Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Feb 2024 · 1 min read

प्रतीक्षा

ये उदास सी शाम
कुछ लोहित सा आसमान
सूरज भी ऊबा सा
समुद्र के तट पर लेटा
आख़िरी किरण के डूबने का
इंतज़ार करता था
इंतज़ार मुझे भी था
अंधेरा घिर आने का
रौशनी के खो जाने पर
तुम्हारे आने का
तेरी मधुर याद में मन खोया था
स्मृति के कई बार पढ़े
पन्नों को पलटता था
चित्र कुछ धुँधले थे
जब हम-तुम मिले थे,
साथ-संग हँसे थे
रोये थे, चुप हुए थे…
जिन्दगी रंगीन थी
बेहद हसीन थी,
अचानक ये क्या हुआ?
वो साथ छूट गया
ग़लती कुछ तुम्हारी थी
कुछ नादानी हमारी थी
आज भी याद है
कैसे दिल टूटा था
आँसुओं के सैलाब में
मेरा वज़ूद डूबा था…
आज भी वहीं इंतजार करती हूँ
जहाँ बरसों पहले
हमारा साथ छूटा था,
साथ का वो मंज़र बहुत याद आता है
कभी ये हँसाता कभी ये रुलाता है

1 Like · 60 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मौहब्बत जो चुपके से दिलों पर राज़ करती है ।
मौहब्बत जो चुपके से दिलों पर राज़ करती है ।
Phool gufran
भूल भूल हुए बैचैन
भूल भूल हुए बैचैन
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
दोलत - शोरत कर रहे, हम सब दिनों - रात।
दोलत - शोरत कर रहे, हम सब दिनों - रात।
Anil chobisa
कलियुग
कलियुग
Prakash Chandra
कहाँ चल दिये तुम, अकेला छोड़कर
कहाँ चल दिये तुम, अकेला छोड़कर
gurudeenverma198
लिखने – पढ़ने का उद्देश्य/ musafir baitha
लिखने – पढ़ने का उद्देश्य/ musafir baitha
Dr MusafiR BaithA
Ready for argument
Ready for argument
AJAY AMITABH SUMAN
मुहब्बत मील का पत्थर नहीं जो छूट जायेगा।
मुहब्बत मील का पत्थर नहीं जो छूट जायेगा।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
द्वारिका गमन
द्वारिका गमन
Rekha Drolia
ବାତ୍ୟା ସ୍ଥିତି
ବାତ୍ୟା ସ୍ଥିତି
Otteri Selvakumar
*त्रिजटा (कुंडलिया)*
*त्रिजटा (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
“दुमका दर्पण” (संस्मरण -प्राइमेरी स्कूल-1958)
“दुमका दर्पण” (संस्मरण -प्राइमेरी स्कूल-1958)
DrLakshman Jha Parimal
बरखा रानी
बरखा रानी
लक्ष्मी सिंह
मारी थी कभी कुल्हाड़ी अपने ही पांव पर ,
मारी थी कभी कुल्हाड़ी अपने ही पांव पर ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
पहाड़ चढ़ना भी उतना ही कठिन होता है जितना कि पहाड़ तोड़ना ठीक उस
पहाड़ चढ़ना भी उतना ही कठिन होता है जितना कि पहाड़ तोड़ना ठीक उस
Dr. Man Mohan Krishna
💐अज्ञात के प्रति-127💐
💐अज्ञात के प्रति-127💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
■ आज ऐतिहासिक दिन
■ आज ऐतिहासिक दिन
*Author प्रणय प्रभात*
2753. *पूर्णिका*
2753. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दूर रहकर तो मैं भी किसी का हो जाऊं
दूर रहकर तो मैं भी किसी का हो जाऊं
डॉ. दीपक मेवाती
मैं खुश हूँ! गौरवान्वित हूँ कि मुझे सच्चाई,अच्छाई और प्रकृति
मैं खुश हूँ! गौरवान्वित हूँ कि मुझे सच्चाई,अच्छाई और प्रकृति
विमला महरिया मौज
बुद्ध जग में पार लगा दो ।
बुद्ध जग में पार लगा दो ।
Buddha Prakash
☄️ चयन प्रकिर्या ☄️
☄️ चयन प्रकिर्या ☄️
Dr Manju Saini
बेचारी माँ
बेचारी माँ
Shaily
"दिल चाहता है"
Pushpraj Anant
"भौतिकी"
Dr. Kishan tandon kranti
आत्मीयकरण-2 +रमेशराज
आत्मीयकरण-2 +रमेशराज
कवि रमेशराज
हमको तंहाई का
हमको तंहाई का
Dr fauzia Naseem shad
पेड़ नहीं, बुराइयां जलाएं
पेड़ नहीं, बुराइयां जलाएं
अरशद रसूल बदायूंनी
प्रणय 3
प्रणय 3
Ankita Patel
🙏
🙏
Neelam Sharma
Loading...