Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Dec 2023 · 1 min read

. *प्रगीत*

. प्रगीत
मुझे तुम पसंद हो
122 1212
तुझे मैं पसंद हूँ ।
मुझे तुम पसंद हो।
करें प्यार हम यहाँ ।
आनंद ही आनंद हो ।।मुझे तुम ……
सफर हमसफर यहाँ ।
बनेंगे रिश्ता जहाँ ।
खुशनुमा ये जिंदगी ।
न कोई जयचंद हो ।।मुझे तुम ……
सागर की गहराई ।
अंबर की ऊंचाई ।
धरा अपनी प्यारी।
वक्त सा पाबंद हो ।।मुझे तुम ……
खिलती है कलियां ।
महकती है बगिया।
खुशियाँ देते खेदू।
पुरवाई मंद मंद हो ।।मुझे तुम ……
…….✍ डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
01-12-2023शुक्रवार

165 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*श्रीराम और चंडी माँ की कथा*
*श्रीराम और चंडी माँ की कथा*
Kr. Praval Pratap Singh Rana
बस फेर है नज़र का हर कली की एक अपनी ही बेकली है
बस फेर है नज़र का हर कली की एक अपनी ही बेकली है
Atul "Krishn"
दर्द के ऐसे सिलसिले निकले
दर्द के ऐसे सिलसिले निकले
Dr fauzia Naseem shad
वफा करो हमसे,
वफा करो हमसे,
Dr. Man Mohan Krishna
कभी जलाए गए और कभी खुद हीं जले
कभी जलाए गए और कभी खुद हीं जले
Shweta Soni
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
सही समय पर, सही
सही समय पर, सही "पोज़िशन" नहीं ले पाना "अपोज़िशम" की सबसे बड़ी
*प्रणय प्रभात*
बुंदेली दोहे- गउ (गैया)
बुंदेली दोहे- गउ (गैया)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
एक उलझन में हूं मैं
एक उलझन में हूं मैं
हिमांशु Kulshrestha
जब कोई दिल से जाता है
जब कोई दिल से जाता है
Sangeeta Beniwal
स्त्री
स्त्री
Ajay Mishra
पर्यावरण में मचती ये हलचल
पर्यावरण में मचती ये हलचल
Buddha Prakash
क्या हुआ ???
क्या हुआ ???
Shaily
मन का डर
मन का डर
Aman Sinha
चलो चाय पर करने चर्चा।
चलो चाय पर करने चर्चा।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
दुर्योधन को चेतावनी
दुर्योधन को चेतावनी
SHAILESH MOHAN
कीमत
कीमत
Ashwani Kumar Jaiswal
ये मतलबी ज़माना, इंसानियत का जमाना नहीं,
ये मतलबी ज़माना, इंसानियत का जमाना नहीं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
.
.
NiYa
"रिश्ता"
Dr. Kishan tandon kranti
*वृद्ध-जनों की सॉंसों से, सुरभित घर मंगल-धाम हैं (गीत)*
*वृद्ध-जनों की सॉंसों से, सुरभित घर मंगल-धाम हैं (गीत)*
Ravi Prakash
#drArunKumarshastri
#drArunKumarshastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
रिश्ता ऐसा हो,
रिश्ता ऐसा हो,
लक्ष्मी सिंह
*नमस्तुभ्यं! नमस्तुभ्यं! रिपुदमन नमस्तुभ्यं!*
*नमस्तुभ्यं! नमस्तुभ्यं! रिपुदमन नमस्तुभ्यं!*
Poonam Matia
ज़िंदगी में एक बार रोना भी जरूरी है
ज़िंदगी में एक बार रोना भी जरूरी है
Jitendra Chhonkar
परमेश्वर दूत पैगम्बर💐🙏
परमेश्वर दूत पैगम्बर💐🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
नफ़रतों की बर्फ़ दिल में अब पिघलनी चाहिए।
नफ़रतों की बर्फ़ दिल में अब पिघलनी चाहिए।
सत्य कुमार प्रेमी
बातों की कोई उम्र नहीं होती
बातों की कोई उम्र नहीं होती
Meera Thakur
पूर्वोत्तर का दर्द ( कहानी संग्रह) समीक्षा
पूर्वोत्तर का दर्द ( कहानी संग्रह) समीक्षा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
काश! तुम हम और हम हों जाते तेरे !
काश! तुम हम और हम हों जाते तेरे !
The_dk_poetry
Loading...