Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 May 2023 · 1 min read

प्रभु पावन कर दो मन मेरा , प्रभु पावन तन मेरा

प्रभु पावन कर दो मन मेरा , प्रभु पावन तन मेरा

त्याग , वासना और दुर्व्यसन , सत्संग धरे मन मेरा
अहंकार से दूर रहूँ मैं , संतोष वरे मन मेरा

प्रभु पावन कर दो मन मेरा , प्रभु पावन तन मेरा

आत्म साधना पथ पर जाऊं , संयम धरे मन मेरा
पूर्ण वैराग्य धरून जीवन में , भटके न मन मेरा

प्रभु पावन कर दो मन मेरा , प्रभु पावन तन मेरा

रहन सहन सादा हो जीवन , कोमल हो तन मेरा
मन , शरीर ,वाणी हो पावन , नाम जपे मन तेरा

प्रभु पावन कर दो मन मेरा , प्रभु पावन तन मेरा

धर्मं राह जीवन अति पावन , कष्ट हरो प्रभु मेरा
जीवों पर प्रीति हो मेरी , अति पावन मन मेरा

प्रभु पावन कर दो मन मेरा , प्रभु पावन तन मेरा

सच्चा सुख तेरी भक्ति में , सुख पाए मन मेरा
मुक्ति की अभिलाषा हो , मोक्ष मार्ग हो मेरा

प्रभु पावन कर दो मन मेरा , प्रभु पावन तन मेरा

चीर ह्रदय की दुर्बलताओं को , निर्मल हो मन मेरा
चंचल मन को मुक्ति दे दो , हो जाऊं मैं तेरा

प्रभु पावन कर दो मन मेरा , प्रभु पावन तन मेरा

तेरी अनुकम्पा हो मुझ पर , धर्म राह चले मन मेरा
अभिनन्दन मैं करूं तुम्हारा , सांझ हो या सवेरा

प्रभु पावन कर दो मन मेरा , प्रभु पावन तन मेरा

भक्तिमय हो मेरा जीवन , संस्कारों का मेला
मोख्स मार्ग पर ले लो मुझको , उद्धार करो प्रभु मेरा

प्रभु पावन कर दो मन मेरा , प्रभु पावन तन मेरा

1 Like · 417 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
View all
You may also like:
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Sushila joshi
गृहस्थ-योगियों की आत्मा में बसे हैं गुरु गोरखनाथ
गृहस्थ-योगियों की आत्मा में बसे हैं गुरु गोरखनाथ
कवि रमेशराज
*** अहसास...!!! ***
*** अहसास...!!! ***
VEDANTA PATEL
शीर्षक -  आप और हम जीवन के सच
शीर्षक - आप और हम जीवन के सच
Neeraj Agarwal
तुझे आगे कदम बढ़ाना होगा ।
तुझे आगे कदम बढ़ाना होगा ।
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
जीता जग सारा मैंने
जीता जग सारा मैंने
Suryakant Dwivedi
अपनी ही निगाहों में गुनहगार हो गई हूँ
अपनी ही निगाहों में गुनहगार हो गई हूँ
Trishika S Dhara
समर्पण
समर्पण
Sanjay ' शून्य'
कुछ लोगों का प्यार जिस्म की जरुरत से कहीं ऊपर होता है...!!
कुछ लोगों का प्यार जिस्म की जरुरत से कहीं ऊपर होता है...!!
Ravi Betulwala
उसे अंधेरे का खौफ है इतना कि चाँद को भी सूरज कह दिया।
उसे अंधेरे का खौफ है इतना कि चाँद को भी सूरज कह दिया।
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
मसला सिर्फ जुबान का हैं,
मसला सिर्फ जुबान का हैं,
ओसमणी साहू 'ओश'
पापा जी
पापा जी
नाथ सोनांचली
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
तेरी याद आती है
तेरी याद आती है
Akash Yadav
प्रद्त छन्द- वासन्ती (मापनीयुक्त वर्णिक) वर्णिक मापनी- गागागा गागाल, ललल गागागा गागा। (14 वर्ण) अंकावली- 222 221, 111 222 22. पिंगल सूत्र- मगण तगण नगण मगण गुरु गुरु।
प्रद्त छन्द- वासन्ती (मापनीयुक्त वर्णिक) वर्णिक मापनी- गागागा गागाल, ललल गागागा गागा। (14 वर्ण) अंकावली- 222 221, 111 222 22. पिंगल सूत्र- मगण तगण नगण मगण गुरु गुरु।
Neelam Sharma
अम्बे भवानी
अम्बे भवानी
Mamta Rani
एक शकुन
एक शकुन
Swami Ganganiya
"जो डर गया, समझो मर गया।"
*Author प्रणय प्रभात*
तुम याद आ गये
तुम याद आ गये
Surinder blackpen
"मैं पूछता हूँ"
Dr. Kishan tandon kranti
*
*"ममता"* पार्ट-4
Radhakishan R. Mundhra
बड़े परिवर्तन तुरंत नहीं हो सकते, लेकिन प्रयास से कठिन भी आस
बड़े परिवर्तन तुरंत नहीं हो सकते, लेकिन प्रयास से कठिन भी आस
ललकार भारद्वाज
कल सबको पता चल जाएगा
कल सबको पता चल जाएगा
MSW Sunil SainiCENA
वक्त-ए-रूखसती पे उसने पीछे मुड़ के देखा था
वक्त-ए-रूखसती पे उसने पीछे मुड़ के देखा था
Shweta Soni
ये जो मुहब्बत लुका छिपी की नहीं निभेगी तुम्हारी मुझसे।
ये जो मुहब्बत लुका छिपी की नहीं निभेगी तुम्हारी मुझसे।
सत्य कुमार प्रेमी
সেই আপেল
সেই আপেল
Otteri Selvakumar
3458🌷 *पूर्णिका* 🌷
3458🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
*तपन*
*तपन*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
'Love is supreme'
'Love is supreme'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
मन रे क्यों तू तड़पे इतना, कोई जान ना पायो रे
मन रे क्यों तू तड़पे इतना, कोई जान ना पायो रे
Anand Kumar
Loading...