Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 May 2024 · 1 min read

प्रभु का प्राकट्य

प्रभु का प्राकट्य

चैत माह नवमी तिथि आई,
अवध में जन्में श्री राधुराई।
अवधपुरी में सजा है दरबार,
शोभा अजब बनी।।

प्रभु का रूप लगे बड़ा निराला,
अद्भुत अनुपम जग से न्यारा।
पांव पैजनियां कमर करधन,
अति प्यारा लगे राघव ललन।।

दधि,अक्षत ,दूर्वा, गंगाजल,
द्वार – द्वार सजी चौक सुगंधित।
अति मगन है आज सरयू की धार,
लहर मारे भर – भर कर।।

मात कौशल्या हर्ष से झूमें,
ललना को निज पुनि – पुनि चूमें।
राजा लुटावे हीरा जवाहरात,
महल है आज खुशियों भरा।।

जब – जब धर्म हानि होती है,
विप्र ,संत , सुर परेशान होते हैं।
प्रभु लेते मनुज अवतार,
धनुर्धारी , रघुनंदन ।।

धन्यवाद !

Language: Hindi
1 Like · 34 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
राम काव्य मन्दिर बना,
राम काव्य मन्दिर बना,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मुस्कुराहट
मुस्कुराहट
Santosh Shrivastava
घमंड की बीमारी बिलकुल शराब जैसी हैं
घमंड की बीमारी बिलकुल शराब जैसी हैं
शेखर सिंह
फूल का शाख़ पे आना भी बुरा लगता है
फूल का शाख़ पे आना भी बुरा लगता है
Rituraj shivem verma
It was separation
It was separation
VINOD CHAUHAN
मेरे चेहरे से ना लगा मेरी उम्र का तकाज़ा,
मेरे चेहरे से ना लगा मेरी उम्र का तकाज़ा,
Ravi Betulwala
जो लोग धन को ही जीवन का उद्देश्य समझ बैठे है उनके जीवन का भो
जो लोग धन को ही जीवन का उद्देश्य समझ बैठे है उनके जीवन का भो
Rj Anand Prajapati
अफसाने
अफसाने
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
■ उल्टी गंगा गौमुख को...!
■ उल्टी गंगा गौमुख को...!
*प्रणय प्रभात*
“हिचकी
“हिचकी " शब्द यादगार बनकर रह गए हैं ,
Manju sagar
खास होने का भ्रम ना पाले
खास होने का भ्रम ना पाले
पूर्वार्थ
3036.*पूर्णिका*
3036.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सत्य से सबका परिचय कराएं आओ कुछ ऐसा करें
सत्य से सबका परिचय कराएं आओ कुछ ऐसा करें
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
आधुनिक युग और नशा
आधुनिक युग और नशा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
परिस्थितियॉं बदल गईं ( लघु कथा)
परिस्थितियॉं बदल गईं ( लघु कथा)
Ravi Prakash
ख़यालों में रहते हैं जो साथ मेरे - संदीप ठाकुर
ख़यालों में रहते हैं जो साथ मेरे - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
कुपमंडुक
कुपमंडुक
Rajeev Dutta
आज़ाद भारत एक ऐसा जुमला है
आज़ाद भारत एक ऐसा जुमला है
SURYA PRAKASH SHARMA
वतन में रहने वाले ही वतन को बेचा करते
वतन में रहने वाले ही वतन को बेचा करते
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
रात का रक्स जारी है
रात का रक्स जारी है
हिमांशु Kulshrestha
मौन हूँ, अनभिज्ञ नही
मौन हूँ, अनभिज्ञ नही
संजय कुमार संजू
अस्ताचलगामी सूर्य
अस्ताचलगामी सूर्य
Mohan Pandey
मैं हूं आदिवासी
मैं हूं आदिवासी
नेताम आर सी
फितरत
फितरत
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
जागता हूँ मैं दीवाना, यादों के संग तेरे,
जागता हूँ मैं दीवाना, यादों के संग तेरे,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
आप हो न
आप हो न
Dr fauzia Naseem shad
कुछ मुक्तक...
कुछ मुक्तक...
डॉ.सीमा अग्रवाल
उनकी ख्यालों की बारिश का भी,
उनकी ख्यालों की बारिश का भी,
manjula chauhan
उम्मीद का दामन।
उम्मीद का दामन।
Taj Mohammad
तेवरी में रागात्मक विस्तार +रमेशराज
तेवरी में रागात्मक विस्तार +रमेशराज
कवि रमेशराज
Loading...