Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Mar 2023 · 1 min read

प्रभु की शरण

नहीं तुझपर कोई पहरा
फिर भी तू है क्यों ठहरा
कर दे उससे फ़रियाद तू
सुना है वो है नहीं बहरा

जो भी चाहता है तू
मिल जाएगा वो तुमको
कुछ नहीं करना, बस जाना है
उसकी शरण में तुमको

मिलती है जो शांति
जाकर दरबार में उसके
देख ले फिर तू दो चार
भजन गाकर उसके

भूल जाएगा अपने गम सारे
देखेगा जब तू चमत्कार उसके
मिटा देता है वो तेरे विघ्न सारे
कोई दरबार से जाता नहीं खाली उसके।

Language: Hindi
7 Likes · 4 Comments · 1424 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
View all
You may also like:
एस. पी.
एस. पी.
Dr. Pradeep Kumar Sharma
तू तो होगी नहीं....!!!
तू तो होगी नहीं....!!!
Kanchan Khanna
अनेक मौसम
अनेक मौसम
Seema gupta,Alwar
मैं कितना अकेला था....!
मैं कितना अकेला था....!
भवेश
हाय वो बचपन कहाँ खो गया
हाय वो बचपन कहाँ खो गया
VINOD CHAUHAN
You are the sanctuary of my soul.
You are the sanctuary of my soul.
Manisha Manjari
समय को पकड़ो मत,
समय को पकड़ो मत,
Vandna Thakur
#लघुकथा
#लघुकथा
*Author प्रणय प्रभात*
इंसानियत का चिराग
इंसानियत का चिराग
Ritu Asooja
*पहले वाले  मन में हैँ ख़्यालात नहीं*
*पहले वाले मन में हैँ ख़्यालात नहीं*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
स्मृतियाँ  है प्रकाशित हमारे निलय में,
स्मृतियाँ है प्रकाशित हमारे निलय में,
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
*सदियों से सुख-दुख के मौसम, इस धरती पर आते हैं (हिंदी गजल)*
*सदियों से सुख-दुख के मौसम, इस धरती पर आते हैं (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
बढ़ता उम्र घटता आयु
बढ़ता उम्र घटता आयु
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
ਮੁੜ ਆ ਸੱਜਣਾ
ਮੁੜ ਆ ਸੱਜਣਾ
Surinder blackpen
जीवन है आँखों की पूंजी
जीवन है आँखों की पूंजी
Suryakant Dwivedi
कुछ लोग
कुछ लोग
Shweta Soni
जी चाहता है रूठ जाऊँ मैं खुद से..
जी चाहता है रूठ जाऊँ मैं खुद से..
शोभा कुमारी
"सोचो जरा"
Dr. Kishan tandon kranti
* हासिल होती जीत *
* हासिल होती जीत *
surenderpal vaidya
अलविदा
अलविदा
ruby kumari
तलाश है।
तलाश है।
नेताम आर सी
महिला दिवस
महिला दिवस
Dr.Pratibha Prakash
मणिपुर कौन बचाए..??
मणिपुर कौन बचाए..??
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
प्रतिस्पर्धाओं के इस युग में सुकून !!
प्रतिस्पर्धाओं के इस युग में सुकून !!
Rachana
समझौता
समझौता
Shyam Sundar Subramanian
दोहे
दोहे
अशोक कुमार ढोरिया
बच्चे
बच्चे
Shivkumar Bilagrami
दहलीज़ पराई हो गई जब से बिदाई हो गई
दहलीज़ पराई हो गई जब से बिदाई हो गई
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
2388.पूर्णिका
2388.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
जमाना गुजर गया उनसे दूर होकर,
जमाना गुजर गया उनसे दूर होकर,
संजय कुमार संजू
Loading...