Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Feb 2017 · 1 min read

प्रकृति

प्रकृति

प्रकृति ने देखो हमें
दिया है अनोखा उपहार,
हर जगह हरियाली है
प्रकृति से मुझे है प्यार ।

कितने अमूल्य रत्न
समेटे है अपने अन्दर
इसकी अनोखी औषधियां
कर देती हैं जीवन अमर

सोचता हूं मैं रहूं हमेशा
घर से परे, गांव से बाहर ।
हर जगह हरियाली है
प्रकृति से मुझे है प्यार ।

इसकी शीतल वायु से
होती है ठंडक मन में
जाऊं किसी बगीचे में
या जाऊं किसी उपवन में

जहां अकेला मैं रहूं ,
और हो प्रकृति का दुलार
हर जगह हरियाली है
प्रकृति से मुझे है प्यार ।

गहरी नदी और गहरे नाले
इस धरती पर जीव निराले
देख कर इनकी विचित्र बातें
हम हो जाते हैं मतवाले

ऊंचे प्यारे पहाड़ों को देखें
मन लुभा लेते हैं यार ।
हर जगह हरियाली है
प्रकृति से मुझे है प्यार ।
???
?नवल पाल प्रभाकर?

Language: Hindi
549 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जिंदगी में सिर्फ हम ,
जिंदगी में सिर्फ हम ,
Neeraj Agarwal
शाम उषा की लाली
शाम उषा की लाली
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
ऊपर बैठा नील गगन में भाग्य सभी का लिखता है
ऊपर बैठा नील गगन में भाग्य सभी का लिखता है
Anil Mishra Prahari
शरीर मोच खाती है कभी आपकी सोच नहीं यदि सोच भी मोच खा गई तो आ
शरीर मोच खाती है कभी आपकी सोच नहीं यदि सोच भी मोच खा गई तो आ
Rj Anand Prajapati
जिस प्रकार सूर्य पृथ्वी से इतना दूर होने के बावजूद भी उसे अप
जिस प्रकार सूर्य पृथ्वी से इतना दूर होने के बावजूद भी उसे अप
Sukoon
मैं कितना अकेला था....!
मैं कितना अकेला था....!
भवेश
***
*** " आधुनिकता के असर.......! " ***
VEDANTA PATEL
झूठी हमदर्दियां
झूठी हमदर्दियां
Surinder blackpen
2332.पूर्णिका
2332.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
.....★.....
.....★.....
Abhishek Shrivastava "Shivaji"
What consumes your mind controls your life
What consumes your mind controls your life
पूर्वार्थ
छत्तीसगढ़िया संस्कृति के चिन्हारी- हरेली तिहार
छत्तीसगढ़िया संस्कृति के चिन्हारी- हरेली तिहार
Mukesh Kumar Sonkar
प्राप्ति
प्राप्ति
Dr.Pratibha Prakash
■ #मुक्तक
■ #मुक्तक
*Author प्रणय प्रभात*
महान जन नायक, क्रांति सूर्य,
महान जन नायक, क्रांति सूर्य, "शहीद बिरसा मुंडा" जी को उनकी श
नेताम आर सी
हाँ, क्या नहीं किया इसके लिए मैंने
हाँ, क्या नहीं किया इसके लिए मैंने
gurudeenverma198
बाज़ार में क्लीवेज : क्लीवेज का बाज़ार / MUSAFIR BAITHA
बाज़ार में क्लीवेज : क्लीवेज का बाज़ार / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
"खुश होने के लिए"
Dr. Kishan tandon kranti
खुद पर यकीन करके
खुद पर यकीन करके
Dr fauzia Naseem shad
उम्मीदों के आसमान पे बैठे हुए थे जब,
उम्मीदों के आसमान पे बैठे हुए थे जब,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
*कमबख़्त इश्क़*
*कमबख़्त इश्क़*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
कर्म -पथ से ना डिगे वह आर्य है।
कर्म -पथ से ना डिगे वह आर्य है।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
काम दो इन्हें
काम दो इन्हें
Shekhar Chandra Mitra
नाम परिवर्तन
नाम परिवर्तन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"लोकगीत" (छाई देसवा पे महंगाई ऐसी समया आई राम)
Slok maurya "umang"
रंगमंच
रंगमंच
लक्ष्मी सिंह
नालंदा जब  से  जली, छूट  गयी  सब आस।
नालंदा जब से जली, छूट गयी सब आस।
दुष्यन्त 'बाबा'
जंगल में सर्दी
जंगल में सर्दी
Kanchan Khanna
डॉ. नामवर सिंह की दृष्टि में कौन-सी कविताएँ गम्भीर और ओजस हैं??
डॉ. नामवर सिंह की दृष्टि में कौन-सी कविताएँ गम्भीर और ओजस हैं??
कवि रमेशराज
कई वर्षों से ठीक से होली अब तक खेला नहीं हूं मैं /लवकुश यादव
कई वर्षों से ठीक से होली अब तक खेला नहीं हूं मैं /लवकुश यादव "अज़ल"
लवकुश यादव "अज़ल"
Loading...