Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Jul 2018 · 1 min read

*प्रभु की दुआ*

पांडवों को प्रभु की दुआ मिल गई!
साथ उनकी निराली अदा मिल गई!!
****************************
तीरगी चीरने आज जुगनू चले!
रोशनी की उन्हें जो सदा मिल गई!!
*****************************
भाव के पारख़ी हैं मे’रे ये नयन!
अब निगाहों में हमको हया मिल गई!!
*****************************
इस कलम ने किया है अनोखा असर!
बिन कहे शारदे की दया मिल गई!!
*****************************
हर घड़ी साथ मिलके रहा जो बशर!
बात उसकी सभी से जुदा मिल गई!!
*****************************
रास्ता नेकियों का हमें क्या मिला!
दिलनशीं फ़िर मुसाफ़िर वफ़ा मिल गई!!
*****************************
धर्मेन्द्र अरोड़ा “मुसाफ़िर”
(9034376051

1 Like · 1 Comment · 326 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
“आँख के बदले आँख पूरी दुनिया को अँधा बना देगी”- गांधी जी
“आँख के बदले आँख पूरी दुनिया को अँधा बना देगी”- गांधी जी
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
हकीकत जानते हैं
हकीकत जानते हैं
Surinder blackpen
गाँधी हमेशा जिंदा है
गाँधी हमेशा जिंदा है
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
इतनी के बस !
इतनी के बस !
Shyam Vashishtha 'शाहिद'
"गुल्लक"
Dr. Kishan tandon kranti
रास्ते है बड़े उलझे-उलझे
रास्ते है बड़े उलझे-उलझे
Buddha Prakash
खालीपन
खालीपन
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
■ शर्म भी शर्माएगी इस बेशर्मी पर।
■ शर्म भी शर्माएगी इस बेशर्मी पर।
*प्रणय प्रभात*
ना जाने सुबह है या शाम,
ना जाने सुबह है या शाम,
Madhavi Srivastava
"इशारे" कविता
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
"ईश्वर की गति"
Ashokatv
Good things fall apart so that the best can come together.
Good things fall apart so that the best can come together.
Manisha Manjari
उतर चुके जब दृष्टि से,
उतर चुके जब दृष्टि से,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
पिता
पिता
Swami Ganganiya
परिश्रम
परिश्रम
Neeraj Agarwal
अब तो मिलने में भी गले - एक डर सा लगता है
अब तो मिलने में भी गले - एक डर सा लगता है
Atul "Krishn"
बेरोजगारी मंहगायी की बातें सब दिन मैं ही  दुहराता हूँ,  फिरभ
बेरोजगारी मंहगायी की बातें सब दिन मैं ही दुहराता हूँ, फिरभ
DrLakshman Jha Parimal
23/57.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/57.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
शेखर ✍️
शेखर ✍️
शेखर सिंह
बाबा केदारनाथ जी
बाबा केदारनाथ जी
Bodhisatva kastooriya
नारी वेदना के स्वर
नारी वेदना के स्वर
Shyam Sundar Subramanian
मेरे बस्ती के दीवारों पर
मेरे बस्ती के दीवारों पर
'अशांत' शेखर
मुक्तक
मुक्तक
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
बिन माली बाग नहीं खिलता
बिन माली बाग नहीं खिलता
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
जिसने शौक को दफ़्नाकर अपने आप से समझौता किया है। वह इंसान इस
जिसने शौक को दफ़्नाकर अपने आप से समझौता किया है। वह इंसान इस
Lokesh Sharma
अलगाव
अलगाव
अखिलेश 'अखिल'
//एहसास//
//एहसास//
AVINASH (Avi...) MEHRA
जाने वाले का शुक्रिया, आने वाले को सलाम।
जाने वाले का शुक्रिया, आने वाले को सलाम।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
राम
राम
Sanjay ' शून्य'
*घर-घर में अब चाय है, दिनभर दिखती आम (कुंडलिया)*
*घर-घर में अब चाय है, दिनभर दिखती आम (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
Loading...