Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jul 2023 · 1 min read

प्रथम गुरु

प्रथम गुरु

प्रथम गुरु है मातु पिता
रेंगन बोलन सिखलाये हैं
निज हाथों में शर पकड़
जो अपना दुध पिलायें हैं

जानता था कौन तुम्हें यहां
अगर मातु पिता न होते
इस धरा पर लाने को गर
बीज रोपण यदि न करते

यदि प्रथम पुज्य है जग में
मां गौरी पुत्र गणेश
मातृ पितृ भक्ति का जग में
दिया सार मंत्र संदेश

सगुण साकार है मातु पिता
निर्गुण ब्रह्म विचार
पंच प्रकृति पंच परमेश्वर
पवन देव हैं नित साथ

कवि हृदय की सोच है
पंच प्रकृति भगवान
निर्गुण ब्रह्म पवन देव का
नित चरणन धरूं मैं ध्यान

डां विजय कुमार कन्नौजे अमोदी आरंग ज़िला रायपुर छ ग

Language: Hindi
2 Likes · 596 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सधे कदम
सधे कदम
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
माॅ
माॅ
Santosh Shrivastava
अजी क्षमा हम तो अत्याधुनिक हो गये है
अजी क्षमा हम तो अत्याधुनिक हो गये है
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
जब सूरज एक महीने आकाश में ठहर गया, चलना भूल गया! / Pawan Prajapati
जब सूरज एक महीने आकाश में ठहर गया, चलना भूल गया! / Pawan Prajapati
Dr MusafiR BaithA
हम कितने नोट/ करेंसी छाप सकते है
हम कितने नोट/ करेंसी छाप सकते है
शेखर सिंह
Jay shri ram
Jay shri ram
Saifganj_shorts_me
18. कन्नौज
18. कन्नौज
Rajeev Dutta
सर्द और कोहरा भी सच कहता हैं
सर्द और कोहरा भी सच कहता हैं
Neeraj Agarwal
वृद्धों को मिलता नहीं,
वृद्धों को मिलता नहीं,
sushil sarna
Khahisho ki kashti me savar hokar ,
Khahisho ki kashti me savar hokar ,
Sakshi Tripathi
माँ के लिए बेटियां
माँ के लिए बेटियां
लक्ष्मी सिंह
पति मेरा मेरी जिंदगी का हमसफ़र है
पति मेरा मेरी जिंदगी का हमसफ़र है
VINOD CHAUHAN
2358.पूर्णिका
2358.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
परेशानियों का सामना
परेशानियों का सामना
Paras Nath Jha
अनसुलझे किस्से
अनसुलझे किस्से
Mahender Singh
न मिलती कुछ तवज्जो है, न होता मान सीधे का।
न मिलती कुछ तवज्जो है, न होता मान सीधे का।
डॉ.सीमा अग्रवाल
चंद एहसासात
चंद एहसासात
Shyam Sundar Subramanian
********* आजादी की कीमत **********
********* आजादी की कीमत **********
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
मेरी नज़रों में इंतिख़ाब है तू।
मेरी नज़रों में इंतिख़ाब है तू।
Neelam Sharma
Image at Hajipur
Image at Hajipur
Hajipur
#देसी_ग़ज़ल
#देसी_ग़ज़ल
*Author प्रणय प्रभात*
‘ विरोधरस ‘ [ शोध-प्रबन्ध ] विचारप्रधान कविता का रसात्मक समाधान +लेखक - रमेशराज
‘ विरोधरस ‘ [ शोध-प्रबन्ध ] विचारप्रधान कविता का रसात्मक समाधान +लेखक - रमेशराज
कवि रमेशराज
तेरी हर अदा निराली है
तेरी हर अदा निराली है
नूरफातिमा खातून नूरी
मुझको अपनी शरण में ले लो हे मनमोहन हे गिरधारी
मुझको अपनी शरण में ले लो हे मनमोहन हे गिरधारी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
जो लोग ये कहते हैं कि सारे काम सरकार नहीं कर सकती, कुछ कार्य
जो लोग ये कहते हैं कि सारे काम सरकार नहीं कर सकती, कुछ कार्य
Dr. Man Mohan Krishna
सफर पर है आज का दिन
सफर पर है आज का दिन
Sonit Parjapati
*भगवान के नाम पर*
*भगवान के नाम पर*
Dushyant Kumar
कविता तो कैमरे से भी की जाती है, पर विरले छायाकार ही यह हुनर
कविता तो कैमरे से भी की जाती है, पर विरले छायाकार ही यह हुनर
ख़ान इशरत परवेज़
सत्संग शब्द सुनते ही मन में एक भव्य सभा का दृश्य उभरता है, ज
सत्संग शब्द सुनते ही मन में एक भव्य सभा का दृश्य उभरता है, ज
पूर्वार्थ
रिश्ता कभी खत्म नहीं होता
रिश्ता कभी खत्म नहीं होता
Ranjeet kumar patre
Loading...