सदा ही अडल रहने का भव में
झुक झुक कर उठने का, संदेशा देते
हमें और हमारे साथ कई प्राणियों को
वो यथा संभव खुशी देने का करते यत्न…

जिसकी हम सब पूजा अर्चना भी करते
और उसे ही हम काट गिराया भी करते
हे मानव ! ऐसी पूजा पाठ का क्या फ़ायदा ?
जब हमारा, आगामी कल ही सुरक्षित न रहे…

चलो चले आज का दिवस है कुछ विशेष
एक वृक्ष खुद लगाए निज आगामी कल हेतु
और कुछ गैरों को प्रेरित करें एक वृक्ष लगाने को
ताकि आज और आगामी कल हमारा सुरक्षित रहे…

Language: Hindi
1 Like · 196 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जीवन दिव्य बन जाता
जीवन दिव्य बन जाता
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
फितरत है इंसान की
फितरत है इंसान की
आकाश महेशपुरी
रचनात्मकता ; भविष्य की जरुरत
रचनात्मकता ; भविष्य की जरुरत
कवि अनिल कुमार पँचोली
कविता _ रंग बरसेंगे
कविता _ रंग बरसेंगे
Manu Vashistha
गंगा काशी सब हैं घरही में.
गंगा काशी सब हैं घरही में.
Shyamsingh Lodhi (Tejpuriya)
बनारस
बनारस
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
*अभागे पति पछताए (हास्य कुंडलिया)*
*अभागे पति पछताए (हास्य कुंडलिया)*
Ravi Prakash
आदिवासी
आदिवासी
Shekhar Chandra Mitra
काश.......
काश.......
Faiza Tasleem
मुझे जीना सिखा कर ये जिंदगी
मुझे जीना सिखा कर ये जिंदगी
कृष्णकांत गुर्जर
गर लिखने का सलीका चाहिए।
गर लिखने का सलीका चाहिए।
Dr. ADITYA BHARTI
चन्द्रयान उड़ा गगन में,
चन्द्रयान उड़ा गगन में,
Satish Srijan
💐प्रेम कौतुक-414💐
💐प्रेम कौतुक-414💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जिधर भी देखो , हर तरफ़ झमेले ही झमेले है,
जिधर भी देखो , हर तरफ़ झमेले ही झमेले है,
_सुलेखा.
सबसे मुश्किल होता है, मृदुभाषी मगर दुष्ट–स्वार्थी लोगों से न
सबसे मुश्किल होता है, मृदुभाषी मगर दुष्ट–स्वार्थी लोगों से न
Dr MusafiR BaithA
लोकतन्त्र के हत्यारे अब वोट मांगने आएंगे
लोकतन्त्र के हत्यारे अब वोट मांगने आएंगे
Er.Navaneet R Shandily
■ लोकतंत्र पर बदनुमा दाग़
■ लोकतंत्र पर बदनुमा दाग़ "वोट-ट्रेडिंग।"
*Author प्रणय प्रभात*
कामयाब लोग,
कामयाब लोग,
नेताम आर सी
अपने साथ तो सब अपना है
अपने साथ तो सब अपना है
Dheerja Sharma
जीवन में मोह माया का अपना रंग है।
जीवन में मोह माया का अपना रंग है।
Neeraj Agarwal
गाँव की प्यारी यादों को दिल में सजाया करो,
गाँव की प्यारी यादों को दिल में सजाया करो,
Ranjeet kumar patre
दासी
दासी
Bodhisatva kastooriya
*
*"राम नाम रूपी नवरत्न माला स्तुति"
Shashi kala vyas
राम राम राम
राम राम राम
Satyaveer vaishnav
रमेशराज के कहमुकरी संरचना में चार मुक्तक
रमेशराज के कहमुकरी संरचना में चार मुक्तक
कवि रमेशराज
"दिल में झाँकिए"
Dr. Kishan tandon kranti
वो अपनी जिंदगी में गुनहगार समझती है मुझे ।
वो अपनी जिंदगी में गुनहगार समझती है मुझे ।
शिव प्रताप लोधी
आप कोई नेता नहीं नहीं कोई अभिनेता हैं ! मनमोहक अभिनेत्री तो
आप कोई नेता नहीं नहीं कोई अभिनेता हैं ! मनमोहक अभिनेत्री तो
DrLakshman Jha Parimal
हमसे वफ़ा तुम भी तो हो
हमसे वफ़ा तुम भी तो हो
gurudeenverma198
Loading...